scriptPunishment for being 224 km away from Swarnanagari, dry throats of 10 | स्वर्णनगरी से 224 किलोमीटर दूर होने की सजा, नहर के किनारे 10 हजार बाशिंदों के सूखे कंठ | Patrika News

स्वर्णनगरी से 224 किलोमीटर दूर होने की सजा, नहर के किनारे 10 हजार बाशिंदों के सूखे कंठ

-तीन जिलों की त्रिवेणी पर बसे नोख क्षेत्र में पहले क्लोजर की मार, अब उदासीन जिम्मेदार
-जलापूर्ति अनियमित होने से नहर के पास बसे क्षेत्र में पेयजल संकट

जैसलमेर

Updated: June 19, 2022 08:27:04 pm

नोख (जैसलमेर). सरहदी जैसलमेर जिले से 224 किलोमीटर दूर बसा, लेकिन तीन जिलों की त्रिवेणी पर बसा नोख की पहचान नहरी क्षेत्र के तौर पर है, लेकिन विडंबना यह है कि यहां के बाशिंदों के कंठ अभी सूखे हैं। जिले के अंतिम छोर पर स्थित नोख गांव में क्लोजर के बाद भी पेयजल संकट पूरी तरह से दूर नहीं हुआ है। गत दिनों नहरी पेयजल आपूर्ति ठप होने से ग्रामीणों को पेयजल संकट का सामना करना पड़ा था, अभी भी नियमित व शुद्ध पेयजल आपूर्ति नहीं हो पाई है । गत माह नहर में क्लोजर के बाद से ही नोख में पेयजल आपूर्ति लडख़ड़ाई हुई है। क्लोजर खत्म होने के बाद भी नोख के आपूर्ति स्थल पीएसदो से कभी मोटर खराब होने तो कभी विद्युत व्यवधान उत्पन्न होने के कारण पेयजल आपूर्ति प्रभावित हो गई थी, तो मोटर ठीक होने के बाद भी विद्युत व्यवधान परेशानियों का कारण बना हुआ है । गौरतलब है कि नोख में राजीव गांधी लिफ्ट नहर के पम्पिंग स्टेशन नंबर दो से पाइप लाइन की ओर से पेयजल आपूर्ति की जाती है और अधिकतर पेयजल आपूर्ति ट्रैक्टर टेंकरों पर ही निर्भर है ।
स्वर्णनगरी से 224 किलोमीटर दूर होने की सजा, नहर के किनारे 10 हजार बाशिंदों के सूखे कंठ
स्वर्णनगरी से 224 किलोमीटर दूर होने की सजा, नहर के किनारे 10 हजार बाशिंदों के सूखे कंठ
फैकट फाइल
-224 किलोमीटर जिला मुख्यालय से दूर स्थित है नोख क्षेत्र
-10 हजार की आबाद प्रभावित हो रही जलापूर्ति सुचारू नहीं होने से
-12 किलोमीटर दूर स्थित है नोख क्षेत्र आपूर्ति स्थल से
कभी था आधार अब हुआ लाचार
नोख क्षेत्र के परम्परागत पेयजल स्त्रोत खुले कुएं नहर आने से पहले न केवल नोख बल्कि तीन जिलों जैसलमेरए बीकानेर व जोधपुर के दर्जनों गांवों व ढाणियों तथा बोर्डर तक मीठे पानी के सबसे बड़े साधन थे, लेकिन कालांतर में इन कुओं का जलस्तर घटने व आसपास के क्षेत्र में नहर से पेयजल आपूर्ति के बाद आसपास के क्षेत्र में नहरी पानी की पेयजल के रूप में आपूर्ति शुरू हो गई थी, लेकिन सम्पूर्ण क्षेत्र के मीठे पेयजल आपूर्ति के आधार नोख में लम्बे समय से पेयजल व्यवस्था लडख़ड़ाई हुई है । हालांकि नोख में भी गत एक दशक से भी अधिक समय से नोख में भी नहर से पानी की आपूर्ति पेयजल आपूर्ति की जा रही है, लेकिन विभागीय उदासीनता के कारण नोख में हर समय पेयजल संकट बना रहता है।
क्लोजर से बदतर है स्थिति
नहर में लम्बे समय तक क्लोजर के बाद आपूर्ति शुरू होने के बाद जहां कई क्षेत्रों में पेयजल आपूर्ति सुचारू हो गई है तो नोख गांव में अभी भी पेयजल संकट बना हुआ है । विभाग की ओर से नोख की पेयजल आपूर्ति की ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है । हालात क्लोजर से भी बदतर हो गए है, क्योंकि क्लोजर में तो आपूर्ति नहीं होने से लोगों को पानी का इंतजार नहीं रहता था, लेकिन अब क्लोजर खत्म होने के बाद भी लोग नियमित पानी के आने का इंतजार कर रहे हैं ।
कछुआ भी शरमा जाए
नोख में गत वर्षों में नहर से पेयजल आपूर्ति की योजनाएं तो बनी, लेकिन उसका सही लाभ नोख के वाशिंदों को नहीं मिला है । एक दशक पहले पीएस दो से पाइप लाईन से पेयजल आपूर्ति शुरू की गई थी, लेकिन विभागीय उदासीनता के कारण आज भी पेयजल आपूर्ति लडख़ड़ाई रहती है तो शुद्ध पेयजल आज भी सपना ही बना हुआ है। इसी तरह हाल ही में जल जीवन मिशन के तहत पेयजल योजना भी बनी है, लेकिन उसका कार्य भी अभी तक शुरू नहीं होने से पेयजल समस्या जस की तस बनी हुई है ।
झेल रहे परेशानी
नोख गांव में पेयजल आपूर्ति कभी लाइट नहीं है तो कभी मोटर खराब होने से प्रभावित हो जाती है । इससे भारी परेशानी उठानी पड़ रही है।
-नखतसिंह परिहार, ग्रामीण

नोख गांव में पेयजल संकट बना हुआ है । सरकार व विभाग को जल्द से जल्द नियमित आपूर्ति शुरू करवा राहत देने की जरूरत है।
-लीलाधर माली, ग्रामीण

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: क्या फ्लोर टेस्ट में बच पाएगी MVA सरकार! यहां समझे पूरा गणितMaharashtra Political Crisis: शिवसेना में बगावत के बाद अब उपद्रव का डर! पोस्टर वॉर के बीच एकनाथ शिंदे के गढ़ ठाणे में धारा 144 लागूMaharashtra Political Crisis: नवनीत राणा ने की महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग, बोलीं- उद्धव ठाकरे की गुंडागर्दी खत्म होनी चाहिएBPSC Paper Leak: पेपर लीक मामले में गिरफ्तार हुए JDU नेता शक्ति कुमार, सबसे पहले पेपर स्कैन कर WhatsApp पर था भेजाAmarnath Yatra: अमरनाथ यात्रा से 4 दिन पहले प्रशासन अलर्ट, सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उठाया बड़ा कदमMumbai News Live Updates: महाराष्ट्र विधानसभा के डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल के खिलाफ नया अविश्वास प्रस्ताव पेशMaharashtra Political Crisis: एक्शन में शिवसेना! अयोग्य करार देने के लिए डिप्टी स्पीकर को भेजा 4 और MLA के नाम, 16 बागियों पर भी कार्रवाई की तैयारीAmit Shah on 2002 Gujarat Riots: गुजरात दंगों पर SC के फैसले के बाद बोले अमित शाह, PM मोदी को इस दर्द को झेलते हुए देखा है
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.