Jaislamer Video- जैसलमेर सरकारी नौकरी की भर्ती प्रक्रिया सवालों के घेरे में

अध्यापक और एलडीसी की भर्ती प्रक्रिया पर उठ रहे सवाल
-जिला परिषद से मांगी जा रही सूचनाएं

By: jitendra changani

Published: 11 Sep 2017, 10:17 PM IST

जैसलमेर . लंबे इंतजार के बाद शुरू हुई वर्ष 2013 में तृतीय श्रेणी अध्यापकों और कनिष्ठ लिपिकों की भर्ती की प्रक्रिया पर लगातार सवाल उठाए जा रहे हैं। जिला परिषद स्तर पर इन दिनों भर्ती की प्रक्रिया को पूर्ण किया जा रहा है। कई अभ्यर्थी वरीयता सूची में फेरबदल और की जा रही नियुक्तियों में अपारदर्शिता का आरोप लगाते हुए आपत्ति जता रहे हैं। जिला परिषद कार्यालय से सूचना का अधिकार के तहत भर्ती से संबंधित सूचनाएं भी मांगी जा रही हैं। हालांकि जिला परिषद प्रशासन भर्ती प्रक्रिया के पूरी तरह से नियमानुसार होने का दावा कर रहा है।

नहीं मिल रहा मौका
आरोप यह लग रहा है कि कनिष्ठ लिपिक भर्ती में न्यायालय की शरण लेने वाले ऑफ लाइन श्रेणी के अभ्यर्थियों को अभी तक नियुक्ति के लिए निर्धारित प्रक्रिया में आगे नहीं बढ़ाया जा रहा है, वहीं ऑनलाइन श्रेणी के अभ्यर्थियों को ही अनुभव प्रमाण पत्र व अन्य कागजात के आधार पर नियुक्तियां दी जा रही है। अध्यापकों तथा कनिष्ठ लिपिक भर्ती के लिए चयन सूचियों के टुकड़ों में निकाले जाने पर भी कई जने आपत्ति जता रहे हैं। आरोप यह भी है कि मेरिट में तब्दीली किए जाने से कई पात्र अभ्यर्थी नौकरी की दौड़ से बाहर हो गए हैं। अभ्यर्थियों का यह भी आरोप है कि जिला परिषद नियुक्तियों के मामले में दबाव में काम कर रहा है।

कर रहे प्रक्रिया की पूर्ण पालना
तृतीय श्रेणी शिक्षक व एलडीसी की नियुक्ति में प्रक्रिया की पूर्णरूप से पालना की जा रही है। किसी तरह की अनियमितता नहीं हो, इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है। फिर भी कोई शिकायत होगी तो उसकी जांच करवाएंगे।
-अनुराग भार्गव, सीईओ, जिला परिषद, जैसलमेर

 

यह भी पढ़ें-

सोसायटी के खिलाफ मामला दर्ज करवाने की मांग
जैसलमेर. सांई कृपा क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी के खिलाफ जमा करवाई गई राशि वापस नहीं लौटाने की शिकायतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को जैसलमेर निवासी ओमप्रकाष भाटिया ने इस संबंध में जिला पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन देकर सोसायटी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने और जमा करवाई गई राशि वापस दिलाने की मांग की है। ज्ञापन में भाटिया ने बताया कि उन्होंने सोसायटी में अब तक क्रमश: 2.20 लाख, 1.30 लाख तथा 1 लाख कुल 4.50 लाख रुपए जमा करवाए हैं। भाटिया के अनुसार सोसायटी की ओर से कार्यालय व कारोबार बंद कर दिए जाने से किसी भी राशि का भुगतान होना मुश्किल प्रतीत हो रहा है।

Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned