सपा के कदौरा ब्लाक प्रमुख की बची सीट, कोरम पूरा न होने पर नहीं हुआ अविश्वास

Abhishek Gupta

Publish: Feb, 15 2018 10:15:16 PM (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
सपा के कदौरा ब्लाक प्रमुख की बची सीट, कोरम पूरा न होने पर नहीं हुआ अविश्वास

विरोध में भाजपाईयों की पुलिस से हुयी नोंक-झोंक.

जालौन. जालौन में आज सपा के कदौरा ब्लॉक प्रमुख के खिलाफ भाजपा समर्थित क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने अविश्वास प्रस्ताव रखा था, लेकिन सदस्यों का कोरम पूरा न होने के कारण इस अविश्वास प्रस्ताव को जिला प्रशासन ने रद्द कर दिया। सपा के ब्लॉक प्रमुख के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव न होने पर भाजपा समर्थित क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने जमकर हंगामा किया और पुलिस के साथ तीखी नोंक-झोंक हुयी। साथ ही जिला प्रशासन पर सपा प्रत्याशी का साथ देने का आरोप लगाया।

91 में पहुंचे मात्र 36 सदस्य-
प्रदेश में जब सत्ता बदली तो उम्मीद की जा रही थी जहां-जहां सपा के जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख हैं, वहां अविश्वास प्रस्ताव लाया जायेगा और वैसा ही जालौन के कुठौंद ब्लाक में देखने को मिला था और आज कदौरा में सपा ब्लाक प्रमुख विजय निस्वा के खिलाफ भाजपा समर्थित प्रत्याशी नरेंद्र द्विवेदी ने क्षेत्र पंचायत सदस्य के साथ मिलकर अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिये जिलाधिकारी के समक्ष सदस्यों की सूची सौंपी थी, जिससे सपा ब्लॉक प्रमुख के खिलाफ वोटिंग कराई जा सके। जब आज कदौरा ब्लॉक प्रमुख विजय निस्वा के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास होना था तो कदौरा ब्लाक के 91 क्षेत्र पंचायत सदस्यों में चर्चा के लिये मात्र 36 सदस्य ही पहुंचे। सदस्यों का कोरम पूरा न होने के कारण अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा नहीं हो सकी और जिला प्रशासन ने इसे रद्द कर दिया।

भाजपा सदस्यों ने लगाया प्रशासन पर आरोप, हुयी नौंक-झौंक
जब प्रशासन ने इसे रद्द किया तो भाजपा के क्षेत्र पंचायत सदस्य आक्रोशित हो गये और उन्होंने ब्लाक के बाहर हंगामा शुरू कर दिया। सदस्यों का हंगामा देखते हुये पुलिस प्रशासन ने सभी सदस्यों को ब्लॉक गेट से बाहर करने का प्रयास किया इस दौरान पुलिस और बीडीसी सदस्यों के बीच तीखी नौंक-झौंक हुयी। जहां पुलिस ने सभी को वहाँ से खदेड़ा। बीजेपी समर्थित क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने जिला प्रशासन पर आरोप लगाया कि उनके 15 सदस्य सही समय पर ब्लॉक पहुँच गये थे, लेकिन जिला प्रशासन ने ब्लॉक के गेट पर ताला डाल दिया और उन्हें अंदर नहींं जाने दिया। क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने बताया कि जिला प्रशासन ने सपा ब्लॉक प्रमुख से मिलकर उनके घर और रास्ते में पुलिस बैठा दी थी जिससे वह बैठक में शामिल न हो सके और अविश्वास प्रस्ताव नहीं ला सके। इसके अलावा सदस्यों ने बताया कि वह सही समय पर आ गये थे फिर भी उन्हे अंदर नहीं जाने दिया।

भाजपा के दबाव में प्रशासन कर रहा काम
कदौरा के सपा ब्लाक प्रमुख विजय निस्वा ने अपना अस्तित्व तो बचा लिया लेकिन उन्होने जालौन प्रशासन और भाजपा पर गंभीर आरोप लगाये। उन्होने कहा कि यह जीत उनके क्षेत्र पंचायत सदस्यों के कारण मिली है। लेकिन जिला प्रशासन भाजपा के इशारे पर उनके और सदस्यों के खिलाफ फर्जी मुक़द्दमे दर्ज करा रही है और उनके सदस्यों क धमका रही है। जिससे उनके खिलाफ अविश्वास हो सके। वह सभी सदस्यों आभार व्यक्त करते है जिन्होने उनको विजयी बनाया।

कोरम पूरा न होने पर रद्द हुआ अविश्वास प्रस्ताव
कालपी के उपजिलाधिकारी सतीश चन्द्र ने बताया कि आज कदौरा ब्लाक प्रमुख के खिलाफ आविश्वास होना था। इसके लिये सुबह 10 से 12 बजे तक चर्चा होनी थी और 12 से 5 बजे तक वोटिंग लेकिन 12 बजे तक 91 सदस्यों में मात्र 36 सदस्य पहुंचे जिससे चर्चा का कोरम पूरा नहीं हो सका और इसे रद्द करना पड़ा। जब एसडीएम से पूंछा कि सदस्यों का आरोप है कि वह सही समय पर आये लेकिन उन्हे अंदर नहीं जाने दिया। जिस पर उन्होने कहा कि 12 बजे तक जो आया सभी को अंदर आने दिया उसके बाद इंट्री पर रोक थी।

1
Ad Block is Banned