बालिका शिक्षा को बढ़ावा दें, महिला सशक्तिकरण को सम्बल

-लौद्रवा एवं रूपसी आंगनवाड़ी केन्द्रों का निरीक्षण, ग्राम्य महिलाओं से संवाद

By: Deepak Vyas

Published: 16 Dec 2020, 01:29 PM IST

जैसलमेर. महिला अधिकारिता विभाग की ओर से बालिकाओं एवं महिलाओं के सर्वांगीण उत्थान एवं सशक्तिकरण के लिए कवायद की जा रही है। इसके तहत कई योजनाओं और कार्यक्रमों का संचालन किया जा रहा है। बालिकाएं और महिलाएं शिक्षा-दीक्षा और आत्मनिर्भरता की ओर कदम बढ़ाएं। यह आह्वान जिला महिला शक्ति केन्द्र की जिला महिला कल्याण अधिकारी चन्द्रा राठौड़ एवं जिला समन्वयक रीना छंगानी ने लौद्रवा एवं रूपसी आँगनवाड़ी केन्द्रों में ग्राम्य महिलाओं से संवाद कार्यक्रम में किया। दोनों ने आंगनवाड़ी केन्द्रों की गतिविधियों का निरीक्षण कर आंगनवाड़ी की सेवाओं को और अधिक प्रभावी बनाने के निर्देश दिए गए।
महिलाएं जागरुक रहकर आगे आएं
दोनों महिला अधिकारियों ने सरकार की ओर से महिला उत्थान के लिए संचालित गतिविधियों, योजनाओं और कार्यक्रमों के बारे मेें विस्तार से जानकारी दी और योजनाओं का लाभ लेने की प्रक्रिया के बारे में अवगत कराया। उन्होंने कहा कि ग्राम्य महिलाएं स्वयं भी इनका लाभ लें और अपने घर.परिवार तथा मोहल्ले एवं गांव की दूसरी महिलाओं को भी प्रेरित करें ताकि महिला सशक्तिकरण के उद्देश्यों को पूरा करते हुए लक्ष्यों को सहजतापूर्वक प्राप्त किया जा सके। जिला महिला कल्याण अधिकारी राठौड़ एवं जिला समन्वयक श्रीमती छंगानी ने बालिकाओं एवं महिलाओं के अधिकारों की जानकारी देते हुए कहा कि इसके लिए समाज में सकारात्मक संदेश संवहित करने की जरूरत है। इस दौरान बेटी बचाओ.बेटी पढ़ाओ योजना के अन्तर्गत प्रसूति सहायता योजना, सुकन्या समृद्धि योजना, राजश्री योजनाए मातृत्व वन्दना योजना आदि के बारे में ग्रामीण महिलाओं को विस्तार से समझाया गया। संवाद में ग्राम्य महिलाओं की जिज्ञासाओं का समाधान करने के साथ ही बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने एवं कन्या भू्रण हत्या को रोकने के लिए जागरूकता संकल्प दिलाया गया।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned