चिकित्सा विभाग ने की ऐसी व्यवस्था कि मरीज हो रहे परेशान

चिकित्सा विभाग ने की ऐसी व्यवस्था कि मरीज हो रहे परेशान
चिकित्सा विभाग ने की ऐसी व्यवस्था कि मरीज हो रहे परेशान

Dharmendra Ramawat | Updated: 05 Jul 2019, 10:27:32 AM (IST) Jalore, Jalore, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

जालोर. किसी चिकित्सा संस्थान में स्वीकृत पांच पदों के विपरित तीन ही कार्मिक कार्यरत हो तो व्यवस्था प्रभावित होना लाजिमी है। लेकिन, इनमें से भी दो कार्मिकों को कार्य व्यवस्था के नाम पर अन्य प्रतिनियुक्त कर दिया जाए तो इसे क्या कहा जाएगा। चिकित्सा महकमे में प्रतिनियुक्ति का खेल कुछइसी तरह से चल रहा है। यह स्थिति जिला मुख्यालय पर संचालित शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की है।यहां एएनएम के कुल पांच पद स्वीकृत है, जिनमें से तीन ही कार्यरत है। लेकिन, इनमें से भी दो नर्सिंगकर्मियों को सांचौर ब्लॉक में प्रतिनियुक्ति पर भेज दिया गया। अब पूरे शहर का सर्वे और नर्सिंगकर्मी का कार्य एक ही एएनएम के जिम्मे हैं।कार्य व्यवस्था के लिए दो एएनएम को प्रतिनियुक्ति पर भेजने से इस अस्पताल की व्यवस्था जरूर बिगड़ गई। दिलचस्प तो यह भी है कि इस अस्पताल के लिए अब अन्य जगह से एएनएम को प्रतिनियुक्त करने की योजना चल रही है।
सांचौर में घर के नजदीक प्रतिनियुक्ति
सूत्र बताते हैं कि यहां से प्रतिनियुक्ति पर सांचौर ब्लॉक में गईं दोनों एएनएम वहीं की रहने वाली है।जिला मुख्यालय के बजाय घर के नजदीक रहने की चाह में कार्य व्यवस्था के तहत प्रतिनियुक्ति करवा ली गई, लेकिन जिम्मेदारों ने अस्पताल की व्यवस्था को सुचारू रखने के बजाय सीधे ही प्रतिनियुक्ति आदेश जारी कर दिए। अब पूरा कार्य भार एक एएनएम के जिम्मे है।
अरबन योजना में संचालित है अस्पताल
स्वास्थ्य विभाग ने कुछवर्ष पहले शहरी क्षेत्र में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्थापित करने की योजना लागू की थी। राष्ट्रीय हैल्थ मिशन के लिए अरबन कार्यक्रम प्रबंधक समेत पूरा सैटअप स्थापित किया गया।इसके तहत हर जिले में पचास हजार से ज्यादा आबादी वाले शहरों में अलग से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र संचालित किए जा रहे हैं।
नर्सिंग छात्राओं से करवा रहे काम
अधिकारी बताते हंै कि अस्पताल में प्रशिक्षु नर्सिंगकर्मियों को लगाया गया है। अभी प्रशिक्षण ले रही नर्सिंग छात्राओं को टीकाकरण समेत अन्य कार्य के लिए यहां लगाया है। छात्राओं के लिए यह प्रेक्टिकल कार्य है, लेकिन अस्पताल में प्रशिक्षित व नियमित रूप से कार्य करने वाली एएनएम फिलवक्त
एक ही है।
'क्योंÓ का जवाब किसी के पास नहीं
बताया जा रहा है कि शहरी अस्पताल की दो एएनएम को सांचौर भेज देने से अब एक ही एएनएम काम कर रही है। ऐसे में अन्य जगह से एक एएनएम को नियुक्त किया जा रहा है। विभागीय सूत्र बताते हैं कि इसके आदेश भी हो चुके हैं। कार्य व्यवस्था सुचारू रखने के लिए जब अन्य जगह से किसी को नियुक्त करना पड़े तो यहां कार्यरत एएनएम को बाहर क्यों भेजा गया इसका जवाब कोई नहीं
दे रहा।
अस्पताल में अभी एक ही एएनएम है...
अस्पताल में एएनएम के पांच पद स्वीकृत है पर तीन कार्यरत है। इनमें से दो को अभी सांचौर ब्लॉक में लगा रखा है। फिलहाल यहां एक ही एएनएम कार्य व्यवस्था देख रही है।
- डॉ.डीसी पूंसल, शहरी अस्पताल प्रभारी, जालोर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned