JAISALMER NEWS- जरुरतमंदों की कट रही जेब, इनके लिए मजबूरी बनी सजा

मजबूरी की सजा : जरूरतमंदों की पेंशन से बैंक काट रहे जुर्माना!

By: jitendra changani

Published: 26 Mar 2018, 10:56 PM IST

गरीब व असहायों के खातों से हो रही कटौती
पोकरण . पूरे एक माह इंतजार के बाद जरूरतमंदों के खाते में सरकार पेंशन के 500 से 750 रुपए जमा करवाती है, लेकिन बैंक उन पर जुर्माना लगा देते हैं। अभावों के चलते कई जरूरतमंद अपने खाते में मिनिमम राशि नहीं रख पाते, वहीं बैंक उनसे चार्ज वसूलते रहते हैं। ऐसे में सरकारी सहायता के सहारे जीवन यापन करने वालों के लिए संकट खड़ा हो जाता है।
गौरतलब है कि बैंकों में बचत व चालू खाते में अलग-अलग न्यूनतम राशि रखना जरूरी है। क्षेत्र के कई लोग यह इतनी राशि खाते में रखने में असमर्थ हैं। सामाजिक सुरक्षा के अंतर्गत वृद्धावस्था, विधवा व नि:शक्तजन पेंशन के रूप में सरकार 500 व 750 रुपए प्रतिमाह उनके खाते में जमा करवाती है। ऐसे लोग अपनी पेंशन राशि जमा होने का इंतजार करते हैं तथा जैसे ही जमा होती है, उसे अपनी जरूरतें पूरी करने के लिए निकाल लेते हैं। दूसरी तरफ बैंक की ओर से न्यूनतम राशि खाते में जमा नहीं होने पर उस पर शुल्क के रूप में राशि काट ली जाती है। वृद्धावस्था पेंशनधारक घेवरलाल सुथार ने बताया कि उसके खाते से अगस्त से दिसम्बर 2017 तक अलग-अलग कुल 153 रुपए की राशि काट ली गई। इसी प्रकार रेंवतीदेवी ने बताया कि सितम्बर से अक्टूबर 2017 तक उसके खाते से 268 रुपए की राशि की कटौती कर दी गई है। जब उन्होंने इस संबंध में बैंक अधिकारियों से संपर्क किया, तो उनकी ओर से कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया जा रहा है।

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

एटीएम खराब, उपभोक्ता परेशान
रामदेवरा. गांव में स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया की ओर से लगाया गया एटीएम खराब होने के कारण उपभोक्ताओं को परेशानी हो रही है। गांव में एसबीआई की ओर से एक एटीएम काउंटर लगाया गया है। यह एटीएम अधिकतर समय खराब ही रहता है। जिसके चलते यहां आने वाले श्रद्धालुओं, स्थानीय ग्राहकों को लेनदेन को लेकर परेशानी हो रही है। इन दिनों चैत्र माह में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ रही है, लेकिन एटीएम खराब होने से उन्हें नकदी को लेकर परेशानी हो रही है।

Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned