Silent Hero: इनकी बदौलत पोकरण में खुली कोरोना की हिस्ट्री

-दो अधिकारियों के निर्देशन में जवानों ने किया कार्य, पोकरण में खोली कोरोना की चैन
-इनके भरोसे सुरक्षित नींद ले रहे परमाणु नगरी के वाशिंदे

By: Deepak Vyas

Published: 19 Apr 2020, 08:53 PM IST

पोकरण. अपने घरों से 100 किमी की दूरी पर बैठे दो अधिकारी, जिन्होंने अपनी नींद को खराब कर पोकरण के बाशिंदों को चैन की नींद सुपुर्द की है। राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी पोकरण के पुलिस उपाधीक्षक मोटाराम गोदारा व पुलिस निरीक्षक पोकरण थानाधिकारी सुरेन्द्र कुमार प्रजापति, इन दो जाबांज पुलिस अधिकारियों ने पोकरण में कोरोना वायरस संक्रमण की चैन खोली। वर्तमान में पोकरण में 30 कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीज है। हालांकि इनमें से एक व्यक्ति की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है तथा उसे छुट्टी भी मिल चुकी है। गत 22 मार्च को सरकार की ओर से लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई। इस दौरान परमाणु नगरी पोकरण में कानून एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने का कार्य इन अधिकारियों के जि मे आ गया। इसके बाद उनकी ओर से कार्य में तेजी लाई गई और यहां कोरोना वायरस संक्रमितों की पहचान कर चिकित्सा विभाग के सहयोग से उन्हें आइसोलेट किया तथा पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर उन्हें जोधपुर भर्ती करवाया। इसके बाद लगातार मिले 30 मरीजों का श्रेय भी इन्हीं अधिकारियों को जाता है।
तीन दिन तक भूल गए भोजन व सोना
बाड़मेर जिलांतर्गत बायतु थानाक्षेत्र के नरसाली नाडी निवासी पुलिस उपाधीक्षक मोटाराम गोदारा गत एक वर्ष से, तो लोहावट निवासी थानाधिकारी सुरेन्द्रकुमार प्रजापति कुछ माह से पोकरण में कार्यरत है। 22 मार्च को लॉकडाउन होने के बाद प्रत्येक गतिविधि पर नजर रखने के साथ क्षेत्र में कानून एवं शांति व्यवस्था स्थापित करने में जुटे हुए थे। दो अप्रेल को उन्हें जानकारी मिली कि पोकरण में भी तबलीगी जमात के लोगों की आवक हुई थी। इसके बाद उन्होंने न तो नींद ली, न ही भोजन किया। केवल तबलीगी जमात के संपर्क में आए लोगों की कॉन्टेक्ट हिस्ट्री खोलने में जुट गए। गत 2 से 5 अप्रेल तक इन अधिकारियों ने पूरी मोनीटरिंग करते हुए पहले पॉजिटिव को खोज निकाला। गत 5 अप्रेल को जब पहला पॉजिटिव मिला, तो इनकी जिम्मेवारी और अधिक बढ़ गई।
...और खुलते रहे पन्ने, मिलते गए पॉजिटिव
पुलिस के इन अधिकारियों ने पुलिस थाने के क प्यूटर व कंट्रोल रूम को नहीं छोड़ा। पूरी मुस्तैदी के साथ अधिकारियों व जवानों की ओर से किए जा रहे कार्य की मोनीटरिंग की। पांच अप्रेल के बाद अपने दायित्व व कर्तव्य का बेहतर तरीके से निर्वहन करते हुए उन्होंने इस प्रकार कार्य किया कि कॉन्टेक्ट हिस्ट्री के पन्ने खुलने के साथ पॉजिटिव लोगों की संख्या भी बढ़ती रही। पुलिस की कार्यशैली की बदौलत ही पोकरण में कोरोना की चैन मिली।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned