scriptThe water supply system started gasping at the beginning of the scorch | भीषण गर्मी की शुरुआत में ही हांफने लगी जलापूर्ति व्यवस्था, गांवों के साथ शहर में भी किल्लत का शोर | Patrika News

भीषण गर्मी की शुरुआत में ही हांफने लगी जलापूर्ति व्यवस्था, गांवों के साथ शहर में भी किल्लत का शोर

- नहरी क्लोजर से ज्यादा जिम्मेदारों की उदासीनता जिम्मेदार
- फोन उठाने से कतरा रहे अधिकारी

जैसलमेर

Updated: April 28, 2022 07:41:25 pm

जैसलमेर. जैसलमेर का तापमान अभी 45 डिग्री के आसपास पहुंचना शुरू ही हुआ है और जिला मुख्यालय से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक में पीने के पानी का संकट उत्पन्न हो गया है। शहर के कई हिस्सों में जलापूर्ति 72 से लेकर 96 घंटों के अंतराल और कहीं-कहीं इससे भी ज्यादा समय तक नहीं होने की शिकायतें आम हो गई हैं। जैसलमेर की पेयजल व्यवस्था को प्रचंड गर्मी ने जोर का झटका दिया है और मुख्य स्रोत नहर में चल रहे क्लोजर से उत्पादन में कमी आई है लेकिन इन सबके साथ जिम्मेदारों की उदासीनता भी कम दोषी नहीं है। जिनके कंधों पर सुचारू जलापूर्ति सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी है, वे फोन तक उठाने को तैयार नहीं हैं। जबकि कुछ दिन पहले जिला कलक्टर ने जल-बिजली विभागों के अधिकारियों को साफ तौर पर निर्देशित किया था कि वे न तो अपना मोबाइल फोन बंद रखेंगे और न ही कॉल उठाने में कोताही बरतेंगे। कलक्टर के निर्देश को ताक पर रखने वाले अधिकारी आमजन और स्थानीय जनप्रतिनिधियों की बात को कितनी तवज्जो देते होंगे, यह सहज ही समझा जा सकता है।
नहर से एक दिन शटडाउन
जैसलमेर शहर ही नहीं बाड़मेर शहर, कम से कम जैसलमेर-बाड़मेर के तीन सौ गांवों, जैसलमेर के सैन्य क्षेत्रों में पेयजल का मुख्य स्रोत इंदिरा गांधी नहर परियोजना है और मोहनगढ़ स्थित हैडवक्र्स में बनी विशालकाय डिग्गी से इन सभी इलाकों में पीने का पानी आपूर्ति किया जाता है। नहर में क्लोजर से पहले इस डिग्गी को भर लिया गया और वर्तमान में यह व्यवस्था है कि सप्ताह में एक दिन शटडाउन किया जाता है। इससे संबंधित क्षेत्रों में पानी की थोड़ी कमी होनी तो स्वाभाविक है। फिर भी जानकारों की मानें तो किसी भी क्षेत्र में तीन दिन यानी 72 घंटों से ज्यादा अंतराल जलापूर्ति में नहीं आना चाहिए। जबकि वर्तमान में जैसलमेर शहर में ही कई इलाकों में जिनमें आवासीय कॉलोनियों से लेकर शहर के भीतरी भागों में अवस्थित गली-मोहल्ले शामिल हैं, में 96 से 120 घंटों के अंतराल में पानी नलों के माध्यम से पहुंचाया जा रहा है। इतने अंतराल में आने के बावजूद कई भीतरी भागों में जलापूर्ति पूरे वेग और दबाव से भी नहीं हो रही है। यह जानकारी भी मिली है कि मोहनगढ़ हैडवक्र्स की डिग्गी में आगामी 25 दिनों के लिए पानी उपलब्ध है। नहरों में क्लोजर 20 मई तक है और मोहनगढ़ तक पानी पहुंचने में तीन-चार दिन का समय और लग सकता है। ऐसे में यही माना जा रहा है कि सुचारू रूप से नहरी पानी की आपूॢत 24-25 मई तक होगी। डिग्गी के अलावा नहरों में संग्रहित जल को पम्प मोटर से लेने की भी जलदाय विभाग परियोजना खंड की तैयारी बताई जाती है।
मोनेटरिंग का दिख रहा अभाव
जैसलमेर शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में जल संकट की मौजूदा स्थितियों के लिए पुख्ता मोनेटरिंग के अभाव को माना जा सकता है। स्थानीय निकाय के अभियंताओं से लेकर जिनके कंधों पर शहर व गांवों में जलापूर्ति व्यवस्था का जिम्मा है, वे फील्ड में उतरकर व्यवस्थाओं को संभालते नजर नहीं आते। आमजन से उनका सम्पर्क लगभग कटा हुआ है। इसी तरह से शहर के कई इलाकों में जहां इतने किल्लत के समय भी बेशकीमती पेयजल बर्बाद होता दिखता है तो अन्य क्षेत्रों के बाशिंदे तरस रहे हैं। ऐसा सुनियोजित ढंग से आपूर्ति सिस्टम के अभाव में हो रहा है। इस सब वजहों से सबसे ज्यादा दिक्कत शहर की तंग गलियों व मोहल्लों में पेश आ रही है, जहां ट्रेक्टर ट्रॉली से पानी खरीद कर भी नहीं मंगवाया जा सकता है। इन इलाकों के लोग पीने का पानी 30 रुपए प्रति कैम्पर देकर खरीदने को मजबूर हैं तो नित्यकर्म के लिए भी पानी का टोटा झेल रहे हैं।
भीषण गर्मी की शुरुआत में ही हांफने लगी जलापूर्ति व्यवस्था, गांवों के साथ शहर में भी किल्लत का शोर
भीषण गर्मी की शुरुआत में ही हांफने लगी जलापूर्ति व्यवस्था, गांवों के साथ शहर में भी किल्लत का शोर
फैक्ट फाइल -
- 14 एमएल पानी शहर की रोजाना खपत
- 20 मई तक नहरों में क्लोजर
- 96 से 120 घंटों के अंतराल से हो रही आपूर्ति
- 01 दिन सप्ताह में रहता है शटडाउन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

जम्मू कश्मीरः बारामूला में जैश-ए-मोहम्मद के तीन पाकिस्तानी आतंकी ढेर, एक पुलिसकर्मी शहीदDelhi News Live Updates: नारायणा इंडस्ट्रियल एरिया फेज 1 में चला एमसीडी का बुलडोजर, तोड़े गए अवैध निर्माणसुप्रीम कोर्ट में पूजा स्थल कानून के खिलाफ दायर की गई याचिका, संवैधानिक वैधता को चुनौतीTexas Shooting: अमरीकी राष्ट्रपति ने टेक्सास फायरिंग की घटना को बताया नरसंहार, बोले- दर्द को एक्शन में बदलने का वक्तजातीय जनगणना सहित कई मुद्दों को लेकर आज भारत बंद, जानिए कहां रहेगा इसका ज्यादा असरपंजाब CM Bhagwant Mann का एक और बड़ा फैसला, सरकारी नौकरियों के लिए पंजाबी भाषा है जरूरीकपिल सिब्बल समाजवादी पार्टी के टिकट से जाएंगे राज्यसभा, बताई कांग्रेस छोड़ने की वजहशिवसेना नेता यशवंत जाधव की बढ़ी मुश्किलें, ED ने जारी किया समन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.