Jaisalmer Video- शहीद की शहादत पर महानुभवों के यह विचार...

By: jitendra changani

Published: 10 Sep 2017, 01:06 PM IST

Jaisalmer, Rajasthan, India

Rajasthan patrika

1/4

जैसलमेर में शहीद पूनमसिंह भाटी के बलिदान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम

जैसलमेर . शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि शहीदों की शहादत सदैव चिरस्थायी रहती है और उनकी शहादत को स्मरण करना प्रत्येक व्यक्ति का कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि पूनमनगर के शहीद पूनमसिंह भाटी ने पुलिस प्रहरी के रुप में देश की रक्षा के लिए सीमा पर पाक दुश्मनों से लोहा लेते हुए अपने प्राणों का उत्सर्ग कर शहादत दी यह पुलिस विभाग का पहला उदाहरण है। शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी शहीद पूनमसिंह स्मृति संस्थान के तत्वावधान एवं बलिदान दिवस समिति के सौजन्य से आयोजित शहीद पूनमसिंह के बलिदान दिवस श्रद्धाजंलि समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। समारोह की अध्यक्षता युआईटी अध्यक्ष डॉ. जितेन्द्रसिंह ने की एवं जैसलमेर विधायक छोटूसिंह भाटी ,पोकरण विधायक शैतानसिंह राठौड़, जिला प्रमुख अंजना मेघवाल ,नगरपरिषद सभापति कविता खत्री ,पुलिस अधीक्षक गौरव यादव, पूर्व युवराज चैतन्यराज सिंह , पूर्व विधायक गोवद्र्वन कल्ला, सांगसिंह भाटी, भाजपा जिलाध्यक्ष जुगलकिशोर व्यास, विक्रमसिंह नाचना, उच्चतम न्यायालय के अधिवक्ता देवेन्द्रसिंह राघव, सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर वीडी.एस निर्वाण विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे। शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी के साथ ही अन्य अतिथियों ने शहीद पूनमसिंह की मूर्ति पर पुष्प चक्र एवं माल्यार्पण कर श्रद्धाजंलि अर्पित की। शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी ने कहा कि राज्य सरकार ने गत एक वर्ष में 109 शहीदों के नाम विद्यालयों का नामकरण किया। उन्होंंने कहा कि राज्य सरकार ने 200 वीर-वीरांगनाओं के पाठ विद्यालयी पाठ्यक्रम में शामिल किया है, जिससे आने वाली युवा पीढ़ी को उनके वीर गाथाओं का ज्ञान होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश की 316 पुस्तकालयों में शहीद भगतसिंह के जेल डायरी की पुस्तिका को उपलब्ध कराया है।
शहीद पूनमसिंह के नाम विद्यालय का होगा नामकरण
उन्होंने शहीद पूनमसिंह के नाम विद्यालय का नामकरण हो इसके लिए शिक्षा विभाग के अधिकारियों को प्रस्ताव प्रेषित करने के निर्देश दिए और भरोसा दिलाया कि उसमें सकारात्मक कार्यवाही की जाएगी। अध्यक्षीय उद्बोधन में डॉ. जितेन्द्रसिंह ने कहा कि जैसलमेर का इतिहास सदैव गौरवशाली रहा है और यहां के वीर सपूतों ने देश की रक्षा के लिये अपने प्राणों का उत्सर्ग किया वह हमारे लिए वंदनीय है। जैसलमेर विधायक छोटूसिंह भाटी ने शहीद पूनमसिंह की शहादत का पाठ विद्यालयी पाठ्यक्रम में शामिल करने एवं उनके नाम से विद्यालय का नामकरण करने की बात कही। पोकरण विधायक शैतानसिंह राठौड़ ने संकल्प से सिद्धि से राष्ट्र के विकास सभी को सहयोग करने एवं संकल्प करने का आह्वान किया। पूर्व विधायक गोवद्र्धन कल्ला ने शहीद पूनमसिंह के वृतांतों पर प्रकाश डाला। जिला प्रमुख अंजना मेघवाल ने भी कहा कि यह हमारे लिए गौरव की बात है कि शहीद पूनमसिंह जैसे वीर सपूत हमारे यहां पैदा हुए है। समारोह के प्रारंभ में समिति एवं संस्थान के सह सचिव शैतानसिंह पूनमनगर ने संस्थान का वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। बडोड़ा गांव के चंदनसिंह का हुआ सम्मान
शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी ने इस अवसर पर शहीद पूनमसिंह के साथ युद्ध लडऩे वाले बडोड़ा गांव निवासी चंदनसिंह भाटी का माल्यार्पण कर एवं स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मान किया। शिक्षा के क्षेत्र में जिले में अव्वल रही छात्रा भाविश शर्मा , निशा भाटी ,कविता पालीवाल का भी स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मान किया। इसके साथ ही साहित्य के क्षेत्र में रतनसिंह भाटी तथा सुल्तानसिंह पूनमनगर के योगदान के लिए भी उनका सम्मान किया गया। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ व्याख्याता बराईदीन सांवरा एवं व्याख्याता विजय बल्लाणी ने किया। समारोह का समापन राष्ट्रगान के साथ हुआ। 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned