scriptSpecial on World Environment Day: If moisture is used, then talk shoul | विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेष: नमी का उपयोग हो तो बात बने | Patrika News

विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेष: नमी का उपयोग हो तो बात बने

गेस्ट राइटर- डॉ. नारायणदास इणखिया, भू-जल वैज्ञानिक

 

जैसलमेर

Published: June 04, 2022 08:31:30 pm

तमाम सरकारी योजनाओं, बढ़े कृषि क्षेत्र और पानी की उपलब्धता के बावजूद भी मरुधरा का कायाकल्प आशा के अनुरूप नहीं हो पाया है। बारिश का औसत सुधरा तो है, लेकिन अनियमित वर्षा फायदा नहीं दे रही है। अकाल अभी भी समस्या बना हुआ है। सरकार के राजस्व का बड़ा हिसा पशु चारे के प्रबंधन और अनुदान मे खर्च हो रहा है। जब तक मरुभूमि मे पर्यावरण के प्रति लोगो का जुड़ाव नहीं होगा बदलाव भी संभव नहीं होगा। पेयजल की व्यवस्था और पशुधन के बचाव के लिए लोगो और सरकार को यूं ही जूझना होगा। मरुभूमि के लिए सुखद बात यह है कि पानी की उपलब्धता बढ़ी है। नहरी पानी और भू-जल आज हर गांव ढाणी मे पहुंच रहा है, लेकिन सहज उपलब्ध हो रहे जल के कारण लोग पानी के प्रति लापरवाह भी हुए हैं। अनेक जगहों पर पानी को व्यर्थ बहता देखा जा सकता है। विशेष कर जलदाय विभाग की पानी आपूर्ति करने वाले जीएलआर के पास हर कही पानी का जमाव, कीचड देखा जा सकता है। इस पानी और इसकी नमी का उपयोग अगर व्यवस्थित रूप से हो तो गावों में पौधरोपण को गति मिल सकती है। नमी के इस तरह के उपयोग गावों मे छोटे छोटे वन क्षेत्र बन सकते है। इसका सीधा असर पर्यावरण पर पड़ेगा। वर्तमान में लगभग सभी घरों में स्नानघर और रसोई की व्यवस्था भी अब आम बात है। पेयजल का एक बड़ा भाग रोज बाथरूम और किचन मे काम मे आता है। यहां से निकला जल भी बाहर जाकर व्यर्थ हो रहा है। बड़े गांवों में कई गलियों मे यही पानी कीचड़ में बदल समस्या पैदा करता है। इसी जल को यदि घर के आगे छोटा पिट बनाकर उसमे छोड़ा जाए तो कई तरह से लाभ दे सकता है। बालू रेत की नीचे चिकनी मिटी की परते पाई जाती है। धरती में पहुंचा यह जल इस परत के कारण समानतर रूप से फैलता रहता है। भू-स्तर के नीचे इस तरह फैलता पानी मिटी मे एक नमी का जोन बना देता है। यह नमी लगाए गए पौधों और वनस्पति को जल दे जीवन देता है। यदि कुछ जागरूक नागरिक इस तरह का सोखता गढ़ा बना देते है तो वो पर्यावरण सवर्धन मे बड़ा योगदान दे सकते है। आम जीवन के ये छोटे-छोटे प्रयास प्रकृति और पर्यावरण मे क्रांतिकारी परिवर्तन ला सकते हैं। जरूरत है बस नेक शुरुआत करने की। वेट लैंड का उपयोग मरुभूमि मे वनस्पति विकास कर जीवन की दशा बदली जा सकती है।
विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेष: नमी का उपयोग हो तो बात बने
विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेष: नमी का उपयोग हो तो बात बने

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

अरविंद केजरीवाल ने जारी किया मिस्ड कॉल नंबर, भारत को नंबर वन देश देखने वालों से की घंटी बजाने की अपीलCBI Raids Manish Sisodia House Live Updates: सीबीआई रेड के विरोध में AAP कार्यकर्ताओं का मनीष सिसोदिया के घर बाहर प्रदर्शनबंगाल, महाराष्ट्र में भी ED के छापे, उनके सामने तो मैं तिनका हूँ, 'सांसद अफजाल अंसारी ने दी चुनौती- पूर्वांचल हमारा ही रहेगा'CBI Raid: दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया के घर पहुंची CBI की टीम, 20 ठिकानों पर चल रही छापेमारीJanmashtami 2022: मुंबई और ठाणे में इन जगहों पर लगी है सबसे उंची दही हांडी, 10 थर लगाने पर 21 लाख का इनामबिलकिस बानो केसः 6000 से अधिक सामाजिक कार्यकर्ताओं ने सुप्रीम कोर्ट से दोषियों की रिहाई को रद्द करने की मांग कीDahi Handi Festival: मुंबई में दो साल बाद कृष्ण जन्माष्टमी की धूम, शहर के कई इलाकों में फोड़ी जाएगी दही हांडीमथुरा, वृंदावन समेत कई जगहों पर आज है जन्माष्टमी की धूम, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और विधि
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.