Jaisalmer- पोकरण के लाल किला देखने आते है हर साल पांच लाख सैलानी, जानिए क्या है खासियत

By: jitendra changani

Published: 18 Oct 2017, 02:55 PM IST

Jaisalmer, Rajasthan, India

Rajasthan patrika

1/3

परमाणु नगरी के रुप में विश्वभर में अपनी खास पहचान बनाने वाले पोकरण क्षैत्र को पर्यटन नगरी के रुप में विकसित करने की कवायद शुरू होने का अभी इंतजार है। गौरतलब है कि पोकरण की एतिहासिक पृष्ठ भूमि और यहां की लोक संस्कृति व लोक कला की देश में अलग पहचान है। यहां प्रतिवर्ष पांच लाख से अधिक सैलानी भी आते है, लेकिन ऐतिहासिक पृष्ठ भूमि का पर्याप्त प्रचार नहीं होने से वे यहां की कला से बिना रुबरु हुए ही रुकसत हो जाते है। जिससे यहां आने वाले सैलानियों से पर्यटन व्यवसाय को परोक्ष रुप से लाभ नहीं मिल पा रहा। पर्यटन स्टेशन दिखाने की जरुरत जानकारों के अनुसार परमाणु नगरी पोकरण को स्वर्णनगरी की तरह पर्यटन स्थल के रुप में केवल नक्से में जगह देने की जरुरत है। पोकरण के इतिहास व यहां के पर्यटन व धार्मिक स्थलों को पर्यटन स्टेशनों के नक्से में खास जगह मिले तो यहां भी पर्यटन व्यवसाय के परवान चढऩे की उम्मीद है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned