पानी की मांग को लेकर किसानों का धरना जारी, 6 जने भूख हड़ताल पर

नर्मदा नहर में 2200 क्यूसेक पानी छोडऩे की मांग को लेकर नर्मदा मुख्यालय के समक्ष किसानों के साथ स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने गुजरात के सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर भूख हड़ताल दूसरे दिन भी जा

By: Dharmendra Kumar Ramawat

Published: 16 Dec 2020, 10:55 AM IST

सांचौर. नर्मदा नहर में 2200 क्यूसेक पानी छोडऩे की मांग को लेकर नर्मदा मुख्यालय के समक्ष किसानों के साथ स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने गुजरात के सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर भूख हड़ताल दूसरे दिन भी जारी रखी। इस दौरान भूख हड़ताल पर बैठे लोगों की मेडिकल टीम ने स्वास्थ्य जांच भी की। धरनार्थियों ने अधिकारी को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया। ज्ञापन में बताया कि नर्मदा नहर परियोजना से राजस्थान के जालोर जिले की संाचौर व चितलवाना, बाड़मेर जिले की गुड़ामालानी, चौहटन व सेड़वा तहसील में सिंचाई की जाती है। इस परियोजना में गुजरात राज्य व राजस्थान राज्य में समझौते के अनुसार 2200 क्यूसेक पानी उपलब्ध करवाना था। जबकि गुजरात सरकार की ओर से नर्मदा नहर में राजस्थान के हिस्से में से महज 1000 क्यूसेक ही पानी दिया जा रहा है। जिसकी वजह से मुख्य कैनाल सहित वितरिकाओं, माइनरों व सब माइनरों में पानी नहीं पहुंच रहा है। ऐसे में किसान रबी की सीजन में सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं। ऐसी विकट परिस्थति में किसानों को तैयार किए गए खेतों में बीज डालकर लगाए गए लाखों रुपए का नुकसान उठाना पड़ रहा है। उन्होंने ज्ञापन में बताया कि गुजरात सरकार की ओर से पानी नहीं देने से किसान बैंकों से लिया गया ऋण समय पर नहीं चुका पाने से कर्जदार होने के कगार पर हैं। इसको लेकर समस्याओं का समाधान नहीं होने तक उनका धरना जारी रहेगा। इस दौरान डॉ. भूपेन्द्र बिश्नोई ने कहा कि गुजरात सरकार जानबूझकर राज्य के हिस्से का पानी नहीं दे रही है। जिससे किसानों को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। जबकि इस मामले को लेकर गुजरात सरकार को कई बार पत्र व्यवहार करने के बावजूद कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। गुजरात सरकार से सचिव स्तर की वार्ता भी होने के बावजूद राज्य के हिस्से का पानी देने को लेकर भेदभाव किया जा रहा है। जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जब तक पूरा पानी नहीं दिया जाता तब तक धरना जारी रहेगा।
6 जने भूख हड़ताल पर 220 क्रमिक अनशन पर
किसानों के साथ कांग्रेस नेताओं की ओर से किए जा रहे धरना प्रदर्शन में हिंदूसिंह दूठवा, जगदीश गोदारा, खिंयाराम गिरधरधोरा, किशनाराम गिरधधोरा, बाबूलाल मेघवाल व मसराराम पुरोहित धमाणा ने अनिश्चिकालीन भूख हड़ताल शुरू की। वहीं सुमार, जमाल, वशी कमर, पूराराम, भाखराराम, हरीराराम, मोहनलाल, प्रभुराम, आसुराम, बाबूलाल बिश्नोई, जयकिशन साहू, हेमाराम, पबसिंह, लाखाराम जाट, अजमलराम, रमेश, वरजांगाराम, प्रहलादराम, प्रेमाराम, भंवर सियाग, हुसैन, पीराराम व सेंधाराम सहित करीब 220 लोग क्रमिक अनशन पर रहे। भूख हड़ताल पर बैठने वाले लोगों का डॉ. बिश्नोई ने माला पहनाकर स्वागत किया।

Dharmendra Kumar Ramawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned