JAISALMER NEWS- जैसलमेर को यह कैसा ईनाम अव्वल रहने के बाद छीन लिया सामान!

JAISALMER NEWS- जैसलमेर को यह कैसा ईनाम अव्वल रहने के बाद छीन लिया सामान!
Patrika news

Jitendra Kumar Changani | Updated: 22 May 2018, 08:35:27 PM (IST) Jaisalmer, Rajasthan, India

लाभ में अव्वल रहने के बाद जैसलमेर से छीन ली नौ बसें!

वर्ष के शुरुआती तीन माह में 1.06 करोड़ की आय
पांच साल में मिली 15 रोडवेज बसें, वह भी वापिस मंगवाई
जैसलमेर. कमाई के लिहाज से राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम की लाभ देने वाली इकाइयों की फेहरिस्त में शामिल होने के बावजूद जैसलमेर रोडवेज डिपों को नई बसों की सौगात देने की बजाय नौ बसें वापिस मंगवाने की कवायद शुरू की गई है। बताया जा रहा है कि कार्मिकों के अभाव में रोडवेज की बसें अन्य डिपों को स्थानान्तरित करने की कवायद शुरू की गई है। ऐसे में सुविधाओं के लिहाज से पहले से ही पिछड़े जैसलमेर जिले के कई ग्रामीण रुट पर बस संचालन का सपना इस वर्ष भी पूरा नहीं हो सकेगा। जानकारी के अनुसार गत वर्ष की तुलना में जैसलमेर डिपो ने इस वर्ष पहले तीन महीनों में 1 करोड़ 6 लाख की आय अर्जित कर प्रति किलोमीटर औसतन आय में बढ़ोतरी दर्ज करने की थी। बावजूद इसके अन्य डिपो में कार्मिकों के अभाव में खड़ी बसें अब वापिस भेजने की तैयारी की जा रही है। गत वित्तीय बजट में जैसलमेर के रोडवेज डिपो को 15 बसें दी गई थी, जिससे यहां के ग्रामीण क्षेत्रों में भी रोडवेज बस संचालन की उ मीद जगी थी। सूत्र बताते हैं कि जैसलमेर रोडवेज को मिली 15 बसों में से 5 बसें पहले ही वापिस भेज दी गई है और अब 9 बसों को सीकर रोडवेज डिपो को स्थानान्तरित करने की कवायद की जा रही है।

 

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

70 फीसदी गांव रोडवेज से वंचित
-सरहदी जैसलमेर जिले के 70 फीसदी से अधिक गंाव रोडवेज बसों से वंचित है।
-ग्रामीण रुटों पर बसों का संचालन करने की बजाय बसों की सं या घटाई जा रही है।
-सरहदी गांवों के लोगों को आज भी रोडवेज बस सुविधा और संचालित योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

तीन रुट बंद
जैसलमेर रोडवेज डिपो की प्रबंधन समिति ने इस वर्ष तीन रुट से बसों का संचालन बंद कर दिया है। जानकारी के अनुसार जैसलमेर डिपो की ओर से फरवरी से मई तक में जैसलमेर-जयपुर-जैसलमेर, जैसलमेर-बाड़मेर-जैसलमेर, रामदेवरा-जोधपुर-रामदेवरा रुट पर संचालित बसे बंद कर दी गई है।

अब बचेगी इतनी बसें
जैसलमेर को 15 नई बसें मिलने के बाद रोडवेज के बड़े में बसों की संश्या 47 हो गई थी, लेकिन इनमें से सभी नई बसें डिपो में ही खड़ी रही। इनका संचालन करने के लिए कोई कार्मिक नहीं मिला। बसों को अन्यत्र स्थानांतरित किए जाने के बाद जैसलमेर डिपो के पास घटकर 37 बसें ही रह जाएगी।

 

फैक्ट फाइल
-38 हजार से अधिक वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है जैसलमेर जिला।
- 5 हजार से अधिक यात्री जैसलमेर रोडवेज में करते है प्रतिदिन सफर।
- 2013 में सब डिपों से रोडवेज डिपो में क्रमोन्नत हुआ था जैसलमेर डिपो।
- 34 बसों के साथ शुरू हुआ था जैसलमेर डिपो।
- 2 बड़े रुट दिल्ली और अहमदाबाद की स्लीपर और वोल्वों बसों का संचालन हुआ बंद।
- 2018 में जयपुर रुट से एक बस का संचालन किया बंद।
- 1 दर्जन से अधिक यात्री सुविधा योजनाओं का रोडवेज यात्रियों को मिलता है लाभ।

नहीं थे कार्मिक
राज्य सरकार की ओर से 15 नई बसें आवंटित की गई थी, लेकिन कार्मिक नहीं थे, ऐसे में यह बसे बड़े में खड़ी थी। उन्हीं बसों को वापिस भेजा जाएगा, जो रुट पर संचालित नहीं हो रही है।
-राजहंस उपाध्याय मु य प्रबंधक रोडवेज डिपो, जैसलमेर

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned