एक माह से जलापूर्ति बंद, ग्रामीण परेशान, मवेशी का हो रहा बेहाल

ग्रामीण क्षेत्रोंं में भीषण गर्मी के मौसम में बिगड़ी जलापूर्ति व्यवस्था के कारण ग्रामीणों व मवेशी का बेहाल हो रहा है। दूसरी तरफ जलदाय विभाग की ओर से व्यवस्था को सुधारने को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है।

By: Deepak Vyas

Published: 24 May 2020, 08:25 PM IST

पोकरण. ग्रामीण क्षेत्रोंं में भीषण गर्मी के मौसम में बिगड़ी जलापूर्ति व्यवस्था के कारण ग्रामीणों व मवेशी का बेहाल हो रहा है। दूसरी तरफ जलदाय विभाग की ओर से व्यवस्था को सुधारने को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। क्षेत्र के झलोड़ा भाटियान गांव में गत एक माह से जलापूर्ति बंद होने के कारण ग्रामीणों को पेयजल संकट से रूबरू होना पड़ रहा है। गांव के एडवोकेट उम्मेदसिंह भाटी सहित ग्रामीणों ने बताया कि दांतल ग्राम पंचायत के झलोड़ा भाटियान गांव में गत एक माह से जलापूर्ति बंद होने के कारण जीएलआर व पशुकुण्ड सूखे पड़े है। जिससे ग्रामीणों को एक हजार रुपए देकर बलाड़ व राजमथाई से ट्रैक्टर टंकियों से पानी खरीदकर मंगवाना पड़ रहा है। इसके अलावा मवेशी का बेहाल हो रहा है। उन्होंने बताया कि भणियाणा उपखंड क्षेत्र के लगभग सभी गांव इन्दिरा गांधी नहर परियोजना से जुड़ चुके है, लेकिन झलोड़ा भाटियान के ग्रामीण आज भी मीठे पानी का इंतजार कर रहे है। ऐसे में उन्हें परेशानी भी हो रही है। बावजूद इसके जलदाय विभाग की ओर से यहां जलापूर्ति सुचारु करने तथा हिमालय के मीठे पानी की आपूर्ति शुरू करने को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। इसी प्रकार क्षेत्र के झलारिया गांव में भी गत कई दिनों से जलापूर्ति बंद पड़ी है। जिसके कारण ग्रामीणों को मजबूरन पानी खरीदकर मंगवाना पड़ रहा है, तो मवेशी पानी के लिए जंगलों में भटककर दम तोड़ रहे है।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned