भागलभीम गांव यह गहरा रहा संकट


नहीं दिया जा रहा समस्या पर ध्यान

By: khushal bhati

Published: 27 Nov 2019, 10:01 AM IST

भीनमाल. भागलभीम गांव के ग्रामीण पिछले 15 दिन से पेयजल संकट झेलने को मजबूर है। गांव के जीएलआर में एक बूंद भी पानी की आवक नहीं हो रही है। जीएलआर पूरी तरह से सूखा पड़ा है। ऐसे में ग्रामीणों को पेयजल का बंदोबस्त करना किसी चुनौनी से कम नहीं है। ग्रामीणों का कहना है कि सर्र्दी के मौसम में भी लोगों का पेयजल संकट झेलना पड़ रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि पिछले 15 दिनों से गांव के जीएलआर में पानी नहीं पहुंच रहा है। महिलाएं दिनभर पानी की जुगाड़ में इधर-उधर पहुंचती है। महिलाओं को एक मटके पानी के लिए आस-पास के कुओं पर जाना पड़ रहा है। इसके अलावा ग्रामीण महंगे दाम देकर पानी के टैंकर मंगवाने पड़ते है। जो कमजोर व गरीब तबके के लोगों के लिए बड़ी चुनौती बन गया है। ग्रामीणों का कहना है कि ट्यूबवैल में मोटर क्वालिटी की नहीं डालने से बार-बार जल जाती है। जेठाराम प्रजापत, उगमसिंह, जूठाराम प्रजापत, अमराराम प्रजापत ने बताया कि जलदाय विभाग के अधिकारियों को अवगत करवाने के बाद भी अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे है।


शिविर में जांचा स्वास्थ्य
भीनमाल. शहर राजकीय चिकित्सालय में राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत स्वास्थ्य जांच शिविर हुआ। शिविर में विद्यार्थियों के स्वास्थ्य की जांच कर दवाइयंा दी गई। इसके अलावा गंभीर बीमारी के 30 बच्चों को उच्च ईलाज के लिए आगे रैफर किया। बीसीएमओ डॉ. दिनेश कुमार ने बताया कि शिविर में 322 बच्चों के स्वास्थ्य की जांच की। शिविर में डॉ. नंदूसिंह, डॉ. गजानंद शर्मा, डॉ. जितेन्द्र सोलंकी, दंत रोग विशेषज्ञ डॉ. अक्षय बोहरा, डॉ. रमेश देवासी, डॉ. सुरेश चौधरी, डॉ. शंकराराम चौधरी, डॉ. निरज, डॉ. भाग्यश्री, राजेन्द्रसिंह, नेत्र सहायक आनन्द चौधरी व ओमप्रकाश विश्नोई मौजूद रहे।

khushal bhati Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned