किसानों ने बीमा क्लेम मिलने पर उठाया धरना

किसानों ने बीमा क्लेम मिलने पर उठाया धरना
After getting insurance claim, farmers end strike

Dharmendra Ramawat | Updated: 18 May 2018, 10:04:17 AM (IST) Jalore, Rajasthan, India

बैंक एमडी व विधायक की मौजूदगी में लिखित आश्वासन पर माने किसान

चितलवाना. दी जालोर सैंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक शाखा अरणाय के किसानों की ओर से बीमा क्लेम की राशि खातों में जमा करवाने और हर साल लिया जाने वाला एक प्रतिशत सेवाकर नहीं लेने की मांग को लेकर चल रहा धरना गुरुवार को समाप्त किया गया। धरना स्थल पर बैंक के एमडी ओमकारसिंह भाटी व सांचौर विधायक सुखराम विश्नोई पहुंचे और वर्ष २०१६ का खरीफ फसल बीमा क्लेम खातों में जमा कराने, एक प्रतिशत सेवाकर हर साल नहीं लेने व शाखा प्रबंधक को हटाने का लिखित आश्वासन दिया। जिसके बाद किसानों ने धरना समाप्त किया। इस मौके पूर्व बीईईओ राणाराम विश्नोई, किसान नेता ईशराराम विश्नोई पूर्व सरपंच महेन्द्रसिंह अरणाय, पूर्व जिला परिषद सदस्य नरपतसिंह, प्रेमाराम लोमरोड़, रामलाल मंाजू, संघर्ष समिति के संयोजक जयराम मांजू व कोहलाराम खोखर सहित कई किसान मौजूद थे।
पत्रिका ने प्रकाशित किया था समाचार
गौरतलब है कि किसानों के साथ बैंक प्रशासन की ओर से किए जा रहे अन्याय को लेकर पत्रिका ने बुधवार के अंक में 'किसानों के साथ बैंक कर रही छलावाÓ शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था। जिसमें बताया गया था कि खरीफ २०१६ का बीमा क्लेम बैंक में जमा होने के बावजूद बैंक प्रशासन की ओर से किसानों के खातों में साल भर से बीमा क्लेम की राशि जमा नहीं की जा रही थी। वहीं बैंक की ओर से किसानों को दिए जाने वाले फसली ऋण के दौरान किसानों से एक प्रतिशत सेवा कर और जीएसटी भी वसूला जा रहा था। जिसके विरोध में किसान कई दिनों से धरना और क्रमिक अनशन कर रहे थे।
पत्रिका का जताया आभार
धरना समाप्ति के दौरान मौके पर पहुंचे विधायक ने किसी भी स्थिति में किसानों का पूरा-पूरा साथ देने का भरोसा दिलाया। इस दौरान विधायक व किसानों ने पत्रिका की ओर से किए गए सहयोग को लेकर भी आभार व्यक्त किया। जिस पर सभी ने तालियां बजाकर अभिवादन किया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned