सुप्त पर्यटन को मिला सम्बल, मेहमानों ने भरी झोली

-सैलानियों की उम्मीद से बढ़कर आवक
-अब नव वर्ष से बंधी पर्यटन व्यवसायियों को उम्मीदें

By: Deepak Vyas

Updated: 22 Nov 2020, 06:50 PM IST

जैसलमेर. दिवाली से लाभ पंचमी तक पड़ोसी गुजरात प्रांत के हजारों सैलानी जैसलमेर उमड़े तो शनिवार.रविवार की छुट्टियां होने से देशी पर्यटकों का प्रवाह अभी बना हुआ है। गत दिनों के दौरान पर्यटकों की भारी भीड़ उमडऩे से सम सेंड ड्यून्स व उसके आसपास स्थित कम से कम 50 रिसोट्र्स में हाउसफुल के हालात बन गए। दिन में सोनार दुर्ग, पटवा हवेलियों व शहर में नजर आने वाले सैलानी शाम के समय सम के रेतीले धोरों पर दिखे। उनकी पहली पसंद रिसोर्ट में रात बिताने की रही। वहां उन्होंने राजस्थानी गीत-संगीत का लुत्फ उठाने के साथ देशी व्यंजनों का स्वाद लिया। ऐसे प्रत्येक रिसोर्ट में चार दिन के दौरान 500 से 1200 या उससे भी ज्यादा सैलानी ठहरे हैं। शहर व आसपास की सितारा होटलों में सारे कमरे भरे रहे। रेस्टोरेंट्स में भी अच्छा व्यवसाय हुआ। मध्यम श्रेणी की होटलों के करीब आधे कमरे भर गए।
दिसम्बर में बम्पर सीजन का अनुमान
दिवाली से कुछ दिन पहले तक स्वर्णनगरी के सभी पर्यटन स्थल लगभग खाली नजर आ रहे थे। इससे पर्यटन व्यवसायियों की उम्मीदें धूल धुसरित होती नजर आईए लेकिन बाद में मंजर बदल गया। गुजराती सैलानी हर बार की भांति दिवाली के मौके पर जैसलमेर में उमड़ आए। वहां के अहमदाबादए सूरतए बड़ौदराए डीसाए पालनपुर आदि शहरों के रहवासी अपने परिवारजनों व मित्रों के साथ निजी साधनों से जैसलमेर पहुंचे। दिवाली पर इतने सैलानियों के आगमन की उम्मीद स्वयं पर्यटन व्यवसायियों ने भी नहीं की थी। अब उन्हें आगामी दिसम्बर माह में क्रिसमस और नववर्ष मनाने के लिए बम्पर सीजन रहने की आशा है।

फैक्ट फाइल
-08 लाख से ज्यादा सैलानी जैसलमेर आते हैं प्रतिवर्ष
-08 माह कोरोना के कारण पर्यटन रहा कमजोर
-10 हजार से ज्यादा परिवार पर्यटन पर सीधे निर्भर

भविष्य को लेकर उम्मीदें बढ़ी
दिवाली सीजन में देशी सैलानियों की अनपेक्षित आवक ने पर्यटन व्यवसाय को डूबने से एक बार बचा लिया। आगामी महीना सबसे ज्यादा भीड़ वाला होना चाहिए। हम आशा करते हैं कि इस दौरान कोरोना के हालात नियंत्रण में रहें और लम्बी दूरी की ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाए। सैलानियों की सेवा में कोई कसर नहीं रखी गई है।
-कैलाश व्यास, अध्यक्ष, सम रिसोट्र्स वेलफेयर सोसायटी

पर्यटकों पर निर्भर अर्थव्यवस्था
जैसलमेर के हजारों परिवार पर्यटन पर आश्रित हैं। दिवाली की भांति अगर क्रिसमस व न्यू इयर सीजन गुलजार रहा तो पर्यटन व्यवसाय काफी हद तक संभल जाएगा। पिछले महीने हम सभी के लिए बहुत संकट भरे गुजरे हैं।
. भैरूसिंह राठौड़, रिसोर्ट व्यवसायी

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned