डिस्कॉम उपभोक्ताओं से वसूल रहा है दुगुना स्थायी शुल्क

Dharmendra Ramawat

Publish: Feb, 23 2019 12:03:40 PM (IST) | Updated: Feb, 23 2019 12:03:41 PM (IST)

Jalore, Jalore, Rajasthan, India

गोविंदसिंह जैतावत
भीनमाल. जोधपुर विद्युत वितरण निगम की ओर से बिजली उपभोक्ताओं से स्थायी शुल्क के नाम पर खुलेआम लूट हो रही है। डिस्कॉम अपने नियम कायदों को ताक में रखकर उपभोक्ताओं से मनमाने तरीके से निर्धारित राशि से कई ज्यादा वसूल कर अपनी जेंब भर रहे है।
स्थाई शुल्क के नाम पर निगम उपभोक्ताओं को भारी चपत लगा रहा है। लोग डिस्कॉम के चक्कर काट रहे है, लेकिन उपभोक्तओं की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। डिस्कॉम हर दो माह में उपभोक्ताओं को बिल जारी करता है। बिल में बिजली उपभोग के अलावा कुछ अन्य शुल्क भी शामिल हैं। निगम की ओर से स्थायी शुल्क की वसूली के लिए श्रेणियां बना रखी हैं, जो बिल के पीछे मुद्रित किया हुआ होता है। जिसमें किस श्रेणी में कितने बिजली उपभोग पर कितना स्थायी शुल्क देय होगा, लेकिन निगम इसकी पालना नहीं कर रहा है। निगम पिछले बिलों में उपभोग के आधार पर स्थाई शुल्क की वसूली कर रहा है। लेकिन अब उपभोक्ताओं का बिजली उपभोग कम हो गया है, लेकिन स्थाई शुल्क उसी के अनुरूप ले रहे है।
बिल पर मुद्रित घरेलू श्रेणी का स्थायी शुल्क
प्रथम 50 यूनिट प्रतिमाह 100 रुपए
51 से 150 यूनिट प्रतिमाह 200 रुपए। 151 से 300 यूनिट प्रतिमाह 220 रुपए। 301 से 500 यूनिट प्रतिमाह 265 रुपए। 500 से ज्यादा यूनिट प्रतिमाह 28 5 रुपए।
केस नं 1
दीपाराम वेलाराम घांची का संतोषी माता मंदिर के पास घर में घरेलू श्रेणी का कनेक्शन है। दीपाराम जनवरी माह का बिल 752 रुपए का बिल आया। जबकि निगम की ओर से स्थाई शुल्क 400 रूपए लगाया गया है। नियमानुसार 150 यूनिट तक स्थाई शुल्क 200 रूपए लगता है। जबकि उपभोक्ता के बिल में दुगुना स्थाई शुल्क लगाया गया है।
केस नं 2
कालूराम घांची के जनवरी माह का बिल 797 रुपए आया। जिसमें उपभोक्ता ने 8 1 यूनिट बिजली खर्च की है। इसमें भी डिस्कॉम की ओर से स्थाई शुल्क 400 रूपए लगाया गया है। जबकि नियमानुसार स्थाई शुल्क 200 ही होना चाहिए।
इनका कहना है...
बिजली के बिल में स्थाई शुल्क का निर्धारण उपभोक्ता के पूरे साल के उपभोग के अनुसार होता है। हर साल स्थाई शुल्क बदलता है।
- रमेश सेठ, अधिशाषी अभियंता, डिस्कॉम-भीनमाल

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned