JAISALMER NEWS- बैंक एटीएम जाने पर यह आती है दुविधा

एसबीआई के पास कैश का टोटा, एटीएम खाली- गत दो माह से शहर और गांवों में कायम समस्या

By: jitendra changani

Published: 24 Mar 2018, 10:27 PM IST

- एटीएम से कई बार निकल जाते हैं कटे-फटे नोट
जैसलमेर . देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) के पास जैसलमेर में कैश की किल्लत लोगों के लिए परेशानी बनी हुई है। पिछले करीब दो माह से एसबीआई के जैसलमेर शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित एटीएम में अपर्याप्त करेंसी के चलते उपभोक्ताओं को निराशा का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा एसबीआई ही नहीं अन्य बैंकों के एटीएम से कटे-फटे नोट निकलने की समस्या ने भी लोगों को सांसत में डाल रखा है। बीते गुरुवार को हनुमान चौराहा के पास वाले एटीएम से कई लोगों को दो हजार के फटे नोट मिले। इससे वे सकते में आ गए। यहां स्थानीय बाशिंदों के अलावा कुछ सैलानी भी थे।
कैश की सप्लाई मंदी
जानकारी के अनुसार एसबीआई बैंक प्रबंधन शहर और गांवों में आए करीब 35 एटीएम में मांग के मुकाबले करेंसी की पर्याप्त सप्लाई कर पाने में असमर्थ है। एसबीआई में एसबीबीजे का विलय हो जाने से उसके शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के एटीएम भी अब एसबीआई के अधीन आ गए हैं। एसबीआई प्रबंधन मांग की आधी करेंसी भी अपने उपभोक्ताओं को मुहैया नहीं करवा पा रहा है। हालांकि अन्य सरकारी व निजी क्षेत्र की बैंकों के एटीएम में कैश की इतनी किल्लत नहीं है। बैंक से जुड़े लोगों का कहना है कि नई करेंसी की सप्लाई उच्च स्तर से नहीं हो पा रही है। वे आगामी अप्रेल माह से स्थितियों में सुधार आने की उम्मीद जता रहे हैं।

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

फटे नोटों का क्या करें
एक तरफ एसबीआई के एटीएम की स्क्रीन पर ‘कैश अनअवेलेबल’ की इबारत कई बार देखने को मिलती है, दूसरी ओर एसबीआई के साथ अन्य बैंकों के एटीएम से कटे-फटे नोटों के निकलने का सिलसिला बदस्तूर कायम है। ऐसे नोटों को बदलने की प्रक्रिया जटिल होने से उपभोक्ताओं को आर्थिक चपत लग रही है।
सिक्कों ने बढ़ाया सिरदर्द
जैसलमेर के बाजार में सिक्कों की समस्या ने दुकानदारों के साथ आमजन का सिरदर्द बढ़ा दिया है। बाजार में 5 और 10 रुपए के सिक्के कई लोग लेते ही नहीं। उनका कहना है कि, बैंक उनसे सिक्के नहीं लेता तथा न ही थोक विक्रेता सिक्के स्वीकार करते हैं। ऐसे में वे ग्राहकों से 5 और 10 के सिक्के स्वीकार करने में हिचक दिखाते हैं। जबकि रिजर्व बैंक स्वयं कई बार खुलासा कर चुका है कि सिक्के लेने से कोई इनकार नहीं कर सकता।

फैक्ट फाइल -
-35 एटीएम करीब एसबीआई के
-50 फीसदी मांग को पूरा नहीं कर पा रहा बैंक
-06 करोड़ रुपए की रोजाना एटीएम से निकासी

Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned