बढ़ती सर्दी से इसलिए बढ़ती जा रही किसानों की उम्मीदें


सर्दी से रबी फसल अच्छी होने की उम्मीद बंधी है।

By: khushal bhati

Published: 08 Dec 2019, 11:10 AM IST

भीनमाल. जिलेभर में सप्ताहभर से सर्दी बढऩे के साथ ही खेत-खलिहानों में खड़ी रबी की फसलें लहलहा उठी है। सर्दी चमकने से रबी की फसलों में फूल खिलने लगे है। रात में जोरदार सर्दी व दिन में गुलाबी ठंडक से रबी की फसलों के लिए यह मौसम वरदान साबित हो रहा है। यह सर्दी रबी की फसलों को काफी ज्यादा फायदा पहुंचा रही है। सर्दी बढऩे के साथ ही एकाएक करीब करीब सभी फसलों के लिए फायदा होगा। किसानों का कहना है कि सर्दी पडऩे से प्रकाश संश्लेषण क्रिया अच्छी होती है। जिससे रबी के सभी फसलों में वानस्पतिक वृद्धि होती है। वानस्पतिक वृद्वि से फसलों में पत्ते हरे भरे होते है। जिससे फसलों में फूल आने शुरु होते है। रबी की फसलों के लिए सर्दी पडऩा जरुरी है। किसानों का कहना है कि रात में सर्दी पडऩे व दिन में चटक धूप खिलने से फसल उत्पादन काफी अच्छा होता है। सर्दी बढऩे से जीरे व इसबगोल की फसल भी जल्दी अंकुरित होगी। कृषि विस्तार विभाग के अधिकारियों का कहना है कि सर्दी बढऩे से रबी की फसलों में वानस्पतिक वृद्धि होगी। पौधों में फूटन व फूल आएगे। आगे ऐसे ही मौसम रहा तो, फसलों से उत्पादन भी अच्छा मिलेगा।
एक माह देरी से हुई बुवाई
इस साल तापमान अधिक होने से रबी की फसल बुवाई करीब 15-20 दिन देरी से हुई है। इसी तरह से जीरे की फसल भी नवंबर माह में बुवाई शुरु हो जाती है, लेकिन जीरा भी करीब एक माह की देरी से बुवाई हुआ है। रबी फसल की देरी से बुवाई होने से उत्पादन पर काफी असर पड़ता है। किसानों का कहना है कि सर्दी बढऩे से खासकर गेहूं व सरसो की फसल को फायदा हो रहा है।
फसलों के लिए अच्छी
इन दिनों पड़ रही सर्दी रबी की फसलों के लिए काफी फायदेमंद है। इस सर्दी से रबी की फसलों की काफी ग्रोथ होगी। रात में सर्दी पडऩे व दिन में धूप खिलने से फसल को वानस्पतिक वृद्वि होती है। इससे फसलों में फूल आने शुरु हो जाते है।
हरिश शर्मा, कृषि पर्यवेक्षक, कृषि विस्तार विभाग-भीनमाल

khushal bhati Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned