JAISALMER NEWS- पीढिय़ों की प्यास बुझाने वाले खुद मर रहे प्यासे, जानिए इसका यह है सबसे बड़ा कारण

जमींदोज हो रहे परंपरागत पेयजल स्रोत

By: jitendra changani

Published: 11 Mar 2018, 12:46 PM IST

फतेहगढ़ (जैसलमेर ) . फतेहगढ़ उपखण्ड मुख्यालय सहित आस-पास के विभिन्न गांवों में स्थित परंपरागत पेयजल स्रोत देखरेख व सारसंभाल के अभाव में दिनोंदिन जमींदोज हो रहे हैं। जनप्रतिनिधियों, संबंधित विभाग व ग्रामीणों की उदासीनता के कारण उपखण्ड मुख्यालय सहित आस-पास के क्षेत्र में स्थित प्राचीन परंपरागत पेयजल स्रोत धीरे धीरे खत्म होने के कगार पर पहुंच रहे हैं। कई वर्षों पूर्व पानी की किल्लत के चलते यहां के ग्रामीणों को पेयजल के लिए मीलों का सफर तय कर अपनी व अपने पशुओं कीं प्यास बुझानी पड़ती थी। लागों ने कस्बे सहित आस-पास के गांवों में पेयजल की समस्या से स्थाई छुटकारा पाने के लिए यहां करीब दो-तीन सौ फीट गहराई वाले कुओं व बेरियों का निर्माण करवाया। इससे ग्रामीणों व पशुधन को अपनी प्यास शान्त करने में राहत मिलती थी, लेकिन कई समय बीतने के बाद अब परंपरागत पेयजल स्रोतों की सार संभाल नहीं होने के कारण उपेक्षा के शिकार हो रहे हैं। जनप्रतिनिधियों, संबंधित विभाग व ग्रामीणों की उदासीनता के कारण कुछ लोग स्रोतों के चारों ओर लगे कलात्मक पत्थर भी उखाड़ कर ले जाया जा रहा हैं। पेयजल स्रोतों की संबंधित विभाग की ओर से मरम्मत करवाई जावें, तो यह पेयजल स्रोत के रूप मे पुन: विकसित हो सकते हैं, इससे ग्रामीणों को मीठा पानी मिल सकेगा। कस्बे के बुजुर्ग ग्रामीणों के अनुसार यहां पालीवालों के समय में इन परंपरागत पेयजल स्रोतों से बैलों व ऊंटों को जोतकर मीठा पानी पीने के लिए निकला जाता था एवं रात्रि में इन पेयजल स्रोतों की बारी बारी से चौकीदारी भी की जाती थी। सुबह जल्दी यहां पानी ले जाने के लिए पणिहारियों की भीड़ उमड़ती थी। वर्तमान में इनकी देखरेख व सारसंभाल नहीं होने से अस्तित्व खत्म होता जा रहा है।

 

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

लगेंगे सिंचाई कर वसूली शिविर
जैसलमेर ? . इंदिरा गांधी नहर परियोजना की सागरमल गोपा शाखा खंड के कार्य क्षेत्र में आने वाली नहरों व टिब्बरेवाला माइनर सिस्टम के काश्तकारों के लिए प्रत्येक माह के गुरुवार को बुर्जी 231, 248, 935 व प्रत्येक शुक्रवार को बुर्जी 314 व बर्जी 35 बाबा रामदेव पर सिंचाई राजस्व वसूली के लिए शिविर का आयोजन होगा। यह जानकारी खंड के अधिशाशी अभियंता मोहनदान चारण ने दी।

Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned