टिड्डियों ने भरवाए सारे रिक्त पद! जैसलमेर के कृषि विभाग में 77 कार्मिकों की पोस्टिंग

टिड्डियों ने भरवाए सारे रिक्त पद! जैसलमेर के कृषि विभाग में 77 कार्मिकों की पोस्टिंग

Deepak Vyas | Updated: 14 Jun 2019, 06:07:15 PM (IST) Jaisalmer, Jaisalmer, Rajasthan, India

वर्षों से सीमावर्ती जैसलमेर जिले के कृषि विभाग में अधिकारियों और कार्मिकों के पदों पर एक ही आदेश में नियुक्त किया जाना चर्चा का विषय बन गया है। कृषि आयुक्तालय की ओर से जारी आदेश में 77 जनों को प्रदेश भर से जैसलमेर जिले में पदस्थापित किया गया है।

जैसलमेर. वर्षों से सीमावर्ती जैसलमेर जिले के कृषि विभाग में अधिकारियों और कार्मिकों के पदों पर एक ही आदेश में नियुक्त किया जाना चर्चा का विषय बन गया है। कृषि आयुक्तालय की ओर से जारी आदेश में 77 जनों को प्रदेश भर से जैसलमेर जिले में पदस्थापित किया गया है। जिनमें कृषि अनुसंधान अधिकारी तथा कृषि अधिकारी के एक-एक पद के साथ एक दर्जन सहायक कृषि अधिकारी तथा ६३ कृषि पर्यवेक्षकों को यहां लगाया गया है। ये पद पिछले कई वर्षों से रिक्त चल रहे थे, जिससे कृषि विभाग संबंधी गतिविधियों के संचालन में दिक्कतें पेश आ रही थी। सीमावर्ती जैसलमेर में कृषि विभाग के इन कार्मिकों को पिछले दिनों टिडï्डी दलों के हमले के बाद उपजे हालात के मद्देनजर लगाया गया है। आयुक्तालय की ओर से जारी आदेश में भी कहा गया कि जैसलमेर जिले में टिड्डी प्रकोप के प्रवेश, विस्तार और पुन: प्रकटन से होने वाली व्यापक हानि से बचाव व रोकथाम कार्यों का सम्पादन करने के लिए रिक्त चल रहे पदों को तत्काल भरा जाना अत्यंत आवश्यक है जिससे क्षेत्र में तकनीकी जानकारी का सम्प्रेषण, बचाव और रोकथाम के सभी उपाय करवाए जा सके। गौरतलब है कि जैसलमेर स्थित उपनिदेशक, कृषि विस्तार विभाग की ओर से भी विभागीय उच्चाधिकारियों को टिड्डी दलों की सूचना व रोकथाम के संबंध में जरूरी कार्रवाई करने में रिक्त पदों के कारण लाचारी जताई गई थी। जिले के पोकरण उपखंड क्षेत्र में विविध स्थानों पर टिड्डियों के आगमन से राज्य स्तर तक चिंता के हालात बन गए थे
पूर्व में तबादले हुए थे, आया नहीं था कोर्ई
गौरतलब है कि वर्षों पूर्व जिले में नियुक्त 30 कृषि पर्यवेक्षकों में से 29 व एक वरिष्ठ कृषि पर्यवेक्षक का स्थानान्तरण कर दिया गया था और उनकी जगह लेने कोई नहीं आया था। जिससे जिले के किसानों को समय पर कृषि योजनाओं और नई तकनीक की जानकारी नहीं मिल पा रही थी। अब जो थोकबंद तबादले किए गए हैं, उनमें से भी कितने अधिकारी व कार्मिक यहां आकर कार्यभार संभालेंगे, अभी नहीं कहा जा सकता। जानकारों के अनुसार जैसलमेर जिला प्रदेश में सबसे दूरस्थ माना जाता है और यहां आकर सेवाएं देने से आमतौर पर अधिकारी व कार्मिक कतराते रहे हैं। यही वजह है कि मंत्री व उच्चाधिकारी तक कई बार मातहत कार्मिकों को सीमांत जैसलमेर जिले में तबादला करने की धमकियां देते रहे हैं।

फील्ड में कमी थी
कृषि आयुक्तालय की ओर से कृषि अधिकारियों और पर्यवेक्षकों के ७७ पदों पर नियुक्ति किए जाने से कामकाज सुचारू होने में मदद मिलेगी। खासतौर पर फील्ड में कार्य करने वालों की कमी दूर होगी। टिड्डी दलों के आगमन के बाद हमारी ओर से रिक्त पदों की ओर ध्यान दिलाया गया था।
- राधेश्याम नारवाल, उपनिदेशक, कृषि विस्तार, जैसलमेर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned