scriptWorld Water Day Special- The water level of Lathi Formation is declini | विश्व जल दिवस विशेष-- लाठी फार्मेशन के जल स्तर में हो रही है गिरावट | Patrika News

विश्व जल दिवस विशेष-- लाठी फार्मेशन के जल स्तर में हो रही है गिरावट

लाठी फार्मेशन के जल स्तर में गिरावट तो हो ही रही है

जैसलमेर

Updated: March 21, 2022 07:52:39 pm

जैसलमेर. जल ही जीवन है, जल है तो कल है का नारा... समय के साथ अपनी महत्ता सिद्ध कर रहा है। भू-जल के अंधाधुंध दोहन ओर सतही जल के दुरूपयोग की प्रवृत्ति आने वाले समय में गंभीर संकट पैदा करने वाली है। चिंता की बात ये है कि विश्व के सर्वश्रेष्ठ भू-गर्भीय जल भंडारों मे गिने जाने वाली लाठी फार्मेशन के जल स्तर में गिरावट तो हो ही रही है, साथ में उसकी गुणवत्ता भी हानिकारक तत्वों के कारण प्रभावित हो रही है। बढ़ते दोहन के साथ इस जल में फ्लोराइड, नाइक्ट्रेट जैसे तत्व निर्धारित मनकों से कही ज्यादा बढ़ गए है। उत्तर भारत के सर्वश्रेष्ठ भू-जलीय स्रोत माने जाने वाले लाठी फार्मेशन के भंडार जैसलमेर ओर बाड़मेर जिलों में लगभग 5000 वर्ग किलोमीटर में फैले है। पेयजल की समस्या से सदियों से पीडि़त रहे बाड़मेर ओर जैसलमेर जिलों में लाठी फार्मेंशन का जल गंगा जल बनकर वरदान बना। संयुक्त राष्ट्र संघ के विकास कार्यक्रम के तहत 1962 में इस भूगर्भीय जल को नलकूपों के माध्यम से लोगों को उपलब्ध कराया गया। लाठी, चांधन, बरडाना, डाबला, कीता, राजमथाई, झिनझिनयाली, देवड़ा, टिकटियाली, गिराब जैसे अनेक गांवों में नलकूप खोद कर लोगों और पशुधन की प्यास बुझाई गई। इसी जल से चांधन के आसपास जेठा, भैरवा, सोढ़ाकोर, धायसर क्षेत्र में नलकूप खोदकर कृषि कार्य सरकारी फर्मो के माध्यम से शुरू हुआ। इन फार्म से लोगों को अनाज, रोजगार और पशुओं को चारा मिलना शुरू हुआ। भीषण गर्मी से तपती ओर वनस्पति विहिन मरुधरा पर वन विकास के काम शुरू हुए और देखते ही देखते रूप बदल गया। इसी जल से 1985 के अकाल राहत कार्यों के तहत जिले में नलकूप से क़ृषि कार्य शुरू हुआ। संसाधनों की कमी के कारण खेती में भू-जल का उपयोग प्रारम्भ के कुछ वर्षो में सीमित रहा, लेकिन आज हालात बदल गए है। जिले के हर कोने में नलकूप से खेती होती देखी जा सकती है। लोगों की जीवन दशा तो बदली, लेकिन अंधाधुंध दोहन ने भू जल की दशा बिगाड़ के रख दी। पानी के स्तर में गिरावट तो हुई, जल की रासायनिक गुणवत्ता ही बदल गई। अमृत सामान लाठी के भू-जल में कुल घुलित लवणों की मात्रा मिली ग्राम प्रति लीटर तक बढ़ गई है। हानिकारक फ्लोराइड की मात्रा परमिशन लिमिट 1.5 मिली ग्राम से बढ़कर 3 से 4 मिलीग्राम तक पहुंच चुकी है। बढ़ते दोहन से राजमथाई प्रतापपुरा क्षेत्र के आस-पास के नलकूप जवाब देने लग गए है। चांधन क्षेत्र के नलकूपों में खारे पानी की समस्या बढ़ती जा रही है। यही हालात रहे तो वो दिन दूर नहीं जब खेती तो दूर पीने के लिए गुणवत्ता युक्त जल मिलना कठिन हो सकेगा। विडंबना यह है कि तमाम सरकारी प्रयासों के बावजूद आमजन जल के प्रति संजीदा नहीं हो रहा। जल अभियान, मुख्य मंत्री जल स्वावलंबन अभियान, अटल भू-जल, राजीव गांधी जल संचयन जैसे ना जाने कितने अभियान जल के प्रति लोगो को जागरूक करने के लिए चल रहे है, लेकिन अभी भी हमारी मानसिकता नहीं बदली। दु:ख तो यह है कि पानी के लिए बैसाख मास में श्रम दान करने वाले, नाडियों ओर तालाबों को खुदवाने वाले, आगोर की पवित्रता बनाने के लिए जूझने वाले मरुधरा के वासी ही जल की महत्ता भूल चुके है। पानी तो सरकार को उपलब्ध कराना ही हैए हमारा क्या जाता है की इस मानसिकता से जल भंडारों की दुर्दशा हो रही है। सरकार पानी तो उपलब्ध करा देगी, लेकिन कहां से और कब तक इसलिए विश्व जल दिवस के इस मौके पर अहम ये प्रण लें कि हम जल के प्रति ईमानदार रहेंगे, इसकी एक एक बूंद को सहेजने का प्रयास करेंगे।
विश्व जल दिवस विशेष-- लाठी फार्मेशन के जल स्तर में हो रही है गिरावट
विश्व जल दिवस विशेष-- लाठी फार्मेशन के जल स्तर में हो रही है गिरावट

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

वाराणसी कोर्ट में सर्वे रिपोर्ट पर फैसला सुरक्षित, एडवोकेट कमिशनर ने 2 दिन का मांगा समय, SC में ज्ञानवापी का फैसला सुरक्षितAssam Flood: असम में बारिश और बाढ़ से भीषण तबाही, स्टेशन डूबे, पानी के बहाव में ट्रेन तक पलटीराजस्थान BJP में सियासी रार तेज: वसुंधरा ने शायरी से साधा निशाना... जिन पत्थरों को हमने दी थीं धड़कनें, वो आज हम पर बरस...कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम में PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीक्रिकेट इतिहास के 5 सबसे लंबे गेंदबाज, नंबर 1 की लंबाई है The Great Khali के बराबरकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांग
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.