फर्जी तरीके से जमीन बेचने का गिरोह सक्रिय, मंडराये चिंता के बादल

-नोख क्षेत्र में मामला सामने आने के बाद आशंकित हो रहे बाशिंदे
-नोख क्षेत्र में फर्जी मुखत्यारनाम तैयार कर मुरब्बे बेचने का मामला उजागर, दो गिरफ्तार

By: Deepak Vyas

Published: 06 Apr 2021, 10:35 PM IST


जैसलमेर/नोख. क्षेत्र में मुरब्बों के फर्जी व कूटरचित मुखत्यारनामा तैयार कर लिए और उसका बेचान भी कर लिया। शिकायत मिलने पर पुलिस ने पड़ताल शुरू की और एफएसएल रिपोर्ट में मुखत्यारनामा फर्जी पाए जाने की पुष्टि भी हुई। नोख पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है, वहीं चार मुरब्बों के फर्जी तरीके से कागजात तैयार कर बेचान करने का मामला सामने आने के बाद क्षेत्र में चर्चाओं का बाजार गर्म है और इस तरह के गिरोह के सक्रिय होने से लोग अपनी जमीनों की सुरक्षा को लेकर आशंकित भी है। नहरी क्षेत्र में जिन लोगों के मुरब्बे हैं, उन्हें उनकी सुरक्षा को लेकर चिंता समा रही है। मामला सामने आने के बाद एकबारगी हड़कम्प मच गया है। गौरतलब है कि जिले के नोख पुलिस थाने में दर्ज फर्जी व कुटरचित मुखत्यारनामा तैयार कर मुरब्बे बेचने के मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। मामले में पुलिस ने राजेन्द्र कुमार पुत्र मोरनदास अरोड़ा निवासी अनोपगढ़, हरचरणसिंह पुत्र खुशालसिंह 23 बीबी अनोपगढ़ को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया। पुलिस के अनुसार गत वर्ष अक्टूबर महीने में कांगड़ा हिमाचल प्रदेश निवासी गोरखीराम पुत्र बेलीराम चौधरी, बलदेवचंद पुत्र रामशरण, प्रकाशचंद पुत्र किरडूराम व संजीव कुमार पुत्र साहबसिंह ने अपने अपने 75 सीडब्ल्यूबी में स्थित एक-एक मुरब्बें के फर्जी व कूटरचित मुखत्यारनामा तैयार कर फर्जी तरीके से बेचान करने के लिए राजेंद्र कुमार पुत्र मोरनदास अरोड़ा निवासी अनोपगढ़, हरचरणसिंह पुत्र खुशालसिंह जटसिख 23 बीबी अनोपगढ व अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया था । मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की और एफएसएल रिपोर्ट में मुखत्यारनामा फर्जी पाए जाने पर कार्यवाही करते हुए दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है । मामले की जांच नोख थानाधिकारी मोहम्मद हनीफ खान द्वारा की जा रही है। इस मामले की जांच में रविवार को पुलिस अधीक्षक डॉण् अजयसिंह व वृताधिकारी हुकमाराम भी नोख थाने में मौजूद रहे ।
मुख्य आरोपी व गवाह गिरफ्तार, शेष की तलाश जारी: एसपी
मामले की गम्भीरता को देखते हुए रविवार देर शाम को पुलिस अधीक्षक जैसलमेर डॉ. अजयसिंह भी नोख पुलिस थाने पहुंचे और इस मामले में हो रही जांच की जानकारी ली । उन्होंने पत्रिका से बातचीत में बताया कि नोख थाने में कांगडा निवासियों ने शिकायत दर्ज कराई थी कि हमारे चार मुरब्बों को लोकडाउन के दौरान फर्जी तरीके से दस्तावेज तैयार कर पावर आफ अर्टोनी के जरिये रजिस्ट्री करवा दी गई थी । इस पर हमने क्राइम रजिस्टर्ड कर इसकी जांच की तो जो पावर आफ अर्टोनी बनाई गई थी वो एफएसएल जांच में फर्जी पाई गई । इस मामले में मुख्य आरोपी व गवाह को गिरफ्तार कर लिया गया है और बाकी की तलाश जारी है । गिरफ्तार किए गए आरोपियों से पुछताछ की जा रही है ।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned