Jaisalmer Video- जिले के 1.5 लाख किसानों में से 4 ने ही खुद को समझा उत्कृष्ट!


- कृषि विभाग की आत्मा परियोजना के लिए नहीं मिल रहे किसानों के आवेदन
- तीसरी बार बढ़ाई अंतिम तिथि

By: jitendra changani

Published: 11 Sep 2017, 08:26 PM IST

जैसलमेर . कृषि कल्याण व कृषि विकास विभाग की आत्मा योजना के अन्तर्गत दिए जाने वाले उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार से किसानों का मोह नहीं लग पाया है। इसमें आवेदन के लिए विभाग तीन बार अंतिम तिथि भी बढ़ा चुका है, लेकिन अब तक करीब १.५ लाख में से महज ४ किसानों ने ही आवेदन किया है। ऐसे ही बीते वर्ष भी महज १९ किसानों ने ही आवेदन किया था।
यह है योजना
उत्कृष्ट किसानों की तकनीक को अन्य किसानों तक पहुंचाने के लिए कृषि विस्तार सुधार कार्यक्रम (आत्मा) के अन्तर्गत प्रतिवर्ष श्रेष्ठ किसानों को पंचायत समिति, जिला व राज्य स्तरीय पुरस्कार देकर प्रोत्साहित किया जाता है। इसके लिए प्राप्त आवेदकों में से ब्लॉक स्तर पर दो-दो किसानों का चयन कर इनमें से दो किसानों का जिला स्तर पर तथा इनमें से एक किसान का चयन राज्य स्तर के लिए चयन किया जाता है। इन चयनित किसानों को राज्य स्तर पर 50, जिला स्तर पर 25 व पंचायत समिति स्तर पर 10 हजार रुपए व प्रशस्ति पत्र देने का प्रवाधान है।

फैक्ट फाइल
- 1.50 लाख से अधिक किसान हैं जिले में।
- 3 पंचायत समितियां हैं जिले में।
- 6 लाख वर्ग हेक्टेयर से अधिक है सिंचित कृषि क्षेत्र।
- 25 हजार से अधिक नलकूप हैं जिले में।
- 30 हजार से अधिक मुरबों में होता है कृषि कार्य।
- 4 किसानों ने ही अभी तक किया हैं आवेदन
- 3 बार तिथियां बढ़ा चुका है विभाग।
- 19 किसानों ने गत बार पुरस्कार के लिए किया था आवेदन
तिथि बढ़ाई है
योजना के तहत कृषि, उद्यानिक व पशुपालन क्षेत्र में नवाचार करने वाले प्रगतिशील किसानों को पुरस्कार देने का प्रावधान है। आवेदकों की संख्या कम होने से अंतिम तिथि बढ़ाई गई है।
- राधेश्याम नारवाल, उपनिदेशक कृषि विस्तार केन्द्र, जैसलमेर

 

योग्य किसानों की नहीं कमी
जानकारों की माने तो जैसलमेर जिले में किसानों की संख्या एक लाख से अधिक है और यहां कई किसान उद्यानिकी, पशुपालन व खेती भी करते है। बावजूद इसके कागजी औपचारिकता से अनजान होने के चलते योजना का लाभ नहीं ले पा रहे हैं।
... फिर बढ़ाई अंतिम तिथि
योजना को लेकर किसानों के आवेदन नहीं मिलने पर कृषि विभाग ने तीसरी बार अंतिम तिथि बढ़ाई है। अब किसान ३० अगस्त की बजाय १५ सितम्बर तक इसके लिए आवेदन कर सकते हैं।
यह हैं मापदंड
- प्रगतिशील कृषक को कृषि, पशुपालन व उद्यानिकी तीनों क्षेत्रों में नवाचार की योग्यता होनी चाहिए।
- निर्वाचित जनप्रतिनिधि, संस्था व विभाग की किसान के पास नवाचार की अनुशंसा होनी चाहिए।
- किसान इससे पहले किसी भी स्तर पर इस पुरस्कृत नहीं किया गया हो होना चाहिए।

Patrika
Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned