scriptThe players are encouraged here but do not get along with the field | JAISALMER NEWS- यहां दमदार है खिलाडिय़ों का हौसला, लेकिन नहीं मिलता मैदान का साथ... | Patrika News

JAISALMER NEWS- यहां दमदार है खिलाडिय़ों का हौसला, लेकिन नहीं मिलता मैदान का साथ...

जैसलमेर के विद्यालयों में खेलने के लिए नहीं खेल मैदान

जैसलमेर

Published: January 23, 2018 12:25:43 pm

जैसलमेर. रेगिस्तानी क्षेत्र होने से हमेशा से सुविधाओं में पिछड़ा होने का दंश यहां के खिलाडिय़ों को लंबे समय से भुगतना पड़ रहा है। यहां के खिलाडिय़ों में शुरू से ही दमदार हौसला रहा है, लेकिन खेलने के लिए खेल मैदान नहीं है। ऐसे में यहां के खिलाड़ी चाहकर भी राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय स्तर तक पहुंचने से पहले ही हांफ रहे है। मैदान के अभाव के बीच भी कईं खिलाडिय़ों ने राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाई है। कईं युवाओं ने तो खेल के लिए घर छोड़ बड़े शहरों की ओर रुख किया और सफल भी हुए, तो कईं खिलाड़ी परिवार का आर्थिक भार बढऩे से होने वाली दिक्कतों से बचने के लिए अपने सपनो से समझौता कर गए। जिससे देश को बड़े खिलाड़ी बनने से वंचित रहना पड़ा। हॉल ही में सरकार ने खिलाड़ी तैयार करने के लिए योजना तैयार की थी और कईं प्रतियोगिताएं भी करवाई, लेकिन यह प्रतियोगिताएं कागजी पुलिंदा बनकर रह जाने से खिलाडिय़ों को अधिक लाभ नहीं हुआ।

Jaisalmer patrika
patrika news
Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika
नहीं है खेल मैदान
विद्यार्थी जीवन से खेल की ललक जगाने के लिए सरकार ने महानरेगा के तहत विद्यालयों में खेल मैदान विकसित करने की योजना तैयार की थी, लेकिन इस योजना को बनाए दो साल से अधिक का समय व्यतीत हो गया, लेकिन कहीं पर भी कोई खेल का मैदान तैयार नहीं हो सका। जिससे यहां के खिलाडिय़ों में दमदार हौसला होने के बाद भी वे आगे नहीं बढ़ सके।
 

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika
अधूरा है पवेलियन का निर्माण कार्य, कैसे तैयार होंगे खिलाड़ी
रामदेवरा. युवाओं में खेल की रुचि बढ़ाने के लिए सरकार समय-समय पर खेल प्रतियोगिताएं आयोजित कर खेल प्रतिभाओं का बढ़ावा देने का दावा करती है, लेकिन खेल मैदान के अभाव में खेल में रुचि रखने वाले खिलाड़ी खेल में अपनी प्रतिभा को निखार नहीं पा रहे। जिले के रामदेवरा गांव में स्थित राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के खेल मैदान में स्थित पवेलियन का कार्य अधूरा होने से सरकारी धनराशि खर्च करने के बावजूद खेल प्रेमियों व दर्शकों के लिए यह अनुपयोगी साबित हो रहा है।
अधूरा है खेल मैदान
गौरतलब है कि ग्राम पंचायत की ओर से वर्षों पूर्व विद्यालय के पास स्थित स्टेडियम में पवेलियन निर्माण कार्य शुरू किया गया था, लेकिन ग्राम पंचायत की ओर से स्टेडियम का निर्माण कार्य पूरा नहीं करवाया गया और बीच में ही बंद कर दिया गया। गांव में राष्ट्रीय पर्व के अलावा अन्य कार्यक्रम राउमावि के खेल मैदान स्थित स्टेडियम में आयोजित होते है। कार्य अधूरा पड़ा होने के कारण यहां पवेलियन पर लगाए गए पत्थर भी उखडऩे लगे है तथा लोग उठाकर ले जा रहे है। जिससे सरकार की ओर से अब तक खर्च की गई राशि का भी कोई उपयोग नहीं हो रहा है।
Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.