शुभ करमन ते टरी पुलिस, पीडि़त ने दी जान

शुभ करमन ते टरी पुलिस, पीडि़त ने दी जान

Nitin Bhal | Publish: Aug, 08 2019 05:16:24 PM (IST) Jalandhar, Jalandhar, Punjab, India

Punjab: ‘शुभ करमन ते कभु न टरो’ पंजाब पुलिस का यह ध्येय वाक्य लोगों को संबंल देता है कि उनकी सुरक्षा और संरक्षा के लिए पुलिस है। हालांकि राज्य में गाहे-ब-गाहे ऐसे मामले...

जालंधर (धीरज शर्मा) . ‘शुभ करमन ते कभु न टरो’ पंजाब पुलिस का यह ध्येय वाक्य लोगों को संबंल देता है कि उनकी सुरक्षा और संरक्षा के लिए पुलिस है। हालांकि राज्य में गाहे-ब-गाहे ऐसे मामले सामने आ ही जाते हैं जब कुछ पुलिसकर्मी शुभ कर्म न कर अशुभ कर्मों पर उतारू हो जाते हैं। ऐसा ही मामला गुरुवार को जालंधर में सामने आया। जब देहात पुलिस ने लूट के एक मामले में पीडि़त को इतना प्रताडि़त किया कि वो जान दे बैठा। देहात पुलिस की लापरवाही के चलते एक व्यक्ति ने गुरुवार को पठानकोट रोड पर गांव ब्यास के पास ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी। मृतक की पहचान गोल्डन एवेन्यू फेस टू के रहने वाले जरनैल सिंह के रूप में हुई है। मृतक के मौसेरे भाई जतिंदर सिंह ने बताया कि उसका भाई बुधवार को अमृतसर की तरफ से लौट रहा था। करतारपुर से मकसूदां आते समय उसकी कार को बाइक सवार तीन युवकों ने घेरा और उससे तीन लाख रुपए लूटकर फरार हो गए। जरनैल ने पुलिस कंट्रोल रूम पर सूचना दी। पहले करतारपुर और मकसूदां थाने की पुलिस हदबंदी को लेकर झगड़ती रही। फिर थाना मकसूदां पुलिस ने जांच शुरू कर दी। जतिंदर का कहना है कि पुलिस लूट की घटना को मानने से इनकार ही करती रही। कभी भाई को मौके पर लेकर जाती तो कभी बार-बार थाने बुलाती। उसके बाद पुलिस ने उसे धमकाना शुरू कर दिया कि वह झूठ बोल रहा। थाने से भी उसे बुधवार देर रात घर वापस भेजा गया। इससे परेशान होकर गुरुवार सुबह उसने ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी। मौके पर पहुंची जीआरपी ने जांच शुरू कर दी है। हालांकि थाना मकसूदां के एसएचओ रमनदीप सिंह का कहना है कि पुलिस ने जरनैल को कोई परेशान नहीं किया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned