छलनी हुए बाईपास पर ग्रेवल बिछा कर छोड़ा, सडक़ पर पड़े गड्ढे अभी भी दे रहे दर्द

पंचायत समिति चौराहा से स्वरूपपुरा रोड होते हुए निकाले गए इस बाइपास पर हल्देश्वर महादेव मंदिर के सामने स्थिति ज्यादा खराब होने पर नगरपरिषद की ओर से ग्रेवल डलवाकर इसे ठीक जरूर करवाया गया है, लेकिन अभी भी इस मार्ग पर जगह-जगह डेढ़ से दो फीट गहरे गड्ढे पड़े हुए हैं।

By: Dharmendra Kumar Ramawat

Published: 24 Jan 2021, 09:41 AM IST

जालोर. शहर में यातायात दबाव को रोकने और भारी वाहनों के आवागमन के लिए सालों पहले निकाले गए बाइपास की हालत लंबे समय से खस्ता हो रखी है। इसके बावजूद जिम्मेदार अधिकारी इसकी दशा सुधारने की जहमत तक नहीं उठा रहे हैं। हालांकि बारिश के बाद पंचायत समिति चौराहा से स्वरूपपुरा रोड होते हुए निकाले गए इस बाइपास पर हल्देश्वर महादेव मंदिर के सामने स्थिति ज्यादा खराब होने पर नगरपरिषद की ओर से ग्रेवल डलवाकर इसे ठीक जरूर करवाया गया है, लेकिन अभी भी इस मार्ग पर जगह-जगह डेढ़ से दो फीट गहरे गड्ढे पड़े हुए हैं। हालत यह है कि अगर वाहनचालक जरा सी भी चूक करे तो हादसे का शिकार हो सकता है। नगरपरिषद की ओर से कुछ दिनों पहले इस मार्ग पर मंदिर के सामने जरूर ग्रेवल डलवाई गई थी। जिसके बाद लोगों को लगा था कि इस सडक़ मार्ग की मरम्मत हो जाएगी, लेकिन अधिकारियों का कहना है कि यह मार्ग पीडब्ल्यूडी के क्षेत्राधिकार में होने के कारण वही इसकी मरम्मत करवाएगी।
शहर का मुख्य बाइपास है ये
शहर में भारी वाहनों को घुसने से रोकने के लिए पंचायत समिति चौराहा से इस बाइपास को रूपनगर, रेलवे स्टेशन व आहोर चौराहा होते हुए निकाला गया है। स्वरूपपुरा रोड से रेलवे स्टेशन की तरफ मुड़ते ही यह रोड नगरपरिषद के अधीन आ जाता है, लेकिन इससे पहले का मुख्य रोड पीडब्ल्यूडी के क्षेत्राधिकार में आता है। ऐसे में मुख्य बाइपास होने के बावजूद संबंधित अधिकारी इसकी सुध नहीं ले रहे हैं।
भारी वाहनों से हुआ छलनी
बाइपास होने के कारण इस मार्ग से रोजाना काफी संख्या में भारी व हल्के वाहन गुजरते हैं। जिसके कारण इस मार्ग की स्थिति ऐसी हो गई है कि यहां से गुजरना किसी खतरे से खाली नहीं है। शहर के पंचायत समिति चौराहा से लेकर सामतीपुरा रोड होते हुए निकाले गए इस बाइपास मार्ग पर जगह-जगह गहरे गड्ढे हो गए हैं। पिछले विधानसभा चुनावों में भी पूर्व मुख्यमंत्री के दौरे के दौरान नगरपरिषद ने यहां हल्का फुल्का पेचवर्क जरूर करवाया गया था, लेकिन अब इसकी स्थिति काफी बिगड़ चुकी है।
उड़ते हैं धूल के गुबार
इस बाइपास मार्ग पर हल्देश्वर महादेव मंदिर के सामने, आईटीआई के आगे और इससे आगे तक जगह-जगह सडक़ पर गड्ढे पड़ गए हैं। वहीं कहीं कहीं तो सडक़ पूरी तरह से उखड़ गई है। ऐसे में यहां से वाहनों के गुजरने के दौरान दिन भर धूल के गुबार उड़ते रहते हैं। जिसके कारण आस पास के दुकानदार और मंदिर में आने वाले श्रद्धालु भी इससे परेशान हो रहे हैं।
कई सरकारी दफ्तर हैं इस मार्ग पर
गौरतलब है कि इसी रोड पर औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, डाइट, टिड्डी नियंत्रण, एफसीआई और अन्य सरकारी विभाग भी स्थित हैं। जहां हर रोज सरकारी अधिकारियों व कर्मचारियों का आना जाना लगा रहता है। उन्हें भी इस क्षतिग्रस्त मार्ग के कारण परेशानी झेलनी पड़ रही है। इसके बावजूद इसकी दशा नहीं सुधारी जा रही है।
इनका कहना...
हल्देश्वर महादेव मंदिर के सामने मार्ग की हालत काफी खस्ता हो गई थी। धार्मिक आस्था व लोगों की परेशानी के चलते नगरपरिषद ने यहां ग्रेवल डलवाई थी। जबकि पंचायत समिति चौराहा से स्वरूपपुरा जाने वाला रोड पीडब्ल्यूडी के क्षेत्राधिकार में आता है। इसका नवीनीकरण या मरम्मत कार्य पीडब्ल्यूडी ही करवा सकती है।
- विनय व्यास, एक्सईएन, नगरपरिषद जालोर
पंचायत समिति चौराहा से स्वरूपपुरा रोड ग्रामीण सडक़ में आती है। विभाग के पास फिलहाल बजट नहीं होने के कारण इसकी मरम्मत नहीं करवा पाए हैं। वैसे आपदा मद के तहत हमने इसकी मरम्मत का प्रस्ताव भेजा था, जिसकी स्वीकृति मिल गई है। वहीं वित्तीय स्वीकृति मिलते ही बजट मिलने पर इस मार्ग की मरम्मत करवाई जाएगी।
- शांतिलाल सुथार, एक्सईएन, पीडब्ल्यूडी, जालोर

Dharmendra Kumar Ramawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned