scriptThe danger looming with the clouds, the dilapidated houses remained ti | बादलो के साथ मंडरा रहा खतरा भी, हादसे को तक रहे जर्जर आशियाने | Patrika News

बादलो के साथ मंडरा रहा खतरा भी, हादसे को तक रहे जर्जर आशियाने

-जैसाण में मानसून सिर पर, लेकिन सर्वे करवाना भूल गए जिम्मेदार
-नोटिस देकर ही की जाती है इतिश्री, पहले के हादसों से नहीं लिया सबक

जैसलमेर

Published: July 02, 2022 07:53:07 pm

जैसलमेर. जैसलमेर में आमजन भीषण गर्मी और दमघोटू उमस से परेशान होकर बादलों की तरफ निहार रहे हैं। शनिवार को मामूली बूंदाबांदी हुई और आगामी दिनों में तेज बारिश के पूरे आसार भी नजर आ रहे हैं। इस बीच ऐतिहासिक सोनार दुर्ग सहित रियासतकालीन पुराने शहर के कई गली-मोहल्लों में करीब दो दर्जन ऐसे जर्जर मकान हैं, जो तेज बारिश में भरभराकर गिरे तो आसपास रहने वाले लोगों के साथ राहगीरों के लिए जान की आफत साबित होने की आशंका है। गत दिनों नगरपरिषद प्रशासन की ओर से एक रस्मी अपील जारी कर ऐसे जर्जर मकानों के मालिकों से उन्हें सुरक्षित उतरवा लेने की बात कही गई। हर बार मानसून से करीब दो-तीन महीनें पहले नगरपरिषद अपने अभियंताओं के जरिए शहर का सर्वे करवाकर जर्जर और क्षतिग्रस्त मकानों को चिन्हित करवाने की कवायद करती है। बाद में इसी आधार पर संबंधित लोगों को नोटिस जारी किए जाते हैं। इस बार तो अब तक यह सब कार्य भी नहीं हुआ। जिला प्रशासन का रवैया भी इस मामले में अगंभीर ही नजर आ रहा है। ऐसे में आगामी दिनों में अगर तेज बारिश किसी अनिष्ट का कारण बनती है तो उसका जिम्मेदार कौन होगा? यह लाख टके का सवाल है। पिछले अर्से तेज अंधड़ की वजह से भी सोनार दुर्ग में ऐतिहासिक इमारत से पत्थर गिर चुके हैं। मूसलाधार बारिश होने पर हालात किस कदर खतरनाक हो सकते हैं, इसकी आशंका से ही इन भवनों व मकानों के आसपास रहने वाले सिहर उठते हैं।
स्वर्णनगरी में नई नहीं है समस्या
जैसलमेर में पुराने खंडहरनुमा मकानों की समस्या नई कतई नहीं है। ऐतिहासिक दुर्ग के साथ कई इलाकों में शहर में एक और दो-तीन मंजिला ऊंचाई वाले बंद मकान विकट समस्या बने हुए हैं। पिछले वर्षों के दौरान ऐसे मकानों का कुछ हिस्सा गिरने जैसे हादसे भी हुए हैं, लेकिन जिम्मेदारों और सरकारी तंत्र ने उन घटनाओं से कोई सबक नहीं सीखा। इस बीच कई जर्जर मकानों को उनके मालिकों ने सुरक्षित उतरवाया भी है। फिर भी सारे मकान अब तक सुरक्षित नहीं किए गए हैं। ऐसे अधिकांश मकानों के एक से अधिक मालिक हैं और वे जैसलमेर में वर्तमान में रह नहीं रहे हैं। हर वर्ष ऐसे मकानों को सुरक्षित उतरवाने के लिए संबंधित लोगों को नोटिस जारी किए जाते हैं और चेतावनी भी दी जाती है, लेकिन इससे आगे कार्रवाई नहीं करने के कारण हर बरसाती सीजन में इन जर्जर मकानों के कारण हादसा होने का अंदेशा बना रहता है। जर्जर मकानों के आसपास रहने वाले लोगों को हर समय अपने जान-मालकी चिंता सताती है। बारिश की मार से ये जीर्ण-शीर्ण बंद मकान कभी भी भरभराकर गिर कर आसपास रहने वाले लोगों व राहगीरों के लिए आफत का कारण बन सकते हैं। बारिश के दौरान हर बार जर्जर मकानों से आसपास के लोगों को खतरे का मुद्दा उठता रहा है। नगरपरिषद और जिला प्रशासन तक लोग गुहार लगाते हैं। नगरपरिषद बीते एक दशक से प्रत्येक बरसाती सीजन में नोटिस जारी करने की कवायद करती रही है। इस अवधि में कई मकान धराशायी भी हो गए। अनेक मकानों के मालिकों ने बाद में अपनी सुविधानुसार मकान उतरवा लिए मगर अब भी कई मकान खतरे का सबब बने हुए हैं।
यहां बना हुआ है खतरा
नगरपरिषद प्रशासन की ओर से पूर्व के वर्षों में सोनार दुर्ग के साथ पुराने शहर में करीब डेढ़ दर्जन मकानों को खतरनाक भवनों के रूप में चिह्नित किया है। उनके मालिकों को नोटिस थमाए गए। हालांकि नोटिस जारी करने के बाद भी मकान जस के तस खड़े हैं। ऐसे मकान सोनार दुर्ग के ढूंढ़ा पाड़ा, व्यास पाड़ा, लधा पाड़ा और शहर के भीतर स्थित कोठारी पाड़ा, आचार्य पाड़ा, रेलानी पाड़ा, गूंदी पाड़ा, डांगरा पाड़ा, गंगणा पाड़ा आदि में आए हुए हैं। इनमें से कुछ मकानों को संबंधित लोगों ने उतरवाया भी है, लेकिन अब भी एक दर्जन मकान खतरनाक हैं। वैसे पिछले साल नगरपरिषद ने सोनार दुर्ग के 62 मकानों को जर्जर व खतरनाक मानते हुए उन्हें नोटिस जारी किया था। यहां यह भी गौरतलब है कि सोनार दुर्ग में तो अनेक लोग स्वयं ही अपने मकानों के खतरनाक मानते हुए उनकी मरम्मत के लिए अनुमति की मांग प्रशासन से करते रहे हैं।
बादलो के साथ मंडरा रहा खतरा भी, हादसे को तक रहे जर्जर आशियाने
बादलो के साथ मंडरा रहा खतरा भी, हादसे को तक रहे जर्जर आशियाने
फोटो : जैसलमेर में हादसे का सबब बन रहे जर्जर मकान।
------------

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहारः कांग्रेस ने बुलाई विधायकों की बैठक, नीतीश कुमार के साथ जाने पर बन सकती है सहमति!Maharashtra Cabinet Expansion: कल 15 मंत्री लेंगे शपथ, देवेंद्र फडणवीस को मिलेगा गृह विभाग? जानें शिंदे कैबिनेट के संभावित मंत्रियों के नाम'इनकी पुरानी आदत है पूरे सिस्टम पर हमला करने की', कपिल सिब्बल के बयान पर बोले कानून मंत्री किरेण रिजिजूअरविंद केजरीवाल ने कहा- देश की राजनीति में परिवारवाद और दोस्तवाद खत्म कर भारतवाद लाएंगेAmit Shah Visit To Odisha: अमित शाह बोले- ओडिशा में अच्छे दिन अनुभव कर रहे लोग, सीएम नवीन पटनायक की तारीफ भी की'नीतीश BJP का साथ छोड़े तो हम गले लगाने को तैयार', बिहार में मचे सियासी घमासान पर बोले RJD नेता शिवानंद तिवारीगालीबाज भाजपा नेता पर रखा गया 25 हजार का इनाम, 40 टीमें तलाश में जुटीTET घोटाले में हुआ बड़ा खुलासा, शिंदे गुट के विधायक अब्दुल सत्तार की बेटियों के नाम आए सामने, शिवसेना ने बोला हमला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.