सीमांत जिले में स्वाइन फ्लू पसार रहा पांव,इस क्षेत्र में दो दिनों में दो की मौत

पोकरण क्षेत्र में दो दिनों में दो की मौत से फैली सनसनी
-सीमांत जिले में स्वाइन फ्लू पसार रहा पांव
- बुखार, जुकाम से पीडि़तों का किया सर्वे, दी दवाई
- जैसलमेर मुख्यालय पर नमूना संग्रहण की सुविधा

By: Deepak Vyas

Published: 18 Dec 2018, 01:02 PM IST

जैसलमेर/फलसूण्ड. जिले के पोकरण उपखंड क्षेत्र के फलसूंड इलाके में सोमवार को एक और स्वाइन फ्लू रोगी की मौत हो जाने से सनसनी फैल गई है। रविवार को भी फलसूंड क्षेत्र में आए पारासर गांव के बाशिंदे की स्वाइन फ्लू से मौत हो गई थी। इस तरह से दो दिनों के दौरान दो लोगों को स्वाइन फ्लू ने लील लिया। इन दो मौतों से सीमावर्ती जैसलमेर जिले में खतरनाक स्वाइन फ्लू की धमक ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महकमे की चिंता बढ़ा दी है। जानकारी के अनुसार फलसूंड के निवासी रुस्तम तेली (38) पुत्र निजाम खां को जुकाम, बुखार, खांसी होने पर तीन दिन पूर्व जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती किया गया था। यहां स्वाइन फ्लू के लक्षण पाए गए। सोमवार को सुबह उसने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया।

क्षेत्र में फैली सनसनी
गौरतलब है कि रविवार को पारासर निवासी एक युवक की स्वाइन फ्लू से मौत हुई थी। सोमवार को रुस्तम की स्वाइन फ्लू से मौत की सूचना के बाद लगातार दो मौत हो जाने से क्षेत्र में सनसनी फैल गई है। ग्रामीणों में बीमारी को लेकर भय का माहौल है। हालांकि चिकित्सा विभाग की ओर से टीमों का गठन कर सर्वे का कार्य शुरू कर दिया गया है, लेकिन क्षेत्र में बदलते मौसम के कारण बुखार, जुकाम, सर्दी के मरीजों की संख्या भी बढ़ गई है। ऐसे में स्वाइन फ्लू के फैलने की आशंका बढ़ गई है।
टीम ने किया सर्वे, दी दवाइयां
क्षेत्र के पारासर गांव में रविवार को युवक की मौत के बाद चिकित्सा विभाग की ओर से दो टीमों का गठन किया गया है। चिकित्सा अधिकारी डॉ. नीरज कुमार वर्मा ने बताया कि मेलनर्स अशोककुमार, एएनएम बेबीकंवर, हेल्पर मदन शर्मा, गजेन्द्र की टीम की ओर से सोमवार को पारासर गांव में सर्वे किया गया। इस दौरान 60 लोगों को टेमी फ्लू की दवा दी गई तथा स्लाइड ली गई। इसी प्रकार फलसूण्ड गांव में भी सर्वे किया गया। यहां 25 जनों को टेमीफ्लू दी गई।
जैसलमेर में तैयार है वार्ड
जैसलमेर मुख्यालय स्थित जिले के एकमात्र राजकीय अस्पताल जवाहर चिकित्सालय में ऐहतियात के तौर पर स्वाइन फ्लू वार्ड तैयार कर लिया गया है। यहां वेंटीलेटर तथा ऑक्सीजन की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। चिकित्सालय की पीएमओ डॉ. उषा दुग्गड़ के अनुसार अस्पताल में संदिग्ध स्वाइन फ्लू के रोगियों से सेम्पल एकत्रित किए जाने की सुविधा है और उनकी जांच नि:शुल्क करवाई जाती है। इन सेम्पल की जांच जोधपुर तथा आवष्यकता होने पर जयपुर में करवाई जाती है। उन्होंने बताया कि अस्पताल में 24 घंटे स्वाइन फ्लू के उपचार में काम आने वाली टेमीफ्लू टेबलेट उपलब्ध है। डॉ. दुग्गड़ के मुताबिक इन टेबलेट की पर्याप्त मात्रा अस्पताल में हैं।
सर्दी के साथ बढ़ता है कहर
गौरतलब है कि स्वाइन फ्लू का असर सर्दी बढऩे के साथ-साथ बढ़ता जाता है। इसके लक्षण सामान्य सर्दी-जुकाम वाले ही होते हैं। ऐसे में कई बार लोग समय रहते सचेत नहीं हो पाते। चिकित्सकों के अनुसार लोगों को सर्दी-जुकाम की शिकायत होने पर तुरंत चिकित्सक को दिखाना चाहिए और जरूरी जांच करवाने में कोताही नहीं बरतनी चाहिए। स्वाइन फ्लू का वायरस छोटे बच्चों, बुजुर्गों तथा गर्भवती महिलाओं के साथ डायबिटिज के रोगियों को जल्द अपनी चपेट में लेता है। लोगों को भीड़भाड़ वाले स्थानों से दूर रहने तथा साफ-सफाई बरतने की सलाह भी दी जाती है।

तुरंत की कार्रवाई
फलसूंड क्षेत्र में स्वाइन फ्लू के संदिग्ध मामलों के सामने आने पर इलाके में निरोधक गतिविधियां तेजी से क्रियान्वित की गई है। हालांकि हमें मृत व्यक्तियों के स्वाइन फ्लू से ग्रस्त होने संबंधी रिपोर्ट नहीं मिली है। जिले में टेमीफ्लू टेबलेट की पर्याप्त उपलब्धता है।
-डॉ. बीएल बुनकर, सीएमएचओ, जैसलमेर

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned