scriptVideo: Thousands of people gathered in the Vaikunthi Yatra of Shivsukh | Video: शिवसुखनाथ महाराज की वैकुंठी यात्रा में उमड़े हजारों लोग | Patrika News

Video: शिवसुखनाथ महाराज की वैकुंठी यात्रा में उमड़े हजारों लोग

जिले के आध्यात्मिक जगत में शोक की लहर...
-पूर्व राजघराने के राजगुरु थे शिवसुखनाथ महाराज
-आसरी मठ में दी गई समाधि

जैसलमेर

Published: November 17, 2021 04:21:14 pm


जैसलमेर. पूर्व राजघराने के राजगुरु और जैसलमेर के आसरी मठ के मठाधीश शिवसुखनाथ महाराज के देहावसान से जिले के आध्यात्मिक और धार्मिक क्षेत्र में मंगलवार को बड़ी रिक्तता आ गई। उन्होंने सुबह करीब आठ बजे मठ में अंतिम सांस ली। उनका स्वास्थ्य पिछले कुछ समय से बिगड़ा हुआ था। वे ७६ वर्ष के थे। उनकी वैकुंठी यात्रा आसरी मठ से शहर के मुख्य मार्गों और प्रमुख बाजारों से होते हुए निकाली गई। जिसमें हजारों की तादाद में लोग शामिल थे। अंतिम यात्रा में महिलाओं की भागीदारी भी भरपूर रही। लोगों ने भजन-कीर्तन करते हुए मठाधीश को अंतिम विदाई दी। वैकुंठी यात्रा पुन: गड़ीसर के पास स्थित आसरी मठ पहुंची। वहां शाम के समय उन्हें समाधि दी गई। नाथ स प्रदाय के वि यात संत शिवसुखनाथ महाराज को अंतिम विदाई देने बड़ी सं या में संत-महात्मा जैसलमेर पहुंचे। तारातरा मठ के महंत प्रतापपुरी, जिला प्रमुख प्रतापसिंह सोलंकी, नगरपरिषद सभापति हरिवल्लभ कल्ला, पूर्व विधायक छोटूसिंह भाटी आदि जनप्रतिनिधियों के साथ पूर्व राजपरिवार के विक्रमसिंह नाचना, रेणुका भाटी आदि ने उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने उनके निधन को धर्म, अध्यात्म और समाज जगत के लिए बड़ी क्षति बताया है।
दौड़ी शोक की लहर
इससे पहले मंगलवार सुबह शिवसुखनाथ महाराज के निधन की खबर जंगल में आग की तरह फैली। मठ से जुड़े श्रद्धालुओं में शोक की लहर दौड़ गई। आमजन भी स्तब्ध रह गया। थोड़ी देर में लोगों का आसरी मठ पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। मठ के विशाल सत्संग कक्ष में शिवसुखनाथ महाराज के गुरु की प्रतिमा के पास उनकी पार्थिव देह को अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। बड़ी तादाद में जिलावासियों ने माल्यार्पण कर उनके अंतिम दर्शन किए। मठ में लगातार वाणी-भजनों का कार्यक्रम भी चलता रहा। आसरी मठ के बाहर की दुकानें शोक में बंद रही। व्यवस्था संभालने के लिए पुलिस बल भी वहां पहुंचा। सोशल मीडिया पर महाराज को श्रद्धांजलि देने का क्रम भी दिनभर चलता रहा।
दो पूर्व महारावलों का किया था तिलक
गौरतलब है कि शिवसुखनाथ महाराज ने जैसलमेर की पूर्व रियासत के दो पूर्व महारावलों का राजतिलक किया। उन्होंने १९८२ में दिवंगत पूर्व महारावल बृजराजसिंह का राजतिलक किया था। इस साल के शुरुआत में बृजराजसिंह के देहावसान के पश्चात उनके ज्येष्ठ पुत्र चैतन्यराजसिंह का राजतिलक भी शिवसुखनाथ महाराज ने किया। करीब पांच वर्ष पूर्व उन्होंने जीवित भंडारा का विशाल आयोजन आसरी मठ में किया था। जिसमें नाथ सम्प्रदाय के सभी प्रमुख संत-महंतों को आमंत्रित किया था। जिसमें उस समय के सांसद योगी आदित्यनाथ भी यहां पहुंचे थे और हजारों की सं या में लोगों ने प्रसादी ग्रहण की थी। उनके महंत रहने के दौरान आसरी मठ का व्यापक स्तर पर जीर्णोद्धार हुआ और वहां विशाल मंदिर आदि निर्माण कार्य करवाए गए। गो सेवा के क्षेत्र में भी शिवसुखनाथ महाराज हमेशा सक्रिय रहे।
पिता के निधन के बाद लिया संन्यास
जानकारी के अनुसार शिवसुखनाथ महाराज का जन्म का नाम शिवदानसिंह था और वे मूलत: जिले के बालाना गांव के निवासी थे। उनके पिता आमसिंह भाटी थे। उन्होंने युवावस्था में जैसलमेर में जलदाय विभाग में पांच वर्ष तक नौकरी की। बताया जाता है कि इस दौरान उनके पिता का निधन गांव में हो गया। जिसकी जानकारी तत्कालीन समय में उन्हें नहीं मिल सकी। कहा जाता है कि पिता के निधन के १२ दिन तक उन्हें चैन नसीब नहीं हुआ तथा १३वें दिन एक स्वप्र ने उनकी जिंदगी को बदल दिया। उन्होंने संन्यास लेने का फैसला किया। उन्हें संतोषपुरी महाराज ने संन्यास दिलाया। नाथ संप्रदाय में बीकानेर के निरंजन नाथ ने उनका प्रवेश करवाया और वे वहीं रहने लगे। तब आसरी मठ के महंत भूतनाथ महाराज हुआ करते थे। उनके देहावसान के बाद स्थान रिक्त होने पर जैसलमेर के तत्कालीन पूर्व महारावल रघुनाथसिंह बीकानेर के निरंजन नाथ से उन्हें भेजने का अनुरोध किया। गुरु की आज्ञा से तब शिवसुखनाथ महाराज जैसलमेर आ गए और रघुनाथसिंह ने १९८० में पर परा के मुताबिक चादर ओढ़ा कर उन्हें राज गुरुद्वारे आसरी मठ का महंत घोषित किया।
Video: शिवसुखनाथ महाराज की वैकुंठी यात्रा में उमड़े हजारों लोग
Video: शिवसुखनाथ महाराज की वैकुंठी यात्रा में उमड़े हजारों लोग

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

प्रियंका गांधी पर बरसी मायावती कहा, कांग्रेस वोट कटवा बीएसपी को ही वोट देंCovid-19 Update: देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, ओमिक्रॉन केस 10 हजार पारSubhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणनेताजी की जयंती अब पराक्रम दिवस के रूप में मनाई जाएगी, PM मोदी समेत इन नेताओं ने दी श्रद्धांजलिदिल्ली में जनवरी में बारिश का पिछले 32 साल का रिकॉर्ड ध्वस्त, ठंड से छूटी कंपकंपी, एयर क्वालिटी में सुधारशोएब अख्तर बोले- 'विराट कोहली की जगह होता तो शादी नहीं करता, उन्हें कप्तानी छोड़ने के लिए किया गया मजबूर'राजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडमध्यप्रदेश के सिर्फ 11 जिलों में मिल रहा 'खरा' खोना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.