ई-टेण्डरिंग के आवेदन के दौरान सरपंचों व ठेकेदारों के बीच मचा बवाल

पंचायत समिति में मंगलवार को ग्राम पंचायतों में मनरेगा कार्य के लिए सामग्री उपलब्ध करवाने को लेकर ई-टेण्डरिंग प्रक्रिया के तहत आवेदन के दौरान सरपंचों व ठेकेदारों के बीच बवाल मच गया। आवेदन को लेकर सरपंचों व ठेकेदारों के बीच हंगामा मचने के बाद विकास अधिकारी को मौके पर पुलिस जाब्ता बुलाना पड़ा।

By: Dharmendra Kumar Ramawat

Updated: 06 Jan 2021, 09:37 AM IST

आहोर. पंचायत समिति में मंगलवार को ग्राम पंचायतों में मनरेगा कार्य के लिए सामग्री उपलब्ध करवाने को लेकर ई-टेण्डरिंग प्रक्रिया के तहत आवेदन के दौरान सरपंचों व ठेकेदारों के बीच बवाल मच गया। आवेदन को लेकर सरपंचों व ठेकेदारों के बीच हंगामा मचने के बाद विकास अधिकारी को मौके पर पुलिस जाब्ता बुलाना पड़ा। इस दौरान पुलिस की मौजूदगी में ठेकेदारों ने टेण्डर जमा करवाए। इधर, पंचायत समिति क्षेत्र के सरपंचों ने विकास अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर टेण्डर प्रक्रिया निरस्त करवाने की मांग की। दरअसल, पंचायत समिति में ई-टेण्डरिंग प्रक्रिया के तहत आवेदन को लेकर ठेकेदारों व सरपंचों के बीच बवाल मच गया। इस दौरान उपस्थित महिला सरपंचों ने टेण्डर आवेदन पेटी को ही घेर लिया। जिस पर ठेकेदारों ने नारेबाजी कर आक्रोश जताया। आक्रोशित ठेकेदारों का कहना था कि टेण्डर प्रक्रिया में भाग लेने का सभी का समान अधिकार है। इसमें किसी की भी मनमर्जी नहीं चलेगी। आवेदन को लेकर सरपंचों व ठेकेदारों के बीच हंगामा मचने के बाद विकास अधिकारी को शांति व्यवस्था के लिए मौके पर पुलिस जाब्ता बुलाना पड़ा। इसके बाद पुलिस की मौजूदगी में ठेकेदारों ने टेण्डर जमा करवाए।
टेण्डर आवेदन के बक्से को थाने में रखवाया
आवेदकों की ज्यादा संख्या को देखते हुए पंचायत समिति प्रशासन की ओर से टेण्डर आवेदन डालने के लिए बड़ा बक्सा मंगवाया गया। पुलिस की मौजूदगी में ठेकेदारों ने टेण्डर आवेदन इस बक्से मेें डाले और इसके बाद बक्से को पुलिस थाने में रखवाया गया।
सरपंचों ने टेंडर प्रक्रिया निरस्त करवाने की मांग की
इधर, पंचायत समिति क्षेत्र के सरपंचों ने टेंडर प्रक्रिया में धांधली का आरोप लगाते हुए टेण्डर प्रक्रिया को निरस्त करवाने की मांग को लेकर विकास अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। जिसमें सरपंचों ने बताया कि मंगलवार को राजस्थान सरकार की ओर से ग्राम पंचायतों के नरेगा कार्य के लिए सामग्री उपलब्ध करवाने के लिए टेंडर प्रक्रिया चल रही थी। जिसके तहत वे ठेकेदारों को साथ में लेकर टेंडर कॉपी डालने के लिए पंचायत समिति कार्यालय में आए। इस दौरान सभी ठेकेदारों की ओर से रोका गया एवं महिला सरपंच व अन्य सरपंचों के साथ धक्का-मुक्की के साथ अभद्र व्यवहार कर किसी को भी टेंडर की कॉपी डालने नहीं दी गई। वहीं नारेबाजी कर उनकी पंचायतों के ठेकेदार जो उनके साथ आए थे, उन ठेकेदारों को वंचित रखा गया। ज्ञापन में टेंडर प्रक्रिया को निरस्त करवाने की मांग की गई।

Dharmendra Kumar Ramawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned