scriptसम में धोरे प्यासे: ख्याति सात समंदर पार, फिर भी नहीं सुन रहे पुकार | Patrika News
जैसलमेर

सम में धोरे प्यासे: ख्याति सात समंदर पार, फिर भी नहीं सुन रहे पुकार

देश-दुनिया में पर्यटन को ख्याति अर्जित कराने में विशेष भूमिका निभाने वाले विख्यात सम के धोरों का चुम्बकीय आकर्षण हर वर्ष लाखों पर्यटकों को यहां खींच लाता है। इन सबके बीच निराशाजनक स्थिति यह है कि सम सेंड ड्यून्स पर सैलानियों को आज भी सरकारी तंत्र मीठा पानी उपलब्ध नहीं करवा पाया है।

जैसलमेरJun 22, 2024 / 07:58 pm

Deepak Vyas

jsm news
देश-दुनिया में पर्यटन को ख्याति अर्जित कराने में विशेष भूमिका निभाने वाले विख्यात सम के धोरों का चुम्बकीय आकर्षण हर वर्ष लाखों पर्यटकों को यहां खींच लाता है। इन सबके बीच निराशाजनक स्थिति यह है कि सम सेंड ड्यून्स पर सैलानियों को आज भी सरकारी तंत्र मीठा पानी उपलब्ध नहीं करवा पाया है। मौजूदा समय में सेंड ड्यून्स पर स्थानीय लोगों तथा राज्य पशु ऊंटों को फ्लोराइड युक्त खारा पानी पीना मजबूरी है। जिम्मेदारों की मानें तो सम सेंड ड्यून्स पर पीने का शुद्ध और मीठा पानी मुहैया करवाने के बीच एक सरकारी नियम आड़े आ रहा है। जानकारी के अनुसार जन स्वास्थ्य अभियांत्रिक विभाग घर-घर नल कनेक्शन उन्हीं गांवों में जारी कर सकता है, जहां कम से कम चार हजार की आबादी निवास करती हो। हकीकत यह है कि जैसलमेर जैसे विरल आबादी वाले जिले में यह नियम बड़ी आबादी को पीने के शुद्ध पानी से वंचित किए हुए है। इसके अलावा सम सेंड ड्यून्स पर सीजन के दिनों में ऊंट चालकों, लोक कलाकारों व रिसोट्र्स में काम करने वालों को मिला कर गिना जाए तो उनकी संख्या तीन-चार हजार तक पहुंच ही जाती है। इन सबके अलावा यहां करीब 150 रिसोट्र्स मौजूद है। वर्तमान में रिसोट्र्स संचालकों की तरफ से मेहमानों के लिए पीने के पानी के रूप में बोतलबंद पानी या सम गांव से आरओ का पानी मंगवाने की मजबूरी है। अन्य कार्यों के लिए वे टैंकर मंगवाते हैं।

वाणिज्यिक कनेक्शन: 8 आवेदन, सभी लंबित

जिले में महज 8 ही आवेदन वाणिज्यिक कनेक्शन के लिए आए हैं, लेकिन स्वीकृत अब तक एक भी नहीं हुआ है और सभी लंबित हैं। गौरतलब है कि सभी आवेदन पर्यटन के लिहाज से अति महत्वपूर्ण माने जाने वाले सम क्षेत्र में आए हैं। वाणिज्यिक कनेक्शन देने के लिए अभी तक सरकार नीति निर्धारण का कार्य पूरा नहीं कर सकी है। गौरतलब है कि सम गांव तथा उससे भी आगे तक पीने के मीठे नहरी पानी की लाइन गुजर रही है।

फैक्ट फाइल

7 लाख से अधिक सैलानी प्रतिवर्ष पहुंचते हैं सम
-150 के करीब रिसोट्र्स स्थित है सेंड ड्यून्स पर
-1 हजार से ज्यादा ऊंट मौजूद है सम क्षेत्र में
लंबे समय से प्रयासरत
सम सेंड ड्यून्स क्षेत्र में वाणिज्यिक जल कनेक्शन जारी करवाने के लिए हमारी ओर से निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। पूर्व में समय-समय पर जिला प्रशासन को वस्तु स्थिति से अवगत भी करवाया है। हमारी ओर से यहां जल कनेक्शन दिलाने के प्रयास जारी है।
-कैलाश कुमार व्यास, अध्यक्ष, सम कैम्प एंड रिसोट्र्स एंड वेलफेयर सोसायटी, जैसलमेर

नियमानुसार प्रावधान नहीं
नियमानुसार सम ड्यून्स क्षेत्र में जल कनेक्शन नहीं दिए जा सकते। इस संबंध में एक अलग से स्कीम विचाराधीन है, जिस पर कार्य किया जाना है।
-जैराराम, अधीक्षण अभियंता, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, जैसलमेर

Hindi News/ Jaisalmer / सम में धोरे प्यासे: ख्याति सात समंदर पार, फिर भी नहीं सुन रहे पुकार

ट्रेंडिंग वीडियो