अकाल डिग्री कॉलेज (महिला) में करोड़ों का घपला, प्रबंध समिति निलंबित, जांच का आदेश

वित्तीय अनियमितताओं की जांच के लिए उच्च स्तरीय समिति गठित

बीए में दाखिल जारी रहेगाः तृप्त राजिन्दर सिंह बाजवा

By: Bhanu Pratap

Published: 08 Jul 2020, 06:16 PM IST

चंडीगढ़। अकाल डिग्री कॉलेज (महिला) में करोड़ों का घपला हुआ है। इसे देखते हुए पंजाब सरकार ने कड़ा कदम उठाया है। कॉलेज की प्रबंध समिति को निलंबित कर दिय गया है। जांच के लिए उच्चस्तरीय समिति का गठ किया गया है। कॉलेज ने बीए में दाखिला न करने का फैसला किया था। सरकार ने इसे आदेश को रद्द कर दिया है। साफ कहा है कि बीए पहला भाग में दाखिला जारी रहेगा।

शिक्षा मंत्री का आदेश
पंजाब के उच्च शिक्षा मंत्री तृप्त राजिन्दर सिंह बाजवा ने आज स्पष्ट किया कि अकाल डिग्री कॉलेज (महिला) संगरूर में बी.ए. भाग पहला के लिए दाखिला जारी रहेगा। उन्होंने बताया कि लड़कियों के निर्विघ्न दाखिले को यकीनी बनाने और लोगों की भावना का सम्मान करते हुए कॉलेज की प्रबंधक समिति को बी.ए. का रेगुलर कोर्स बंद करने, डी.पी.आई. (कॉलेजों) के स्पष्टीकरण का ठोस जवाब न देने और उच्च शिक्षा विभाग की हिदायतों का उल्लंघन के दोष अधीन तत्काल प्रभाव से निलंबित करके अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर (जनरल), संगरूर को कॉलेज का प्रबंधक नियुक्त कर दिया है। इसके साथ ही कॉलेज की वित्तीय अनियमितताओं की जांच के लिए कप्तान पुलिस (सिटी), पटियाला की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय समिति गठित की गई है। श्री बाजवा ने समिति को सख्त निर्देश दिए हैं कि शिकायतों सम्बन्धी हर पक्ष से जाँच करके 15 दिनों के अंदर रिपोर्ट दी जाये।

करोड़ों की ग्रांट मिल चुकी है

श्री बाजवा ने बताया कि विभाग को शिकायतें मिलीं थीं कि संगरूर के अकाल डिग्री कॉलेज (महिला) की प्रबंधक समिति की तरफ से कॉलेज में शुरू से चल रहे बी.ए. के रेगुलर कोर्स को बंद करने के मंतव्य से साल 2020-21 से बी.ए. भाग-पहला की क्लास में दाखिला न करने का फैसला लिया गया है। कोर्स को बंद करने से इलाके के लोगों में रोष और विरोध पाया जा रहा है क्योंकि यह कॉलेज सरकार से ग्रांट-इन-एड स्कीम के अंतर्गत वित्तीय सहायता प्राप्त करता है और कॉलेज को अब तक करोड़ों रुपए का अनुदान सरकार की तरफ से दिया जा चुका है। भारत सरकार /यू.जी.सी. और अन्य अलग-अलग सरकारी और निजी क्षेत्र की एजेंसियों की तरफ से भी कॉलेज को करोड़ों रुपए की वित्तीय सहायता दी जा चुकी है। शिकायतों के अनुसार कॉलेज प्रबंधक समिति की तरफ से प्राप्त ग्रांट का दुरुपयोग करते हुए पैसे को दूसरे कामों के लिए इस्तेमाल किया गया है।

एडीस संगरूर प्रबंधक नियुक्त
उन्होंने बताया कि कॉलेज की प्रबंधक समिति की तरफ से अखबारों में बार-बार इश्तिहार देकर लिखा जा रहा है कि क्लास बी.ए. भाग-पहला के लिए कॉलेज में दाखिला नहीं किया जायेगा। इस सम्बन्धी दफ्तर डी.पी.आई. (कॉलेज) की तरफ से कॉलेज से इस मुद्दे पर माँगे गए स्पष्टीकरण कॉलेज मैनेजमेंट की तरफ से नहीं दिया जा रहा और न ही उच्च शिक्षा विभाग की हिदायतों का पालन किया जा रहा है। इसलिए कॉलेज की प्रबंधक समिति को तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए ए.डी.सी. (ज), संगरूर को कॉलेज का प्रबंधक नियुक्त किया गया है।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned