यह कैसी हो रही देखभाल? कोरोना से पीडि़त बुजुर्ग की कोविड सेंटर में मौत से उठे सवाल

- चिकित्सा महकमे की लापरवाही जग जाहिर हुई

By: Deepak Vyas

Published: 05 Sep 2020, 12:24 PM IST

जैसलमेर. जैसलमेर में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच शुक्रवार अलसुबह माहेश्वरी हॉस्पीटल स्थित कोविड केयर सेंटर में संक्रमित बुजुर्ग की मौत से समूची व्यवस्था पर सवालिया निशान खड़ा हो गया है। कोरोना पॉजिटिव करीब 80 वर्षीय जैसलमेर निवासी बुजुर्ग सेंटर में भर्ती थे और शुक्रवार को वहां बाथरूम में कई घंटों तक उनके गिरे होने के बावजूद उन्हें संभालने कोई चिकित्सक या कार्मिक नहीं पहुंचा। बाद में जब कई प्रयासों के बावजूद चिकित्सकीय टीम वहां पहुंची तब तक वृद्ध ने दम तोड़ दिया था। इस घटना से बुजुर्ग के परिवारजनों सहित शहरवासियों में रोष व्याप्त हो गया है और कोविड केयर सेंटरों में उपचार करवा रहे लोगों के बीच दहशत कायम हो गई है। बुजुर्ग का कोविड गाइडलाइन के अनुसार अंतिम संस्कार किया गया।
किसी ने नहीं संभाला
दिवंगत बुजुर्ग के पुत्र ने बताया कि उनके परिवार के कई सदस्य संक्रमित होने के बाद कोविड सेंटर में इलाज करवा रहे हैं। इनमें उनके 80 वर्षीय पिता भी शामिल थे। गुरुवार-शुक्रवार की दरम्यानी रात को वे बाथरूम गए और वहीं गिर गए। अलसुबह करीब 6 बजे बुजुर्ग के पौत्र ने उन्हें देखा और चिल्ला कर चिकित्साकर्मियों को बुलाने के लिए आवाजें दी। मगर कोई वहां नहीं पहुंचा। उसने फिर अपने घरवालों को सूचना दी। जिन्होंने स्वयं तथा अन्य परिचितों ने सीएमएचओ को फोन किया तो जवाब नहीं मिला। किसी ने जिला कलक्टर व अन्य प्रशासनिक अधिकारियों को इस घटना के बारे में सूचित किया तब भी करीब एक घंटे बाद जवाहर चिकित्सालय से फिजिशियन मय टीम वहां पहुंचे। उन्होंने जांच कर बताया कि बुजुर्ग की मौत हो चुकी है। कुल मिलाकर समय पर उपचार के अभाव में वृद्ध व्यक्ति की जान चली गई।
अधिकारियों ने लिया जायजा
जिला कलक्टर आशीष मोदी ने नगर विकास न्यास के सचिव अनुराग भार्गव को व्यवस्थाओं का जायजा लेने वहां भेजा। सीएमएचओ डॉ. बीके बारूपाल व पीएमओ डॉ. वीके वर्मा भी वहां पहुंचे। भार्गव ने बताया कि वे अपनी रिपोर्ट जिला कलक्टर को सौंपेंगे।
उभरे विरोध के स्वर
कोरोना संक्रमित बुजुर्ग की दर्दनाक मौत के बाद कोविड केयर सेंटरों पर चिकित्सा विभाग की व्यवस्थाओं की पोल खोलते हुए कई भुगतभोगियों ने बताया कि वहां रात के समय किसी तरह की निगरानी व्यवस्था नहीं है। रक्तचाप, मधुमेह जैसी बीमारियों से ग्रस्त पॉजिटिव लोगों की भी किसी तरह की जांच यहां नहीं करवाई जा रही और चिकित्सक गिनी-चुनी दवाइयां दूर से ही दे देते हैं। कोविड सेंटरों में साफ-सफाई व्यवस्था के भी बुरे हाल हैं। यहां शुक्रवार को वृद्ध की मौत होने के बाद पहली बार समूचे तौर पर सफाई करवाई गई। लोगों का कहना है कि जब केयर सेंटर में किसी तरह की देखभाल नहीं की जा रही है, तो घर से यहां लाकर रखे जाने की क्या जरूरत है?
लापरवाही मिली तो कार्रवाई करेंगे
कोविड सेंटर में पॉजिटिव वृद्ध की मौत तथा सेंटर में व्यवस्थाओं की विस्तार से जांच करवाई जाएगी। अगर किसी की लापरवाही पाई गई तो कार्रवाई करेंगे। वैसे प्रारंभिक जांच में यह सामने आया है कि परिवारजनों द्वारा सूचित किए जाने के बाद वहां पदस्थापित कम्पाउंर हरकत में आया और उसने बिना पीपीई किट पहने ही उन्हें चैक किया तथा चिकित्सकों को अवगत करवाया। चिकित्सा टीम भी जानकारी मिलते ही थोड़ी देर पहुंच गई।
- आशीष मोदी, जिला कलक्टर जैसलमेर।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned