डायवर्जन बना जी का जंजाल, आए दिन हो रहे हादसे

डायवर्जन बना जी का जंजाल, आए दिन हो रहे हादसे
डायवर्जन बना जी का जंजाल, आए दिन हो रहे हादसे

Dharmendra Ramawat | Updated: 13 Jul 2019, 11:12:51 AM (IST) Jalore, Jalore, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

नारणावास. बागरा से नारणावास व नया नारणावास होकर भागली प्याऊ तक किया गया डायवर्जन इन दिनों वाहनचालकों के लिए जी का जंजाल बना हुआ है। इस सड़क मार्ग की खराब स्थिति के कारण वाहनचालकों व यात्रियों की जान भी सांसत में रहती है। गुरुवार शाम को भी नारणावास-नया नारणावास सड़क मार्ग पर एक ट्रेलर व कार की भिड़ंत हो गई। जिसमें कार सवार एक व्यक्ति घायल हो गया। टक्कर के बाद ट्रेलर चालक ट्रेलर को नारणावास चौराहे पर ही छोड़ कर फरार हो गया। सूचना पर बागरा पुलिस मौके पर पहुंची और ट्रेलर जब्त किया। जानकारी के अनुसार गुरुवार शाम को नारणावास से नया नारणावास जाने वाले सड़क मार्ग पर एक ट्रेलर व कार की भिड़ंत हो गई। जिसमें कार चालक नया नारणावास निवासी मानसिंह परमार पुत्र सवाईसिंह घायल हो गया। हादसे के बाद मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। बाद में घायल को उपचार के लिए अस्पताल ले जाया गया। गौरतलब है कि बागरा में आरओबी निर्माण के चलते बागरा बस स्टैण्ड से नारणावास-नया नारणावास, खेजड़ला व जागनाथ रेलवे स्टेशन होकर भागली प्याऊ तक सड़क मार्ग डायवर्ट किया गया है। इस मार्ग पर जगह-जगह अतिक्रमण के अलावा व सड़क किनारे बबूल की घनी झाडिय़ां भारी वाहनों की परेशानी बढ़ा रही है। भारी वाहनों के आमने-सामने आने पर छोटे वाहनों का निकलना मुश्किल हो रहा है। वहीं झाडिय़ों में उलझने साइड ग्लास टूटना आम बात हो गई है। जिससे वाहन मालिकों को आर्थिक नुकसान हो रहा है।
चौड़ाई भी कम
वाहन चालकों ने बताया कि सड़क किनारे हो रखे अतिक्रमण हटाने, मोड़ों को चौड़ा करने व सड़क किनारे फैली झाडिय़ों को हटाने से ही समस्या का हल निकल सकता है। इसी तरह धवला मार्ग से भी वाहनों का आवागमन जारी है। इस मार्ग पर नारणावास से डेढ़ किमी धवला की ओर इमली के पेड़ फैले हुए हैं। साथ ही एक बड़ा पेड़ बिजली के तारों में टूट कर फंसा पड़ा है, जो कभी भी गिर सकता है। ऐसे में दुपहिया वाहन चालकों को भी हादसे का डर बना हुआ है।
परेशानी यह भी
बागरा से नारणावास, नया नारणावास व खेजड़ला मार्ग काफी संकरा है। रही-सही कसर सड़क किनारे बनी पटरी पर उगी बबूल की झाडिय़ों ने पूरी कर दी है। साथ ही नारणावास कस्बे में गौरव पथ पर नालियां अब जगह जगह से बिखरने लगी है। गौरव पथ की अभी तक पटरी नहीं बनी है। पटरी का भाग रेतीला होने से छोटे वाहन रेत में फंस रहे हैं। पटरी के अभाव में हल्के वाहनों को सड़क से नीचे उतारने या चढ़ाने में मुश्किल हो रही है। टायर नालियों में फंसकर हादसे को बढ़ावा दे रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned