Jaisalmer- शिक्षा में सुधार के लिए होंगे यह प्रयास, विद्यालय का होगा ऐसे विकास

मनरेगा के तहत बनेंगे खेल मैदान, 10 दिन में रोशन होंगे विद्यालय - शिक्षा में सुधार के लिए पाक्षिक रूप से शिक्षकों का करावें मूल्यांकन : कलक्टर - संकल्प

By: jitendra changani

Updated: 09 Oct 2017, 09:22 PM IST

जैसलमेर . जिला स्तरीय निष्पादक समिति की बैठक में सोमवार को जिला कलक्टर कैलाशचन्द मीना ने राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान आदर्श विद्यालय की गतिविधियों पर समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दें। शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए कि वे शिक्षा में सुधार के लिए पाक्षिक रूप से शिक्षकों का मूल्यांकन करवाने को कहा। इसके अलावा संकल्प से शिक्षा अभियान चलाने के निर्देश दिए। कलक्टर ने कहा कि इस दौरान विशेष रूप से विद्यालयों में नामांकन में बढ़ाने, परीक्षा परिणाम में सुधार, आधारभूत सुविधाएं विद्यालयों में विकसित करने पर विशेष ध्यान देने को कहा। उन्होंने सभी माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालयों में सेनेटरी नेपकिन डिस्पेन्सर मशीन स्थापित करने को कहा। वहीं ऐसे 65 माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालय जहां आईटी लैब नहीं है उनके लिए 20-20 विद्यालयों में जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक एवं प्रारम्भिक को 25 प्रतिशत जनसहयोग से कम्प्यूटर लैब शीघ्र स्थापित करावें। साथ ही उन्होंने 5 विद्यालयों में उनके प्रयासों से कम्प्यूटर लैब स्थापित करने का विश्वास दिलाया।


विद्यालयों में शीघ्र करें विद्युत कनेक्षन
बैठक में अधीक्षण अभियंता विद्युत को कहा कि वे खारिया जेठवी विद्यालयों को शीघ्र ही विद्युत कनेक्षन दिलावें। इसपर उन्होंनें बताया कि 10 दिवस में ट्रांसफार्मर लगवा विद्युत कनेक्षन करवा दिया जाएगा। जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए कि जिन विद्यालयों में खेल मैदान के लिए भूमि उपलब्ध नहीं है उनकी सूची उपलब्ध करावें ताकि इसको लेकर कार्रवाई की जा सके। उन्होंनें महानरेगा के तहत खेल मैदान विकसित करने को कहा। उन्होंनें आदर्श विद्यालय के रेटिंग वाले सभी सूत्रों में शतप्रतिशत उपलब्धि अर्जित करने के निर्देश दिए। उत्कृष्ट विद्यालयों के रेटिंग वाले सभी सूत्रों में अच्छी उपलब्धि अर्जित करने पर जोर दिया।

बालिकाओं का बढ़ाएं नामांकन
कलक्टर ने शारदे बालिका छात्रावास सोनू, नाचना व भादरिया में जहां 100-100 बालिकाओं के लिए स्वीकृति है, लेकिन नाचना में 60, सोनू में 20 तथा भादरिया में 26 बालिकाएं ही नामांकित है जो बहुत कम है। उन्होंनें इस संबंध में निर्देश दिए कि वे विशेष प्रयास कर इन विद्यालयों में बालिकाओं के नामांकन में बढ़ोतरी लावें ताकि बालिका शिक्षा को और बढ़ावा मिल सके।

बोर्ड का परिणाम रहे शतप्रतिशत
उन्होंने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि सभी विद्यालयों में बोर्ड परीक्षा परिणाम शतप्रतिशत रहे। कमजोर विद्यार्थियों के लिए रेमेडियल टीचिंग की व्यवस्था करावें ताकि उनका शैक्षणिक सुधार हो एवं परीक्षा परिणाम के प्रतिशत में बढ़ोतरी हो।

Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned