Video Jaisalmer- रामदेवरा मेला 2017- रामदेवरा में आस्था का ज्वार, पैदल व दंडवत करते पहुंच रहे श्रद्धालुओं की भक्ति कर रही हर किसी को रोमांचित

चहुंओर बाबा के जयकारे, उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

By: jitendra changani

Published: 31 Aug 2017, 09:59 PM IST

जैसलमेर (रामदेवरा). शुक्ल नवमी के दिन बाबा रामदेव के 633वां अंतरप्रांतीय मेले के समापन से पूर्व श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी तथा अलग-अलग स्थानों से आए हजारों श्रद्धालुओं ने बाबा की समाधि के दर्शन किए। इस अवसर पर बुधवार को जोधपुर , नोखा, बीकानेर , गंगानगर, पाली, बाड़मेर, बालोतरा, फलोदी सहित कई स्थानों से पदयात्रियों के जत्थे रामदेवरा पहुंचे। एक अनुमान के अनुसार करीब एक लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। सुगमता पूर्वक दर्शन करवाने के लिए मेलाधिकारी की ओर से पास जारी किए गए तथा अलग-अलग समय देकर करणी प्रवेश द्वार से उन्हें कतारबद्ध कर बाबा की समाधि के दर्शन करवाए गए। बुधवार को अधिक भीड़ के चलते पर्याप्त मात्रा में पुलिस का जाब्ता भी तैनात रहा।

jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

मेलाधिकारी ने लिया जायजा
गांव में अष्टमी के दिन श्रद्धालुओं की आवक कम हो जाने के कारण यहां बेरीकेट्स खाली नजर आ रहे थे। दूसरी तरफ जोधपुर व बीकानेर से आए पदयात्री संघों के हजारों यात्रियों के बुधवार को यहां पहुंचने से श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। इससे पोकरण व फलोदी रोड सहित गांव के अलग-अलग मार्गों पर श्रद्धालुओं की भीड़ रही। बुधवार को मेलाधिकारी रणधीरसिंह चौधरी, पुलिस उपाधीक्षक नानकसिंह, तहसीलदार नारायणगिरी, थानाधिकारी अमरसिंह ने मेला चौक, करणी द्वार, रामसरोवर, मंदिर परिसर, रेलवे स्टेशन सहित विभिन्न स्थानों का भ्रमण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। बुधवार को परचा बावड़ी, रामसरोवर, झूला पालना सहित दुकानों पर श्रद्धालुओं की भीड़ देखने को मिली।

jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

संघों ने डाले पड़ाव
जोधपुर, नोखा, लूणकरणसर, बीकानेर, सरदारशहर, बाड़मेर सहित 10 से 20 हजार की तादाद में संघ के साथ आए श्रद्धालुओं ने गांव में स्थित विद्यालय के खेल मैदान, मेला चौक एवं आसपास खाली स्थानों पर शामियाने लग पड़ाव डाले हैं। छोटा सा गांव रामदेवरा बुधवार को महानगर का रूप धारण किए हुए था। गांव में सभी मुख्य मार्गों पर चहल-पहल के चलते पांव रखने को भी जगह नहीं मिली। इसके अलावा जयपुर से संत जगदीशपुरी महाराज ने बाबा रामदेव की समाधि के दर्शन कर अपने साथ लाया गया सात फीट 70 किलो वजनी कपड़े का घोड़ा चढ़ाया। संत ने बताया कि उनके पुत्र के दिल में छेद हो गया था। बाबा रामदेव से प्रार्थना करने के बाद अब वह पूरी तरह से ठीक है। जिस पर वे अपने पुत्र के साथ यहां आए तथा बाबा की समाधि के दर्शन किए।

jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

सेवाओं में जुटे लोग
भादवा मेले के दौरान कोलकाता से आए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ रही है। कोलकाता से गत 30 वर्षों से आ रहे गोपूबाबू, रामबाबू, शीला, वीणा, निधि, अशोक आचार्य सहित अन्य श्रद्धालुओं ने बाबा की समाधि के दर्शन किए तथा यहां आए श्रद्धालुओं को मिर्चीबड़ा, कचोरी , नींबू पानी, मिल्क शेक का वितरण किया। इसी प्रकार बड़ा बाजार श्रीरानी सती जनजागरण सेवा मंडली कोलकाता से आए भवानीशंकर, अशोककुमार, ओमप्रकाश, सुशीला ने ड्रायफ्रूट का वितरण किया। श्रीरामदेव चैरीटेबल ट्रस्ट कोलकाता से आए अशोक पुरोहित व उनकी टीम गत तीन दिनों से गांव में पोकरण रोड पर श्रद्धालुओं को चाय, नाश्ता, भोजन आदि करवाकर सेवा कर रही है।

Jaisamer patrika
IMAGE CREDIT: jaisalmer patrika
Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned