Video: बचे तो बस राख हुआ झोंपा, बिखरी फसल व आंसुओं का सैलाब...

-बच्चियों के सपने पूरे करने को बीन रहे थे तिनके, सपनों को ही निगल गई आग
-अग्किांड ने लील ली मासूम की जान, 300 मीटर की दूरी से हारी जिंदगी

By: Deepak Vyas

Published: 03 Apr 2021, 09:09 PM IST

नोख(जैसलमेर). अग्निकांड से पहले खेत में जहां गुरुवार दिन भर बच्चियों की खिलखिलाहट, फसल काट रहे लोगों की खुशी और फसल के बंडल नजर आ रहे थे, वहीं शुक्रवार को उसी जगह पर राख हुआ झोंपा, उसमें बचे लोहे के टुकड़े, बिखरी फसल... ही दिख रही थी। पीडि़त किसान परिवार के दर्द की भरी चीख सुनकर हर दिल यही कहता कि हे ईश्वर! ये क्या हुआ।? जैसलमेर जिले के नोख तहसील क्षेत्र की तालरिया ग्राम पंचायत के बीठे का गांव के एक खेत में गुरुवार शाम को बदकिस्मती का प्रकोप एक किसान परिवार पर कुछ इस कदर टूटा की जिसने भी सुना उसका कलेजा बैठ गया। हर कोई स्तब्ध रह गया। फसल काटने के लगभग अंतिम दिनों में किसान के खेत में बने रहवासी झोंपे में अचानक लगी आग में उसकी एक वर्षीय बच्ची जिंदा जल गई। इस दर्दनाक व ह्रदय विदारक घटना की जानकारी मिलने पर हर कोई दु:खी व गमगीन हो गया और पीडि़त परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट गया। गत 6 महीने से काश्तकारी पर खेत लेकर रह रहा किसान परिवार फसल निकालकर घर वापसी की तैयारी में ही था कि उन्हें ऐसा दर्द मिला जिसे वह जिंदगी भर भुला नहीं पाएंगे।
दो की बची जान
बीठे का गांव में निकटवर्ती जोधपुर जिले के कानासर गांव निवासी चंपा राम पुत्र चतराराम मेघवाल काश्तकारी पर खेत लेकर रह रहा था। खेत में चने की फसल कटाई का कार्य चल रहा था। इस कार्य के लिए चंपाराम उसकी पत्नी और उसकी चार पुत्रियां मौजूद थे। गुरुवार को उनमें से तीन पुत्रियां ही खेत में उनके साथ थी। जानकारी के अनुसार अपराह्न करीब 4 बजे उसकी पत्नी चाय बना कर फसल काट रहे लोगों के लिए लेकर खेत में चली गई और झोंपे में उसकी तीन पुत्रियां जिसमें एक 6 वर्षीय एक 4 वर्षीय और एक 1 वर्षीय को छोड़ कर गई । शाम करीब 5 बजे अचानक झोंपे में आग लग गई। तेज हवा के कारण आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। हालांकि इस दौरान उसकी दोनों बड़ी बच्चियां किसी तरह आग लगते ही अपने आप वहां पर से बाहर आ गई, जिससे उनकी तो जान बच गई लेकिन उसकी 1 वर्षीय पुत्री जसोदा इस आग में जिंदा जल गई । आग लगते ही उन्होंने जैसे ही देखा वह सब झोंपे की ओर दौड़ पड़े लेकिन तेज हवा और घासफूस के झोंपे में आग जल्द ही विकराल रूप लेकर उस मासूम की जिंदगी को लील गई और परिवार के लोगों के आंखों के सामने उनकी कलेजे का टुकड़ा जिंदा जल गया ।
फसल काटने की थी जुगत
कलेजे का टुकड़ा ही कट गया
चंपाराम अपनी फसल को काटकर उसे निकालकर अपने परिवार का पेट पालने की जुगत में था और इस सिलसिले में वो लोग लगभग सफल भी हो गए थे। वे खुशी-खुशी अपने घर जाने के सपने के साथ फसल काट रहे थे, लेकिन कुदरत को कुछ और ही मंजूर था। इस दौरान हुए हादसे ने फसल के साथ साथ उनके कलेजे का टुकड़ा ही काट दिया। चंपाराम व उसकी पत्नी अपनी चारों बच्चियों को अच्छी जिन्दगी देने के सपने पूरे करने के लिए अपना गांव व घर छोड़कर खेती में कड़ी मेहनत कर रहे थे । उनकी बदकिस्मती यहां भी उनका पीछा नहीं छोड़ रही थी । जहां पहले सिंचाई का पानी कम मिलने से फसल कमजोर थी तो गत दिनों के अंधड़ ने रही सही कसर निकाल दी थी । ऐसे में अपनी बच्चियों के लिए खेत में एक छोर पर कमजोर फसल के छितराए खड़े तिनकों को भी उन्होंने सहजने का प्रयास किया । बच्चियों के सपनों को पूरा करने के लिए जिन फसल तिनकों को काटने के लिए गए थे, उन्हीं ने अंतिम समय में उन्हें झोंपे से दूर कर दिया । फसल काट रहे खेत के उस कोने से झोंपे की दूरी करीब तीन सौ मीटर बमुश्किल थी, लेकिन तेज हवा और आंधी के साथ ही उनकी बदकिस्मती के कारण इस दूरी में मासूम की जिंदगी हार गई । जैसे ही आग की लपटें दिखी तो तत्काल वो लोग भागकर पहुंचे, लेकिन इतने कम समय में भी वो भी अपनी मासूम को नहीं बचा पाए । तेज हवा ने उन्हें कोई मौका नहीं दिया ।
उठ गया पीड़ा का डेरा
दर्दनाक हादसे के बाद पीडि़त परिवार अपनी मासूम का शव लेकर गुरुवार शाम को ही अपने पैतृक गांव निकल गया । दर्द व असीम पीड़ा के इस समय में उन्होंने अपनी छह महीने की मेहनत को वहीं भगवान भरोसे छोड़ दिया । हालांकि सूचना मिलते ही खेत मालिक मेघसिंह व अन्य ग्रामीण मौके पर पहुंचे और उसे ढांढस बंधाते हुए सभी ने फसल की रखवाली व अन्य कार्य में मदद का जिम्मा लिया । शुक्रवार को सूचना मिलने पर नोख नायब तहसीलदार गोविंदराम गर्ग व हल्का पटवारी जसवंतसिंह मौके पर पहुंचे । गर्ग ने बताया कि इस घटना का मौका मुआयना कर इसकी रिपोर्ट उच्च अधिकारियों को भेजकर पीडि़त परिवार को तत्काल मदद दिलवाने का प्रयास किया जाएगा। शुक्रवार को ही घटना की सूचना मिलने पर नोख थानाधिकारी मोहम्मद हनीफ भी मौके पर पहुंचे और मौका मुआयना किया । उनके अनुसार पीडि़त परिवार की ओर से कोई रिपोर्ट नहीं दी गई है । ऐसे में मर्ग दर्ज किया गया है ।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned