गेहूं खरीद केंद्र पर किसानों का हंगामा, छ्नाई-तुलाई के नाम पर ज्यादा रुपए मांगने का आरोेप

बुंदेलखंड के जालौन में किसानों को खरीद केन्द्रों पर लगातार ठगा जा रहा है...

जालौन. उत्तर प्रदेश सरकार ने गेहूं का समर्थन मूल्य निर्धारित कर किसानों से गेहूं खरीद शुरू की थी और गेहूं खरीद के लिए केंद्र भी बनाए थे जिससे किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य मिल सके। लेकिन बुंदेलखंड के जालौन में किसानों को खरीद केन्द्रों पर लगातार ठगा जा रहा है। जिससे परेशान होकर दर्जनों किसानों ने खरीद केंद्र पर जमकर हंगामा किया। साथ ही खरीद केन्द्र प्रभारी पर भ्रष्टाचार का आरोप भी लगाया।

 

जिले का किसान परेशान

प्रदेश की योगी सरकार किसानों के लिये हितकारी योजनाएं लागू कर किसानों को हर संभव मदद करने का प्रयास कर रही हो। लेकिन उनके ही अधिकारियो और कर्मचारियों की मिली भगत से जनपद जालौन का किसान परेशान है। जैसे- तैसे किसान अपनी फसल को सूखा, ओलावृष्टि से बचाकर गेहूं खरीद केंद्र पर लाता लेकिन केंद्र क्रय केंद्र पर प्रभारी की मनमानी और भ्रष्टाचार के कारण परेशान होना पड रहा है। इसी से परेशान होकर आज जालौन के कोंच स्थित RFC गेहूं खरीद केंद्र पर किसानों ने जमकर हंगामा किया और केंद्र प्रभारी पर गंभीर आरोप लगाये।

 

30 से 100 रुपये तक मांग रहे सुविधा शुल्क

गेहूं बेचने RFC कराया केंद्र पर पहुंचे किसानों ने जोरदार हंगामा कराते हुये क्रय केंद्र प्रभारी राजीव सिंह पर गंभीर आरोप लगाते हुये बताया कि केंद्र प्रभारी सरकारी रेट 10 रुपये की जगह 30 से 100 रुपये की सुविधा शुल्क ले रहे है। किसानों का आरोप है कि अगर किसान अपना गेहूं को तुलवाता है तो उसे सुबिधा शुल्क देनी पड़ती है।कर्मचारियों को छनाई-तुलाई के नाम पर तय शुक्ल के अलावा ऊपरी भी सुविधा शुल्क देनी पड़ती है। किसानों का यह भी आरोप है कि वह पिछले 5 दिनों से अपनी पर्ची कटाकर क्रय केंद्र पर मौजूद है और केंद्र प्रभारी अपने खास लोगों का गेहूं उसी दिन तौल रहे है जिस दिन वह लेकर आते है जबकि 5 दिन पुराने नमबरा लगाये किसानों का गेहूं नहीं तौल रहे है। इसके अलावा वह किसानों से छनाई तुलाई के नाम पर अवैध बसूली कर रहे है जब उन्हे रुपये नहीं दिये तो उन्होने खरीद ही बंद करा दी साथ ही क्रय केंद्र प्रभारी उन्हे जहर खाने की बात खाते है।

 

आरोप बेबुनियाद- केंद्र प्रभारी

इस मामले में RFC के केंद्र प्रभारी राजीव सिंह का कहना है किसानों के ये सभी आरोप बेबुनियाद है वह सभी की तुलाई करा रहे है और जिसका नंबर आ रहा है उसकी तुलाई कराते है अगर किसी किसान की तुलाई बीच में कराते है तो किसान विवाद करने लगते है। इसके अलावा उन्होने कहा किसी किसान से रुपये नहीं लिया जा रहा है और आज लेवर न होने के कारण तुलाई नहीं हो पा रही है।


रुपये ज्यादा लेने पर केंद्र पर होगी कार्रवाई- एसडीएम

इस मामले में जब कोंच के उपजिलाधिकारी सुरेश चंद्र सोनी से पूंछा तो उन्होने कहा कि किसी किसान से ज्यादा रुपये नहीं लिया जायेगा और जो भी केंद्र ज्यादा रुपये लेगा उसके खिलाफ कारवाही की जाएगी। उन्होने बताया कि सरकार ने 10 रुपये निर्धारित किया है उससे ज्यादा कोई नहीं ले सकता।


सरकार को देना होगा ध्यान

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा निर्धारित किये गये गेंहू के समर्थन मूल्य से किसान खुश है लेकिन सरकारी क्रय केन्द्रो पर उनके साथ जो किया जा रहा है उससे किसान नाखुश है यदि इस ओर सरकार ध्यान नहीं देती है तो किसानों का यह आंदोलन सड़क पर देखने को मिल सकता है। इसलिए इस मामले में सरकार को ध्यान देने की जरूरत है।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned