मरीज अस्पताल में होते रहे परेशान, चिकित्सक घर पर करता रहा आराम

- ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों ने किया हंगामा

By: Deepak Vyas

Published: 22 Sep 2021, 02:15 PM IST


फलसूण्ड/पोकरण. राज्य सरकार की ओर से प्रदेश में बेहतर चिकित्सा सेवाओं के दावे किए जा रहे है तथा कांग्रेस नेता भी गांवों में दौरे के दौरान चिकित्सा के क्षेत्र में स्थापित आयामों की जानकारी दे रहे है। साथ ही चिकित्साधिकारियों को मरीजों को बेहतर चिकित्सा सुविधा व सेवा के लिए आमसभाओं व निरीक्षण के दौरान निर्देशित किया जाता है, लेकिन आम दिनों में अस्पताल में उमडऩे वाली मरीजों की भीड़ व चिकित्सकों के समय पर अस्पताल नहीं पहुंचने की घटनाओं से सरकार के दावों की पोल खुलती दिख रही है। ऐसा ही कुछ हुआ क्षेत्र के फलसूण्ड गांव में स्थित राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य में, जब मंगलवार को सरपंच व अन्य जनप्रतिनिधि अस्पताल पहुंचे, तो यहां मरीजों की भीड़ लगी हुई थी तथा चिकित्सक ओपीडी समय में नदारद थे। बीमारी से पीडि़त मरीजों की हालत खराब हो रही थी, लेकिन चिकित्सक अस्पताल नहीं पहुंचे थे।
जमकर किया हंगामा
ओपीडी समय के दौरान चिकित्सक के अस्पताल में नहीं होने पर सरपंच रतनसिंह जोधा, शेरुखां मेहर, दीपाराम सहित ग्रामीणों व मरीजों के परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया। सरपंच जोधा ने इस बारे में दूरभाष पर अधिकारियों को अवगत करवाया तथा संबंधित चिकित्सक के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। ग्रामीणों ने बताया कि आए दिन अस्पताल में मरीजों की भीड़ उमड़ती है और मरीज बीमारी से तड़पते रहते है, लेकिन चिकित्सक की सीट खाली पड़ी रहती है। चिकित्साधिकारी मरीजों का उपचार करने की बजाय घर में ही आराम करते है।
सुनाई खरी-खरी
फलसूण्ड के राजकीय अस्पताल में क्षेत्र की आठ ग्राम पंचायतों के ग्रामीण अपने ग्रामीणों के हंगामे के दो घंटे बाद चिकित्सक डॉ.रतनाराम पटेल अस्पताल में पहुंचे। यहां सरपंच व ग्रामीणों ने उन्हें खरी-खरी सुनाई। इसके बाद चिकित्सक ने मरीजों का उपचार शुरू किया।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned