scriptPension is right, will take it: Rathod | पेंशन हक है, लेकर रहेंगे: राठौड़ | Patrika News

पेंशन हक है, लेकर रहेंगे: राठौड़

-एनपीएस अधिसूचना की होली जलाई

जैसलमेर

Published: December 23, 2021 05:30:09 pm


जैसलमेर. न्यू पेंशन स्कीम एम्पलॉइज फैडरेशन ऑफ राजस्थान संगठन के प्रांतव्यापी आह्वान पर हल्ला बोल आन्दोलन के दूसरे चरण में सभी जिला एवं उपखंड मुख्यालयों पर सामूहिक रूप से सैकड़ों की संख्या में एकत्र होकर राजस्थान के कर्मचारियों ने अर्धसैनिक बलों एवं आईएएस अधिकारियों सहित केन्द्र के 22 लाखए 33 हजारए 348 नो पेंशन स्कीम कर्मचारियों अधिकारियों के पक्ष में एकता का प्रदर्शन करते हुए 22 दिसंबर 2003 को तत्कालीन केंद्र सरकार द्वारा जारी एनपीएस अधिसूचना की प्रतिलिपियों की होली जला कर विरोध प्रदर्शन किया। जिला संयोजक दशरथ सिंह राठौड़ ने बताया कि इस मौके पर कर्मचारियों को संबोधित करते हुए जिला समन्वयक विक्रांत दैया ने कहा कि वर्ष 1857 के पहली स्वतंत्रता आन्दोलन के बाद अंग्रेजों ने देश में राजकीय कर्मचारियों के लिए पेंशन व्यवस्था शुरू की, लेकिन बड़ी विडंबना है कि आजादी के बाद तत्कालीन वाजपेयी सरकार ने कॉरपॉरेट घरानों को फायदा पहुंचाने के लिए को अधिसूचना जारी कर सशस्त्र सेनाओं को छोड़कर 1 जनवरी 2004 के बाद सेवा में आए अर्धसैनिक बलों सहित सभी केन्द्रीय सरकारी कर्मचारियों अधिकारियों की पेंशन छीन लेने का काम किया, जिसके बाद प्रमुख राजनीतिक पार्टियों एवं कॉरपोरेट घरानों के गठजोड़ के चलते केंद्र सरकार के दबाव में संविधान के भाग 11 की 7वीं अनुसूची के अनुच्छेद 245 से 255 की भावना का उल्लंघन करते हुए पश्चिम बंगाल को छोड़कर सभी राज्य सरकारों ने कर्मचारियों पर शेयर बाज़ार आधारित नवीन अंशदायी पेंशन योजना थोंप दी, जो पेंशन योजना न होकर म्युचुअल फंड योजना है । कर्मचारी महासंघ एकिकृत के जिलाध्यक्ष रावल सिंह बडोङा गांव एवं शिक्षक संघ युवा के महिपाल उज्ज्वल ने बताया कि अब कर्मचारियों के आन्दोलन एवं एकजुटता की वजह से पुरानी पेंशन एक राजनीतिक मुद्दा बन चुका है। रेसला के मुख्तयार अली एवं शिक्षक संघ युवा के अमित कुमार व्यास ने कहा कि पुरानी पेंशन कर्मचारियों का हक़ है और देश का कर्मचारी अधिकारी व्यापक एकजुटता पैदा कर संगठित आंदोलनों के चलते पुरानी पेंशन लेकर रहेगा। इस अवसर पर नवीन सोनी, स्वरूपसिंह डांवरा, धर्मेन्द्र रतनू, हरीश कुमार देवा, नवीनपुरी, बचना राम, रामप्रकाश, संजय सोनी, जोरावरसिंह, मनोहरगिरी, प्रकाश चौहान, टीकमचंद भार्गव, मोहम्मद यूनिस, राकेश भार्गव, अरुण गोयल ने विचार व्यक्त किए।
पेंशन हक है, लेकर रहेंगे: राठौड़
पेंशन हक है, लेकर रहेंगे: राठौड़

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहदुल्हन के लिबाज के साथ इलियाना डिक्रूज ने पहनी ऐसी चीज, जिसे देख सब हो गए हैरानकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेश

बड़ी खबरें

UP Assembly Elections 2022 : गृहमंत्री अमित शाह ने दूर की पश्चिम के जाटों की नाराजगी, जाट आरक्षण को लेकर कही ये बातटाटा ग्रुप का हो जाएगा अब एयर इंडिया, कर्मचारियों को क्या होगा फायदा और नुकसान?झारखंड में नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उड़ाया रेलवे ट्रैक, राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का रूट बदलाBudget 2022: इस साल भी पेश होगा डिजिटल बजट, जानें कैसे होगी छपाईजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रSchool Closed: यूपी में 15 फरवरी तक बंद हुए सभी स्कूल-कॉलेज, Online Classes जारी रहेंगीUP Police Recruitment 2022 : यूपी पुलिस में हाईस्कूल पास युवाओं के लिए निकली बंपर भर्तियां, जानें पूरी डिटेलहिजाब के बिना नहीं रह सकते तो ऑनलाइन कक्षा का विकल्प खुला : भट्ट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.