कोख में कन्याओं का हत्यारा डॉक्टर गिरफ्तार, मशीन जब्त

स्वास्थ्य विभाग ने जाल बिछाकर पकड़ा खेल

अवैध Gender Testing स्कैन सेंटर का पर्दाफाश

By: Bhanu Pratap

Updated: 22 May 2020, 12:56 PM IST

चंडीगढ़। स्वास्थ्य विभाग ने लुधियाना में एक चिकित्सक को Gender Testing परीक्षण करते रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। इसके लिए विभाग ने जाल बिछाया था। अल्ट्रासाउंड केन्द्र पंजीकृत भी नहीं था। सबकुछ फर्जी काम चल रहा था। स्वास्थ्य मंत्री पंजाब बलबीर सिंह सिद्धू के दिशा-निर्देश के बाद यह कार्रवाई की गई। पोर्टेबल अल्ट्रासाउंड मशीन बरामद की गई है। डॉक्टर कन्या भ्रूण हत्या कर रहा था।

बिछाया जाल

डायरेक्टर स्वास्थ्य सेवाओं (परिवार कल्याण) डॉ. प्रभदीप कौर जौहल ने बताया कि उनको लुधियाना में Gender Testing रैकेट चलाने की एक गुप्त सूचना गुरदासपुर जि़ले से मिली। इसके बाद सिविल सर्जन गुरदासपुर किसन चंद के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने एक जाल बिछाया। एक फर्जी मरीज़ तैयार किया गया और उसे स्कैन सैंटर पर भेजा गया, जहाँ उसको भ्रूण का Gender Testing के लिए 15,000 रुपए की अदायगी करने के लिए कहा गया। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग द्वारा नोट किए नंबरों वाले पंद्रह हज़ार रुपए के करेंसी नोट भी मरीज़ को दिए।

Doctor

15 हजार रुपये बरामद

एजेंट द्वारा हिदायत की गई जानकारी के अनुसार एक महिला लुधियाना के बाईपास से मरीज़ को अपनी कार में लुधियाना के जमालपुर क्षेत्र के सांईं क्लिनिक ले गई। जैसे ही डॉक्टर ने Gender Testing के लिए अल्ट्रासोनोग्राफ़ी शुरू की, टीम ने अस्पताल में छापा मारा और क्लिनिक के मालिक डॉक्टर राकेश कुमार को दिए गए करेंसी नोट भी बरामद कर लिए, जो विभाग द्वारा दिए गए नोटों के नंबरों के साथ मेल खाते थे। दोषी डॉक्टर को एक पोर्टेबल अल्ट्रासाउंड मशीन के साथ रंगे हाथों पकड़ा गया। वह अल्ट्रासाउंड स्कैन सैंटर के रजिस्ट्रेशन सम्बन्धी कोई दस्तावेज़ नहीं दिखा सका। इसके अलावा वह पी.एन.डी.टी. एक्ट के अधीन अन्य ज़रूरी धाराओं का उल्लंघन करता पाया गया। यह भी सामने आया है कि मरीज़ से कोई आई.डी. नंबर नहीं लिया गया था और न ही उसकी तरफ से कोई सहमति दर्ज की गई थी।

डॉक्टर गिरफ्तार

मौके पर पहुँची टीम ने पोर्टेबल अल्ट्रासाउंड मशीन को कब्ज़े में ले लिया और साथ ही जमालपुर पुलिस ने सिविल सर्जन लुधियाना की हाजिऱी में दोषी डॉक्टर को गिरफ़्तार कर लिया। उसके विरुद्ध पीसी एंड पीएनडीटी एक्ट, आइपीसी और सीआरपीसी धाराओं के अंतर्गत मुकद्दमा दर्ज किया गया। डा. प्रभदीप कौर जौहल ने आगे कहा कि भविष्य में भी ऐसी कार्यवाहियां जारी रहेंगी। उन्होंने ऐसी बुराइयों के ख़ात्मे के लिए आम लोगों को आगे आने की अपील भी की।

Cash
Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned