आवेदन से कमाए 6 करोड़, पड़त रह गए 3 समूह

शराब की दुकानों का 16 फीसदी आवेदन शुल्क से नवीनीकरण

By: Dharmendra Kumar Ramawat

Published: 10 Feb 2018, 11:58 AM IST

फैक्ट फाइल...
कुल समूह 124 व दुकानें 130
पड़त रहे समूह - 03
अंग्रेजी की कुल दुकानें - 13
जालोर शहर में 7 व भीनमाल में 6
जालोर. आबकारी बंदोबस्त के तहत 16 फीसदी आवेदन शुल्क जमा कर शराब की दुकानों का नवीनीकरण किया गया। इससे विभाग को छह करोड़ रुपए का राजस्व मिला। तीन समूहों के संचालकों ने नवीनीकरण में रुचि नहीं ली, जिससे पड़त रह गए। दुकान संचालन करने को लेकर ठेकेदारों में उत्साह बना रहा। कुछ दिन पहले ही आबकारी विभाग ने नवीनीकरण के आदेश जारी किए थे।इसके तहत आवेदन शुल्क जमा कराने को निर्देशित किया था। जिला आबकारी अधिकारी विनोद वैष्णव की देखरेख में नवीनीकरण की प्रक्रिया पूरी की गई। उन्होंने बताया कि पिछले कुछ दिनों से नवीनीकरण की प्रक्रिया चल रही थी।अंतिम समय तक तीन समूहों के अलावा सभी दुकानें व समूहों का नवीनीकरण हो गया। आवेदन शुल्क से कुल६ करोड़ तीन लाख 68 हजार 834 रुपए राजस्व अर्जित किया गया। आबकारी निरीक्षक सोमराज बिश्नोई समेत अन्य अधिकारी व कार्मिकों ने सेवाएं दी।
इसलिए रह जाती है पड़त
आमतौर पर नुकसान का सौदा साबित होने से ठेकेदार नवीनीकरण करवाने में रुचि नहीं लेते हैं।कई बार साझेदारी के मामले में भी परस्पर ठन जाने से नवीनीकरण नहीं हो पाता।ऐसे में निर्धारित समय गुजर जाता है। पड़त रह जाने वाले समूह या दुकानों को वापस आवंटन करने की आबकारी महकमे को मशक्कत करनी पड़ती है।
अब होगी 3 के लिए लॉटरी
नवीनीकरण प्रक्रिया में पड़त रह जाने वाले तीन समूहों के लिए अब महकमे को लॉटरी प्रक्रिया करनी होगी।इसके लिए आवेदन आमंत्रित किए जाएंगे। नई दुकानों व समूहों का संचालन नए वित्तीय वर्ष से शुरू होगा।
बंदोबस्त किया है...
इस बार आगामी वित्तीय वर्ष के लिए विभाग की ओर से शराब की दुकानों व समूहों का नवीनीकरण किया गया है। इससे छह करोड़ तीन लाख रुपए राजस्व अर्जित किया है।पड़त रहे तीन समूहों का आवंटन किया जाएगा।
-विनोद वैष्णव, जिला आबकारी अधिकारी, जालोर

Dharmendra Kumar Ramawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned