बिना डिग्री मरीजों को भर्ती कर किया जा रहा था उपचार, एसडीएम ने किया निजी अस्पताल सीज

- आकस्मिक निरीक्षण के दौरान की कार्रवाई, बिना अनुज्ञा पत्र चल रहा था अस्पताल

By: Deepak Vyas

Published: 20 May 2021, 07:18 PM IST

पोकरण. ग्रामीण क्षेत्रों में नीम हकीमों के बढ़ते जाल को कम करने को लेकर अधिकारियों की ओर से सघन निरीक्षण किया जा रहा है। कोरोना की महामारी के दौरान आमजन को सही उपचार मिले, इसके लिए ग्रामीण क्षेत्रों में बैठे नीम हकीमों के विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है। इसी के अंतर्गत भणियाणा के उपखंड अधिकारी की ओर से बुधवार को सुबह आकस्मिक निरीक्षण के दौरान फलसूण्ड गांव में बिना अनुमति व बिना डिग्री के चल रहे एक निजी अस्पताल को सीज किया गया। भणियाणा के उपखंड अधिकारी दुदाराम ने बताया कि वर्तमान में कोरोना संक्रमण की महामारी चल रही है। सरकार की ओर से महामारी रेड अलर्ट जन अनुशासन पखवाड़ा चलाया जा रहा है। इसी के अंतर्गत बुधवार को सुबह उनकी ओर से फलसूण्ड में गाइडलाइन की पालना का निरीक्षण किया जा रहा था। इस दौरान उन्होंने गांव में बिना अनुमति व बिना डिग्री के चल रहे निजी अस्पताल को सीज किया गया।
न डिग्री, न अनुमति, भर्ती कर किया जा रहा था उपचार
उपखंड अधिकारी दुदाराम ने बताया कि फलसूण्ड गांव के निरीक्षण के दौरान निजी अस्पताल के आगे भीड़ दिखी, तो आकस्मिक निरीक्षण किया गया। उन्होंने बताया कि एक भवन में अस्पताल व एक भवन में मेडिकल स्टोर तथा पीछे की तरफ मरीजों के भर्ती करने की सुविधा की गई थी। उन्होंने जब डिग्री व अनुमति की जांच की, तो कोई वैध कागजात नहीं मिला। जिस पर अस्पताल को सीज किया गया।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned