पंजाब में नहीं बढ़ेगा लॉकडाउन, कोविड परीक्षण क्षमता 20 हजार प्रतिदिन करेंगेः कैप्टन अमरिन्दर सिंह

कोविड फैलाव को रोकने के लिए सुरक्षा उपायों का पालन करें

पंजाब में कोरोना की स्थिति नियंत्रण में होने पर संतोष जताया

By: Bhanu Pratap

Published: 29 Jun 2020, 09:08 PM IST

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने सोमवार को उम्मीद जताई कि राज्य में कोविड -19 की मौजूदा स्थिति को देखते हुये आगे कोई लॉकडाउन नहीं लगेगा। इसके साथ ही उन्होंने लोगों से अपील की कि वह सुरक्षा उपायों की पालना करें जिससे उनके परिवारों और राज्य का बचाव हो सके।

कोरोना परीक्षण क्षमता दोगुनी होगी
पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि नज़दीक भविष्य में किसी भी तरह की आपात स्थिति से निपटने के लिए राज्य की तरफ से बड़े स्तर पर प्रबंध किये गए हैं। चार नयी लैब से कोविड टेस्टिंग क्षमता जुलाई के अंत तक 20,000 प्रतिदिन तक बढ़ा दिया जायेगा जोकि मौजूदा समय में 10,000 प्रतिदिन के करीब है। वर्तमान स्थिति को देखते हुए लॉकडाउन को आगे के लिए रद्द कर दिया गया है। उल्लेखनीय है कि पंजाब में प्रत्येक शनिवार और रविवार को लॉकडाउन था।
जरूरी उपकरण मौजूद

खांसी जुकाम पर डॉक्टर की सलाह लें

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि वह सचमुच हैरान होते थे जब वह स्वास्थ्य सुरक्षा प्रोटोकोल का उल्लंघन के दोष में लोगों को चालान करने के रोज़मर्रा की रिपोर्ट को देखते थे। उन्होंने लोगों को चेतावनी देते हुये कहा कि वह न सिर्फ अपने स्वास्थ्य बल्कि पूरे राज्य की सुरक्षा के लिए स्वास्थ्य दिशा-निर्देशों की पालना करें। उन्होंने लोगों को सलाह भी दी कि कोरोना वायरस के लक्षणों को केवल मौसमी परिर्वतन समझ कर लापरवाही न बरतें और आम फ्लू, ज़ुकाम, खाँसी, शरीर दर्द और बुख़ार की सूरत में तुरंत डाक्टर की सलाह लेकर इलाज करवाएं।
अस्पतालों में पर्याप्त बिस्तर

एक अन्य सवाल का जवाब देते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले पड़ाव में कोविड के मरीज़ों के लिए सरकारी अस्पतालों में 4248 बैड रखे गए हैं और 2014 बैड अब और जोड़े जा रहे हैं जबकि 950 बैड प्राइवेट अस्पतालों में रखे गए हैं। उन्होंने बताया कि संकट गंभीर होने की सूरत में बड़ी संख्या में लोगों को रखने के लिए 52 सरकारी और 195 प्राइवेट एकांतवास केन्द्रों की शिनाख़्त की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 554 वेंटीलेटर की मौजूदगी के अलावा अन्य साजो-सामान अस्पतालों और अन्य फ्रंटलाईन वर्करों को पहले ही सौंप दिया गया। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के पास 5.18 लाख एन-95 मास्क, तिहरी परत वाले 75.47 लाख मास्क, 2.52 लाख पी.पी.ई. किटें और 2223 ऑक्सीजन सिलंडर का स्टॉक भी मौजूद है। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने बताया कि राज्य के पास महामारी के आगे फैलाव को रोकने के लिए ज़रूरी उपकरण मौजूद हैं, जिस कारण वह अब तक इसको काबू पाने में सफल साबित हुए हैं। वह नहीं चाहते कि भंडारण में पड़ी इन वस्तुओं को बरतने की ज़रूरत पड़े क्योंकि उनका सारा ध्यान जान बचाने पर है। पंजाबियों के जज़्बे की सराहना करते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने उनसे अपील भी की कि वह बड़े सार्वजनिक हितों के लिए कोरोना वायरस की इस संकट की घड़ी में संयम बनाई रखें।

कामगार पंजाब लौटने लगे

कोविड -19 के कारण प्राइवेट सैक्टर पर पड़े प्रभाव संबंधी पूछे गये सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि अपने पैतृक राज्यों को जाने वाले कामगार अब पंजाब लौटने लगे हैं क्योंकि वह जानते हैं कि पंजाब में रोजग़ार के अथाह मौके हैं। हालाँकि, उन्होंने कहा कि राज्य की ज्यादातर औद्योगिक इकाईयों ने काम करना शुरू कर दिया है और जल्द ही यह इकाईयाँ पूरे निर्माण सामथ्र्य के साथ काम करना शुरू कर देंगी, जिससे राज्य के राजस्व को बड़ा योगदान मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसमें से कोई शक नहीं कि कोरोना के संकट के कारण राज्य को 33,000 करोड़ रुपए का राजस्व नुकसान हुआ है परन्तु केंद्र सरकार ने 20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज में से एक धेला भी राज्य को नहीं दिया। केंद्र ने सिर्फ राज्य के हिस्से का 2200 करोड़ रुपए का जी.एस.टी. दिया है जो उसका कानूनी हक है।

सवाल का जवाब टाल गए
यह पूछे जाने पर कि क्या पंजाब सामाजिक फैलाव (कम्युनिटी ट्रांसमिशन) में दाखि़ल हो चुका है क्योंकि देश में कोविड मामलों की संख्या पाँच लाख को पार कर चुकी है और सिर्फ बीते दिन ही 19000 केस सामने हैं तो इसके जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि महाराष्ट्र, तमिलनाडु और दिल्ली जैसे राज्यों के तुलनात्मक आधार पर पंजाब में स्थिति बहुत हद तक काबू में है। उन्होंने उम्मीद ज़ाहिर की कि कोविड के संकट से निपटने के लिए लोगों की सक्रिय हिस्सेदारी निश्चित रूप से तौर पर प्रभावित करेगी।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned