बारिश की कुछ बूंदों ने ही बयां कर दी डिस्कॉम की ये हकीकत

डिस्कॉम फेलियर से नर्मदा ही नहीं ट्यूबवैल सप्लाई भी हुई बंद, गलवार शाम से लेकर बुधवार को भी रहा विद्युत व्यवधान

By: Dharmendra Kumar Ramawat

Published: 04 Jul 2019, 10:42 AM IST

जालोर. मानसून के सक्रिय होने से पहले ही डिस्कॉम की व्यवस्था की पोल खुल रही है और फॉल्ट, अघोषित कटौती से इसका असर विभिन्न क्षेत्रों में देखने को मिल रहा है। मंगलवार शाम को जिले में विभिन्न क्षेत्रों में हलकी से मध्यम बारिश हुई। इस बारिश से जिलेभर में फॉल्ट आए।
इन फॉल्ट का सबसे ज्यादा असर जलदाय विभाग के सोर्स पर पड़ा। मंगलवार शाम से लेकर बुधवार सवेरे तक कई घंटों की अघोषित कटौती के चलते पेयजल सप्लाई चरमरा गई। एक तरफ इस बारिश से फॉल्ट से नर्मदा परियोजना से पानी की सप्लाई बंद हो गई।दूसरी तरफ पुराने स्रोतों पर भी पॉवर कट से यहां से भी पानी मिलना बंद हो गया। सूत्रों के अनुसार शहर की सप्लाई के सांफाड़ा फीडर पर मंगलवार शाम को बारिश शुरूहोने के दौरान बिजली आपूर्ति बंद हो गई। जिसके बाद रात 9 बजे आपूर्ति बहाल हो पाई।लेकिन देर रात 1 बजे के लगभग पुन: बिजली सप्लाई बंद हुई, जो सवेरे 11.30 बजे बहाल हो पाई। इसी तरह के हालात कुआबेर पर भी है। कुंआबेर पर बिजली आपूर्ति सवेरे 10.30 बजे बहाल हो पाई। इसी तरह सोनपुरा-पहाड़पुरा फीडर पर शाम 5 बजे से करीब 12 बजे आपूर्ति शुरूहो पाई।
शैड्यूल बिगड़ा
फॉल्ट से जालोर शहरी पेयजल आपूर्ति का शैड्यूल पूरी तरह से प्रभावित हुआ है। एक तरफ नर्मदा परियोजना से मंगलवार से आपूर्ति बंद है तो दूसरी तरफ ट्यूबवैल से भी पंपिंग नहीं हो पाई। विभागीय जानकारी के अनुसार अब इन हालातों में आगामी तीन से चार दिन तक हर क्षेत्र में पेयजल आपूर्ति प्रभावित रहेगी।
बागोड़ा पंपिंग स्टेशन के जीएसएस पर गड़बड़ी
इस बार जालोर शहर को दोहरे स्तर पर पेयजल संकट का सामना करना पड़ेगा। मंगलवार शाम को हुई बारिश से बागोड़ा में नर्मदा परियोजना के जीएसएस पर तकनीकी गड़बड़ी से बिजली आपूर्ति बंद हो गई। विभागीय जानकारी के अनुसार बारिश के दौरान यहां लाइटनिंग अरेस्टर खराब हो गया और इस हालात में सीटी-पीटी बॉक्स भी जल गया। यह बॉक्स बागोड़ा में मौजूद नहीं था।यह बॉक्स जालोर में मौजूद है।जालोर से इसे बागोड़ा ले जाया जा रहा है।ऐसे में बुधवार को भी दिनभर पंपिंग स्टेशन पर बिजली आपूर्ति बंद रही और इस हालात में जालोर तक पानी नहीं पहुंच पाया। विभागीय अधिकारियों का दावा है कि गुरुवार तक इस समस्या का समाधान कर दिया जाएगा और पानी की आपूर्ति बहाल हो जाएगी।वहीं यदि इसमें देरी हुई तो यह हालात जालोर में जल संकट को बढ़ाएंगे। लोगों को इन हालातों में टैंकरों से पानी मंगवाना पड़ेगा। गौरतलब है पिछले तीन सालों में शुरुआती बारिश में इस तरह के फॉल्ट आते रहे हैं और इससे मुख्य रूप से असर भी पेयजल आपूर्ति पर ही पड़ा है।
इनका कहना
मंगलवार शाम को बारिश के दौरान नर्मदा परियोजना के जीएसएस पर तकनीकी गड़बड़ी आई और लाइटनिंग अरेंस्टर भी खराब हो गया।हालांकि यह सिस्टम कैसे खराब हुआ अभी इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता। आमतौर पर बिजली कौंधने या गिरने पर यह सिस्टम खराब होता है। सीटी-पीटी जालोर से पहुंच रही है जल्द से जल्द आपूर्ति शुरू कर दी जाएगी।
- रमेश सेठ, एक्सईएन, डिस्कॉम, भीनमाल

Dharmendra Kumar Ramawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned