वरीयता क्रम को तोड़ डिस्कॉम कार्मिक कर रहे मनमर्जी से कनेक्शन

वरीयता क्रम को तोड़ डिस्कॉम कार्मिक कर रहे मनमर्जी से कनेक्शन
Deendayal Gramin vidhyutikaran Yojna Failed in Bhinmal Jalore

Dharmendra Ramawat | Updated: 17 Jul 2018, 11:18:17 AM (IST) Jalore, Rajasthan, India

ठेकेदार की लापरवाही से नहीं हुए कनेक्शन

भीनमाल. दूर-देहाती गांव-ढाणियों को बिजली से रोशन करने के लिए पंडित दीनदयाल ग्रामीण विद्युतीकरण योजना लक्ष्य से भटक रही है। डिस्कॉम के कारिंदे योजना के तहत वरीयता क्रम को तोड़कर चहेतों को कनेक्शन बांट रहे है। ऐसे में योजना के तहत गांव-ढाणियों के ग्रामीणों को विद्युत विभाग में डिमाण्ड जमा करवाए सालों गुजर जाने के बाद भी उन्हें कनेक्शन नसीब नहीं हो रहा है। कनेक्शन नहीं होने से ग्रामीण अंधेरे में रात गुजारने को मजबूर बने हुए है। क्षेत्र में 1400 परिवारों को डिमाण्ड की राशि जमा करवाने के बाद भी आशियाने को डिस्कॉम की रोशनी से उजाला होने का इंतजार है। सालों से ग्रामीण 10-10 हजार रुपए के डिमाण्ड नोट जारी करने के बाद विद्युत कनेक्शन का इंतजार कर रहे है। ठेकेदार की लापरवाही के चलते लोगों का समय पर विद्युत कनेक्शन नहीं मिल रहा है। लोग कनेक्शन के लिए रोजाना डिस्कॉम कार्यालयों के चक्कर काट रहे हंै। इतना कुछ होने के बाद भी इन लोगों की कोई सुनने वाला नहीं है। ढाणियों के बाशिन्दों का कहना है कि योजना के तहत ग्रामीणों को विद्युत कनेक्शन के लिए डिमाण्ड नोट भी जमा करवाए, लेकिन डिस्कॉम के अधिकारियों की ढिलाई के चलते कनेक्शन नहीं मिल पा रहे हैं। कनेक्शन के अभाव में लोगों को रात अंधेरे में गुजारनी पड़ रही है। खासकर नौनिहाल रात के समय में अध्ययन नहीं कर पाते है। लोगों का कहना है कि मोबाइल चार्ज करने के लिए आस-पास के ढाणियों में जाना पड़ता है।
1400 कनेक्शनों के डिमाण्ड जमा
डिस्कॉम के अधिकारियों के मुताबिक दीनदयाल उपाध्याय ग्राम विद्युतीकरण योजना के तहत 1400 कनेक्शनों के डिमाण्ड जमा हो रखे हंै। जिनमें से 300 कनेक्शन जारी हुए है। अधिकारियों का कहना है कि योजना का काम ठेके पर एक कंपनी की ओर से किया जा रहा है। कंपनी को ही सभी सामान आगे से जारी होता है। ठेकेदार की ओर से कई गांवों में केवल पोल लगा के छोड़ दिए है। लेकिन तार व ट्रांसफार्मर नही लग पाए जिसके चलते कनेक्शन होने में देरी हो रही है।
अब उपखण्ड स्तर से मॉनिटरिंग
दीनदयाल योजना की मॉनिटरिंग पहले जिला स्तर से होती थी। जहां पूरे जिले में मॉनिटरिंग का कार्यभार दो से तीन अधिकारियों पर था। जिससे प्रभावी मॉनिटरिंग नहीं हो पा रही थी। लेकिन अब उपखण्ड स्तर के डिस्कॉम के अधिकारी योजना की मॉनिटरिंग करेंगे। डिस्कॉम के अधिकारियों का कहना है कि अब उन्हें योजना की मॉनिटरिंग का जिम्मा सौंपा है। डिस्कॉम की ओर से कनिष्ठ अभियंताओं को लगाकर योजना की प्रभावी मॉनिटरिंग कर कनेक्शन जारी किए जा रहे है।
जीव-जंतुओं का भय
ढाणियों में विद्युत कनेक्शन नहीं होने से लोगों को रात के समय जहरीले जीव-जंतुओं का भय सताता है। गर्मी व बारिश के दिनों में लोगों को रात गुजारनी किसी चुनौती से कम नहीं है। बारिश के दिनों में तो लोगों को शाम ढलते ही घर के कार्य सभी निपटाने पड़ते है।
इनका कहना...
रोपसी गांव में घरेलु विद्युत कनेक्शन के लिए डिस्कॉम में सालभर पूर्व फाइल जमा करवाकर 10-10 हजार रुपए डिमाण्ड नोट जमा किए, लेकिन अभी तक कनेक्शन नहीं हुए है। डिस्कॉम की ओर से महज लाइन खड़ी की है। कनेक्शन के लिए चक्कर कटवा रहे है।
- शंकराराम मेघवाल, रोपसी
दीनदयाल योजना के तहत 2016 में फाइलें जमा करवाई थी, लेकिन सालभर गुजरने के बाद भी डिमाण्ड नोट जारी नहीं हुए है। हमारे बाद में जिन लोगों ने फाइलें जमा करवाई, उसके डिमाण्ड नोट जारी हो गए हंै।
- रामलाल सोलंकी, ग्रामीण नासोली
पहले जिला स्तर से योजना की मॉनिटरिंग की जाती थी। अब डिस्कॉम स्तर पर मॉनिटरिंग देने के बाद दीनदयाल योजना में 300 कनेक्शन जारी किए जा चुके है। ठेकेदार की लापरवाही के चलते देरी हुई। अब गांवो में कनिष्ठ अभियंता को लगाकर कार्य पूरा करवा रहे है।
- मनोज कुमार गोयल, सहायक अभियंता, डिस्कॉम-भीनमाल।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned