Video: फिर जमकर बरसे बदरा, शहर से गांवों में चारों तरफ पानी-पानी

- सभी जगहों पर एक से डेढ़ इंच बारिश

By: Deepak Vyas

Published: 05 Sep 2020, 12:23 PM IST

जैसलमेर. सीमावर्ती जैसलमेर जिले में शुक्रवार को दिनभर घनघोर घटाएं छाने के बाद बादल जमकर बरसे। शहर से लेकर गांवों तक चारों तरफ पानी ही पानी नजर आया। जिले में तीन दिन पहले हुई चौतरफा बारिश का कई जगहों पर अभी पानी पूरी तरह से उतरा ही नहीं और एक बार फिर उफान मारती बरसाती नदियां चल निकलीं। जिले के अधिकांश रेन गेज स्टेशनों पर एक से डेढ़ इंच तक बारिश दर्ज की गई है।
जैसलमेर मुख्यालय पर शुक्रवार अलसुबह से कभी धीमी तो कभी तेज बारिश का दौर चला। जो पूर्वाह्न तक थम गया। इसके बाद शाम चार बजे के बाद आकाश में छाई काली घटाएं जमकर बरसीं और शहर की सड़कें व गलियों में पानी बहने लगा। लोगों ने घरों की छतों से लेकर सड़कों तक पर उतरकर बारिश में नहाने का लुत्फ भी उठाया। देर शाम तक आकाश में बादल छाए हुए थे और मौसम खुशगवार बना हुआ है। प्राप्त जानकारी के अनुसार जैसलमेर रेन गेज स्टेशन पर 38, रामगढ़ में 35, पोकरण में 26, सम में 27 मिलीलीटर पानी बरसा।
इसी तरह से अब तक सबसे कम बारिश वाले सम क्षेत्र में भी शुक्रवार को मूसलाधार बारिश हुई। सम सेंड ड्यून्स में बंद किए गए रिसोर्ट्स व कैम्पों में पानी भर गया। धोरों पर जहां तक नजर गई, पानी ही पानी नजर आया।
रामगढ़. कस्बे तथा आसपास के नहरी क्षेत्र में शुक्रवार सुबह 6 बजे फिर इंद्रदेव मेहरबान हुए। रामगढ़ सहित आसपास के नहरी क्षेत्र में जमकर बारिश हुई। जिससे कस्बे की सड़कें तरबतर हो गई। पिछले दिनों से हो रही बारिश से किसानों के चेहरों पर खुशी छाई हुई है। जमकर हुई बारिश से खेत पूरी तरह से भरे नजर आए। फसलों को अब कई दिनों तक नहरी पानी की जरूरत नहीं पड़ेगी। सुबह हुई बारिश से कस्बे के मुख्य मार्गों व बाजार में पानी भर गया। जिससे लोगों को बाजार में निजी काम निपटाने में परेशानी हुई।
चांदन. कस्बे में सुबह से बारिश का दौर शुरू हुआ जो रुक रुक कर दिन भर चलता रहा। लगातार बारिश से कई जगह पानी जमा हो गया। कस्बे के बस स्टैंड पर पानी इक_ा होने से जोधपुर-जैसलमेर सड़क मार्ग पर आवागमन कठिन हो गया। यहां बाजार की कई दुकानों में पानी भर गया। वाहनों को निकलने में मुश्किल हुई। कस्बे के रेलवे क्वार्टर्स में पानी भरने से हालात खराब हो गए। क्वार्टर्स का कस्बे से संपर्क टूट गया। वहां के स्टाफ द्वारा सहायता मांगने पर ग्रामीणों ने पानी की निकासी में मदद की।
कस्बे के कई कच्चे मकानों को भी नुकसान पहुंचा है। मेघवाल बस्ती, भील व जोगी बस्ती में कच्चे मकान गिरने की हालत में आ गए हैं। नारायण राम पुत्र धर्माराम के मकान की छत गिर गई। लगातार बारिश से गोगड़ी नदी में भी पानी के बहाव के हालात बन गए हैं। इससे जेठा, कलरों की ढाणी निवासियों और नदी के पट के सहारे के खेतों के लोगों की चिंता बढ़ गई। बारिश शाम तक चलती रही।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned