यहां जीएसएस पर कर लिए लाखों खर्च, पर 6 साल बाद भी बिजली शुरू नहीं कर पाए

Dharmendra Ramawat

Updated: 29 Mar 2019, 05:52:38 PM (IST)

jalore

हाड़ेचा. नेहड़ के दो दर्जन से अधिक गांवों में बिजली की समस्याओं से निजात दिलाने के लिए तत्कालीन सरकार के कार्यकाल में जोरादर ग्राम पंचायत के धींगपुरा व सुराचंद ग्राम पंचायत मुख्यालय पर बनवाए गए विद्युत जीएसएस को आज भी विद्युतीकरण का इंतजार है। ग्रामीणों ने बताया कि नेहड़ में हाड़ेचा से जुड़ी कई किलोमीटर लम्बी बिजली लाइनों में फॉल्ट समेत विभिन्न समस्याओं से निजात दिलाने के लिए 6 साल पूर्व सरवाना, दांतिया, धींगपुरा व सुराचंद जीएसएस का निर्माण करवाया गया था। ऐसे में दांतिया व सरवाना गांव के भोला की कुटी में तो 6 साल पूर्व जीएसएस को शुरू कर दिया गया, लेकिन नेहड़ के सीमांत गांवों को जोडऩे वाले धींगपुरा व सुराचंद जीएसएस को आज तक शुरू नहीं किया गया है। जिससे ग्रामीणों को विद्युत समस्याएं झेलनी पड़ रही है। ग्रामीणों ने बताया कि नेहड़ के धींगपुरा से जोडऩे वाले धींगपुरा, भवातड़ा, भाटकी, बालेरा, कुकडिय़ा, आकोडिय़ा व मंडाली सहित कई गांवों में बिजली लाइनों में फॉल्ट आने पर दो दिन तक सप्लाई बंद रहती है। ऐसे में विभागीय उदासीनता के चलते ग्रामीणों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं क्षेत्र के सुराचंद जीएसएस से जुड़े सुराचंद, संूथड़ी, सांकरिया, खेजडिय़ाली, मालासर व चामुण्डानगर सहित कई गांवों में आज भी ग्रामीण बिजली समस्याओं से जूझ रहे हैं। इसके बावजूद डिस्कॉम जनप्रतिनिधियों की अनदेखी से लोग परेशान हो रहे हैं। खेजडिय़ाली निवासी अरविंदकुमार पुरोहित व प्रतापनगर निवासी बाबूलाल मोदी ने बताया कि ये जीएसएस शुरू नहीं करने से नेहड़ के कई गांवों के लोग परेशान हैं। आचार संहिता से पूर्व लोगों ने जनप्रतिनिधियों को भी इस बारे में अवगत करवाया था फिर भी ना तो डिस्कॉम ने इसके प्रयास किए और ना ही जनप्रतिनिधियों ने। डिस्कॉम अधिशासी अभियंता एके सिन्हा ने बताया कि उन्हें इस क्षेत्र की अधिक जानकारी नहीं है, मामले की जानकारी लेकर नेहड़ के इन दो जीएसएस शुरू करवाने के प्रयास किए जाएंगे।
फॉल्ट आने पर दो दिन नहीं होती सप्लाई..
नेहड़ के सीमांत गांवों में लम्बी विद्युत लाइन व बबूल की झाडिय़ों के चलते अक्सर फॉल्ट आते रहते हैं। जिसके कारण कई बार दो-दो दिन तक गांवों में बिजली गुल रहती है। कइ बार लम्बी लाइन के चलते लाइनमैन फॉल्ट भी ढूंढ नहीं पाते हैं। साथ ही सीमांत गांवों में फॉल्ट आने पर हाड़ेचा जीएसएस से विद्युत सप्लाई बंद कर दी जाती है। जिससे गर्मी के दिनों में लोगों को खासी दिक्कत झेलनी पड़ती है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned